Tuesday, November 30, 2021
Homeराजनीतिगुजरात: 2000 किलो नमकीन चट कर गए कॉन्ग्रेस विधायक-समर्थक, अब दुकानदार को नहीं दे...

गुजरात: 2000 किलो नमकीन चट कर गए कॉन्ग्रेस विधायक-समर्थक, अब दुकानदार को नहीं दे रहे पैसा

विधायक पूनम भाई परमार ने 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान अमित भाई राना से नमकीन लिया था। लेकिन, डेढ़ साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी दुकानदार का 4,75,000 रुपए का भुगतान नहीं किया है।

लाखों की कार खरीदने के लिए चंदा मॉंगने वाली कॉन्ग्रेस सांसद के बाद अब गुजरात से पार्टी के एक विधायक 2,000 किलो नमकीन का भुगतान नहीं करने को लेकर चर्चा में हैं। कॉन्ग्रेस विधायक पूनम भाई परमार ने 2017 विधानसभा चुनाव के दौरान आनंद के दुकानदार अमित भाई राना से नमकीन लिया था। लेकिन, डेढ़ साल से ज्यादा समय बीत जाने के बाद भी दुकानदार का 4,75,000 रुपए का भुगतान नहीं किया है।

पत्रकार जनक दवे ने एक पत्र ट्वीट कर यह जानकारी सार्वजनिक की है। माना जा रहा है कि बकाए के भुगतान के लिए दुकानदार ने यह चिट्ठी कॉन्ग्रेस विधायक को लिखी है।

पत्र के मुताबिक परमार ने 2,000 किलो चावना (एक तरह का गुजराती नमकीन) 65 रुपए प्रति किलो के भाव से खरीदा था। दुकानदार के मुताबिक इसका 4,75,020 रुपए अभी भी बकाया है। 29 नवंबर 2017 के इस बिल का नंबर 507 है।

दुकानदार के मुताबिक पैसा मॉंगने पर परमार ने 20 दिसंबर 2017 को उसे एक चेक दिया, लेकिन बैंक में जमा नहीं करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि वे नकद भुगतान कर देंगे। चुनाव खत्म होने के बाद उसने कई बार अपने पैसे मॉंगे।

अमित भाई ने कहा है, “आपने अप्रैल 2019 में मुझे दो लाख रुपए दिए और बकाया रुपए दो-तीन महीने में देने का भरोसा दिलाया। मैंने आपको कई बार बताया है कि मेरी आर्थिक स्थिति फिलहाल कमजोर है। मैं अपने बच्चों का स्कूल फी देने में भी सक्षम नहीं हूॅं।”

दुकानदार का कहना है कि यदि उसे बकाया पैसा नहीं मिला तो वह कॉन्ग्रेस विधायक के घर के बाहर परिवार के साथ उपवास पर बैठ जाएगा।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe