Wednesday, April 14, 2021
Home देश-समाज ओवैसी, वारिस पठान, कपिल मिश्रा पर भड़काऊ बयान देने के मामले में तेलंगाना पुलिस...

ओवैसी, वारिस पठान, कपिल मिश्रा पर भड़काऊ बयान देने के मामले में तेलंगाना पुलिस ने दर्ज की एफआईआर

गृह मंत्री अमित शाह ने हेट स्पीच पर बोलते हुए कहा कि 14 दिसंबर को रामलीला मैदान में 1 पार्टी ने एंटी CAA रैली की, उसमें पार्टी की अध्यक्ष महोदया भाषण में कहती हैं कि घर से बाहर निकलो, आर-पार की लड़ाई करों, अस्तित्व का सवाल है। उसके बाद उनके एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि अभी नहीं निकलोगे तो कायर कहलाओगे। ये हेट स्पीच नहीं है तो क्या है?

नागरिकता कानून संशोधन कानून के खिलाफ लगातार उकसावे वाले और भड़काऊ बयान देने के मामले में तेलंगाना पुलिस ने AIMIM लीडर असदुद्दीन ओवैसी, उसकी पार्टी के प्रवक्ता वारिस पठान और भाजपा नेता कपिल मिश्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है। इन तीनों नेताओं के खिलाफ यह कार्यवाही बालकिशन राव नामधारी की शिकायत के बाद की गई है। बालकिशन नामधारी ने गुरुवार को यह शिकायत दी थी। बता दें कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर दिल्ली समेत पूरे देश में अलग-अलग जगहों पर उपद्रव और दंगे करने की कोशिश हुई, जिसमें दिल्ली में भड़के एंटी हिन्दू दंगे भी शामिल हैं जिसमें 50 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।

दिल्ली के इन दंगों और नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ होते पिछले तीन महीनों के उपद्रवों और फसादों के पीछे विपक्षी दलों की भड़काऊ बयानबाजी का सबसे महत्त्वपूर्ण रोल रहा है। पहले कॉन्ग्रेस की सोनिया गाँधी आदि का “आर-पार” की लड़ाई जैसे बयान आए, जिसमें उन्होंने सीएएए का विरोध करने के लिए सड़क पर उतरने की बात कही थी। साथ ही कहा था कि कॉन्ग्रेस इस तरह का विरोध करने वाले लोगों के साथ खड़ी है।

हाल ही में संसद में भी भड़काऊ बयानों (Hate Speech) को लेकर भी सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच जमकर बहस हुई, जिसके दौरान बीजेपी नेताओं ने दिल्ली के हिन्दू विरोधी दंगों को कपिल मिश्रा के माथे फोड़ने का जोरदार विरोध किया। गृह मंत्री अमित शाह ने हेट स्पीच पर बोलते हुए कहा कि 14 दिसंबर को रामलीला मैदान में 1 पार्टी ने एंटी CAA रैली की, उसमें पार्टी की अध्यक्ष महोदया भाषण में कहती हैं कि घर से बाहर निकलो, आर-पार की लड़ाई करों, अस्तित्व का सवाल है। उसके बाद उनके एक वरिष्ठ नेता कहते हैं कि अभी नहीं निकलोगे तो कायर कहलाओगे। ये हेट स्पीच नहीं है तो क्या है? शाह ने वारिश पठान पर भी निशाना साधा और कहा कि जो यह कहता हो 15 करोड़ 100 करोड़ पर भारी हैं तो ये क्या है? उन्होंने यह भी कहा कि शाहीन बाग का धरना कपिल मिश्रा के बयान के बाद से नहीं बल्कि उससे बहुत पहले यानी की 15 दिसंबर से जारी है।

याद रहे कि दिल्ली में हिन्दू विरोधी दंगे फैलने के बाद भाजपा नेता कपिल मिश्रा का एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें वे पुलिस के सामने ही कह रहे थे कि अगर ट्रम्प की वापसी तक सड़क खाली नहीं हुई तो वे लोग सड़क पर उतरेंगे। जिसे विपक्ष ने दंगे भड़काने वाली घृणात्मक बयानबाजी बताया था। जबकि सरकार ने उनका बचाव करते हुए सोनिया गांधी, असदुद्दीन ओवैसी, वारिस पठान सहित शरजील इमाम आदि के बयानों की याद दिलाई थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुंबई में हो क्या रहा है! बिना टेस्ट ₹300 में कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट, ₹10000 देकर क्वारंटाइन से मिल जाती है छुट्टी: रिपोर्ट

मिड डे ने मुंबई में कोरोना की आड़ में चल रहे एक और भ्रष्टाचार को उजागर किया है। बिना टेस्ट पैसे लेकर RT-PCR नेगेटिव रिपोर्ट मुहैया कराई जा रही है।

कर्फ्यू का ऐलान होते ही महाराष्ट्र से प्रवासी मजदूरों की वापसी शुरू: स्टेशनों पर खचाखच भीड़, चलाई जा रही अतिरिक्त ट्रेनें

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात 8 बजे से अगले 15 दिनों तक धारा 144 लागू रहेगी। इसे देखते हुए प्रवासी मजदूर फिर से अपने घरों को लौटने लगे हैं।

महाराष्ट्र में 14 अप्रैल की रात से धारा 144 के साथ ‘Lockdown’ जैसी सख्त पाबंदियाँ, उद्धव को बेस्ट CM बताने में जुटे लिबरल

महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने राज्य में कोरोना की बेकाबू होती रफ्तार पर काबू पाने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है। उन्होंने पीएम से अपील की है कि राज्य में विमान से ऑक्सीजन भेजी जाए। टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाई जाए।

पाकिस्तानी पाठ्यपुस्तकों में पढ़ाया जा रहा काफिर हिंदुओं से नफरत की बातें: BBC उर्दू डॉक्यूमेंट्री में बच्चों ने किया बड़ा खुलासा

वीडियो में कई पाकिस्तानी हिंदुओं को दिखाया गया है, जिन्होंने पाकिस्तान में स्कूल की पाठ्यपुस्तकों में हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा की तरफ इशारा किया है।

‘पेंटर’ ममता बनर्जी को गुस्सा क्यों आता है: CM की कुर्सी से उतर धरने वाली कुर्सी कब तक?

पिछले 3 दशकों से चुनावी और राजनीतिक हिंसा का दंश झेल रही बंगाल की जनता की ओर से CM ममता को सुरक्षा बलों का धन्यवाद करना चाहिए, लेकिन वो उनके खिलाफ जहर क्यों उगल रही हैं?

यूपी के 15,000 प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूल हुए अंग्रेजी मीडियम, मिशनरी स्कूलों को दे रहे मात

उत्तर प्रदेश के प्राथमिक विद्यालयों के बच्चे भी मिशनरी व कांवेंट स्कूलों के छात्रों की तरह फर्राटेदार अंग्रेजी बोल सकें। इसके लिए राज्य के 15 हजार स्कूलों को अंग्रेजी मीडियम बनाया गया है, जहाँ पढ़ कर बच्चे मिशनरी स्कूल के छात्रों को चुनौती दे रहे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

292,985FansLike
82,188FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe