Thursday, June 13, 2024
Homeराजनीतिनायब सिंह सैनी बने हरियाणा के नए CM, खट्टर का पैर छूकर लिया आशीर्वाद:...

नायब सिंह सैनी बने हरियाणा के नए CM, खट्टर का पैर छूकर लिया आशीर्वाद: बनवारी लाल, रणजीत चौटाला सहित 4 विधायकों ने ली मंत्री पद की शपथ

हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं कुरुक्षेत्र से सांसद नायब सिंह सैनी ने मंगलवार (12 मार्च 2024) को सीएम पद की शपथ ली। उन्होंने चंडीगढ़ में स्थित राजभवन में अपने कैबिनेट के साथ शपथ ली। इस शपथ ग्रहण समारोह में खट्टर सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे दुष्यंत चौटाला की पार्टी जननायक जनता पार्टी (JJP) के भी चार विधायक मौजूद रहे।

हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष एवं कुरुक्षेत्र से सांसद नायब सिंह सैनी ने मंगलवार (12 मार्च 2024) को सीएम पद की शपथ ली। उन्होंने चंडीगढ़ में स्थित राजभवन में अपने कैबिनेट के साथ शपथ ली। इस शपथ ग्रहण समारोह में खट्टर सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे दुष्यंत चौटाला की पार्टी जननायक जनता पार्टी (JJP) के भी चार विधायक मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद नायब सैनी ने पूर्व मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर के पैर छुए और उनका आशीर्वाद लिया। सीएम सैनी के साथ जिन विधायकों ने मंत्री पद की शपथ ली, उनमें डॉक्टर बनवारी लाल भी शामिल हैं। हरियाणा के बावल से विधायक बनवारी लाल खट्टर सरकार में सहकारिता एवं जनस्वास्थ्य मंत्री रह चुके हैं और हरियाणा सरकार में अनुसूचित वर्ग के मुख्य चेहरा थे।

जगाधरी से विधायक कंवरपाल गुज्जर भी मंत्री बनाए गए हैं। हरियाणा के यमुनानगर जिले के रहने वाले कंवरपाल शिक्षा मंत्री और वन मंत्री रह चुके हैं। इसके अलावा, वह हरियाणा विधानसभा के स्पीकर भी रह चुके हैं। लोहारू सीट से भाजपा विधायक जयप्रकाश दलाल भी मंत्री बने हैं। वे साल 2014 में भाजपा में शामिल हुए थे और पूर्व में मंत्री रह चुके हैं।

खट्टर सरकार में परिवहन एवं खनन मंत्री रहे बल्लभगढ़ से भाजपा विधायक मूलचंद शर्मा ने भी मंत्री पद की शपथ ली है। वे दूसरी बार विधायक बने थे। इसके अलावा, खट्टर सरकार में ऊर्जा और बिजली मंत्री रहे रणजीत सिंह चौटाला ने भी मंत्री पद की शपथ ली है। वह रनिया सीट से निर्दलीय विधायक हैं। रणजीत पूर्व उप प्रधानमंत्री देवीलाल के पुत्र और इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला के भाई हैं।

नायब सिंह सैनी का जन्म अम्बाला के छोटे से गाँव मिर्ज़ापुर में 25 जनवरी 1970 को हुआ। सैनी उनकी माँ पंजाबी और पिता हरियाणवी हैं। उनकी माँ का नाम कुलवंत कौर हैं और उनके पिता का नाम तेलु राम सैनी है। स्कूली पढ़ाई पूरी करने के बाद नायब सिंह ने बिहार के बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर विश्वविद्यालय से अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की है।

ग्रेजुएशन के बाद नायब सिंह सैनी उत्तर प्रदेश आ गए। उन्होंने उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्थित चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री हासिल की। पढ़ाई पूरी करने के बाद वे राजनीतिक की ओर बढ़े और RSS जुड़े। कुछ साल बाद वे भाजपा में शामिल हो गए। साल 2014 में नायब सिंह सैनी ने अंबाला जिले की नारायणगढ़ सीट से पहली बार विधायक चुने गए।

उन्होंने लगभग 24 हजार वोटों से चुनाव जीता। इसके बाद साल 2019 में वे कुरुक्षेत्र सीट से लोकसभा सांसद के तौर पर संसद पहुँचे। इस चुनाव में उन्हें 6 लाख 88 हजार 629 वोट मिले थे। इसी दौरान अक्टूबर 2023 में उन्हें हरियाणा का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। अब वे सीएम बन गए हैं।

अबसे कुछ देर पहले ही नायब सिंह सैनी और उनके मंत्रीमंडल के सदस्यों ने राजभवन में शपथ ली। कुल 90 सीटों वाले हरियाणा में भाजपा के 41 विधायक हैं और 6 निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिला है। इस तरह 10 विधायकों वाले जेजेपी से अलग होने के बाद भाजपा ने 47 विधायकों के साथ एक बार फिर से सरकार बनाई है। 

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -