Wednesday, April 24, 2024
Homeदेश-समाजओवैसी, वारिस पठान, कपिल मिश्रा पर भड़काऊ बयान देने के मामले में तेलंगाना पुलिस...

ओवैसी, वारिस पठान, कपिल मिश्रा पर भड़काऊ बयान देने के मामले में तेलंगाना पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

गृह मंत्री अमित शाह ने हेट स्पीच पर बोलते हुए कहा कि 14 दिसंबर को रामलीला मैदान में 1 पार्टी ने एंटी CAA रैली की, उसमें पार्टी की अध्यक्ष महोदया भाषण में कहती हैं कि घर से बाहर निकलो, आर-पार की लड़ाई करों, अस्तित्व का सवाल है। उसके बाद उनके एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि अभी नहीं निकलोगे तो कायर कहलाओगे। ये हेट स्पीच नहीं है तो क्या है?

नागरिकता कानून संशोधन कानून के खिलाफ लगातार उकसावे वाले और भड़काऊ बयान देने के मामले में तेलंगाना पुलिस ने AIMIM लीडर असदुद्दीन ओवैसी, उसकी पार्टी के प्रवक्ता वारिस पठान और भाजपा नेता कपिल मिश्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। इन तीनों नेताओं के खिलाफ यह कार्यवाही बालकिशन राव नामधारी की शिकायत के बाद की गई है। बालकिशन नामधारी ने गुरुवार को यह शिकायत दी थी। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली समेत पूरे देश में अलग-अलग जगहों पर उपद्रव और दंगे करने की कोशिश हुई, जिसमें दिल्ली में भड़के एंटी हिन्दू दंगे भी शामिल हैं जिसमें 50 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।

दिल्ली के इन दंगों और नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ होते पिछले तीन महीनों के उपद्रवों और फसादों के पीछे विपक्षी दलों की भड़काऊ बयानबाजी का सबसे महत्त्वपूर्ण रोल रहा है। पहले कॉन्ग्रेस की सोनिया गाँधी आदि का “आर-पार” की लड़ाई जैसे बयान आए, जिसमें उन्होंने सीएएए का विरोध करने के लिए सड़क पर उतरने की बात कही थी। साथ ही कहा था कि कॉन्ग्रेस इस तरह का विरोध करने वाले लोगों के साथ खड़ी है।

हाल ही में संसद में भी भड़काऊ बयानों (Hate Speech) को लेकर भी सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर बहस हुई, जिसके दौरान बीजेपी नेताओं ने दिल्ली के हिन्दू विरोधी दंगों को कपिल मिश्रा के माथे फोड़ने का जोरदार विरोध किया। गृह मंत्री अमित शाह ने हेट स्पीच पर बोलते हुए कहा कि 14 दिसंबर को रामलीला मैदान में 1 पार्टी ने एंटी CAA रैली की, उसमें पार्टी की अध्यक्ष महोदया भाषण में कहती हैं कि घर से बाहर निकलो, आर-पार की लड़ाई करों, अस्तित्व का सवाल है। उसके बाद उनके एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि अभी नहीं निकलोगे तो कायर कहलाओगे। ये हेट स्पीच नहीं है तो क्या है? शाह ने वारिश पठान पर भी निशाना साधा और कहा कि जो यह कहता हो 15 करोड़ 100 करोड़ पर भारी हैं तो ये क्या है? उन्होंने यह भी कहा कि शाहीन बाग का धरना कपिल मिश्रा के बयान के बाद से नहीं बल्कि उससे बहुत पहले यानी की 15 दिसंबर से जारी है।

याद रहे कि दिल्ली में हिन्दू विरोधी दंगे फैलने के बाद भाजपा नेता कपिल मिश्रा का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वे पुलिस के सामने ही कह रहे थे कि अगर ट्रम्प की वापसी तक सड़क खाली नहीं हुई तो वे लोग सड़क पर उतरेंगे। जिसे विपक्ष ने दंगे भड़काने वाली घृणात्मक बयानबाजी बताया था। जबकि सरकार ने उनका बचाव करते हुए सोनिया गांधी, असदुद्दीन ओवैसी, वारिस पठान सहित शरजील इमाम आदि के बयानों की याद दिलाई थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आपकी मौत के बाद जब्त हो जाएगी 55% प्रॉपर्टी, बच्चों को मिलेगा सिर्फ 45%: कॉन्ग्रेस नेता सैम पित्रोदा का आइडिया

कॉन्ग्रेस नेता सैम पित्रोदा ने मृत्यु के बाद सम्पत्ति जब्त करने के कानून की वकालत की है। उन्होंने इसके लिए अमेरिकी कानून का हवाला दिया है।

‘नरेंद्र मोदी ने गुजरात CM रहते मुस्लिमों को OBC सूची में जोड़ा’: आधा-अधूरा वीडियो शेयर कर झूठ फैला रहे कॉन्ग्रेसी हैंडल्स, सच सहन नहीं...

पहले ही कलाल मुस्लिमों को OBC का दर्जा दे दिया गया था, लेकिन इसी जाति के हिन्दुओं को इस सूची में स्थान पाने के लिए नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्री बनने तक का इंतज़ार करना पड़ा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe