Howdy Modi कार्यक्रम में 50,000 लोगों को सम्बोधित कर रहे हैं मोदी-ट्रम्प, देखें लाइव Video

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सम्मान में आयोजित इस कार्यक्रम में कुल 50,000 लोग हिस्सा ले रहे हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री ने एनर्जी कैपिटल ह्यूस्टन में एनर्जी सेक्टर के सीईओ से मुलाकात की और 50 लाख...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अमेरिका के ह्यूस्टन में ‘हाउडी मोदी’ नामक कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे हैं। इस कार्यक्रम की तैयारी कई दिनों से चल रही थी। कार्यक्रम में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी हिस्सा ले रहे हैं और उनका भी सम्बोधन होगा। पूरे कार्यक्रम को आप नीचे संलग्न किए गए वीडियो में लाइव देख सकते हैं:

ह्यूस्टन में आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में मोदी और ट्रम्प का सम्बोधन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सम्मान में आयोजित इस कार्यक्रम में कुल 50,000 लोग हिस्सा ले रहे हैं। एनआरजी स्टेडियम में आयोजित इस समारोह में कई रंगारंग कार्यक्रम भी होंगे। इससे पहले प्रधानमंत्री ने एनर्जी कैपिटल ह्यूस्टन में एनर्जी सेक्टर के सीईओ से मुलाकात की और 50 लाख टन के एलएनजी करार पर हस्ताक्षर किया गया। पीएम मोदी ने कश्मीरी पंडितों और बोहरा समुदाय के लोगों सहित भारतीय समुदाय से मुलाक़ात की

ज्ञात हो कि 24 सितम्बर को बिल गेट्स फाउंडेशन द्वारा पीएम मोदी को सम्मानित किया जाएगा। उसी दिन वह अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प से दोबारा मुलाक़ात भी करेंगे। ह्यूस्टन से न्यू यॉर्क रवाना होने से पहले पीएम मोदी अमेरिकी कॉन्ग्रेस के सदस्यों से भी बातचीत करेंगे। उनके कार्यक्रम में कई अमेरिकी नेता भी शामिल हो रहे हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

बता दें कि ह्यूस्टन अमेरिकी प्रान्त टेक्सास के एक शहर है, जहाँ बड़ी संख्या में भारतीय मूल के लोग रहते हैं। पिछली बार जब न्यू यॉर्क में पीएम मोदी ने ऐसे ही कार्यक्रम में हिस्सा लिया था, तब 18,000 लोगों ने शिरकत की थी। इस लिहाज से यह उससे भी बहुत बड़ा कार्यक्रम है। अमेरिका में राष्ट्रपति चुनाव होने हैं और ट्रम्प के लिए भी भारतीय मूल के वोटरों को लुभाने का यह अच्छा मौक़ा है। ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब दो विशाल लोकतंत्र के नेता किसी रैली को एक साथ सम्बोधित करेंगे।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी हत्याकांड
आपसी दुश्मनी में लोग कई बार क्रूरता की हदें पार कर देते हैं। लेकिन ये दुश्मनी आपसी नहीं थी। ये दुश्मनी तो एक हिंसक विचारधारा और मजहबी उन्माद से सनी हुई उस सोच से उत्पन्न हुई, जहाँ कोई फतवा जारी कर देता है, और लाख लोग किसी की हत्या करने के लिए, बेखौफ तैयार हो जाते हैं।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

107,076फैंसलाइक करें
19,472फॉलोवर्सफॉलो करें
110,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: