कॉन्ग्रेस की महिला मंत्री ने कहा- महिला ठीक हो तो गुंडा-मवाली पुरुष भी गलती नहीं करता

"अक्सर इन मामलों में महिलाओं की गलती होती है, लेकिन तब भी पुरुषों को ही दोषी माना जाता है। उन्होंने कहा कि अगर पुरुष को गलत तरीके से फँसाया जाए तो हमें ऐसी महिलाओं की तरफदारी नहीं करनी चाहिए।"

अपने विवादित बयानों को लेकर अक्सर चर्चा में रहने वाली मध्य प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने हनी ट्रैप मामले में अजीबोगरीब बयान दिया है। हनीट्रैप मामले में शामिल महिलाओं पर हुई कार्रवाई पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि ऐसी महिलाओं की तरफदारी नहीं की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब तक महिला गलती नहीं करती कोई पुरुष गलती नहीं कर सकता। चाहे वह कोई गुंडा या मवाली ही क्यों न हो।

इस तरह का बयान देकर वो एक तरह से पुरुषों का समर्थन करती नज़र आईं। रविवार (अक्टूबर 13, 2019) को इंदौर में इमरती देवी ने कहा कि ऐसे मामलों में महिलाओं की गलती होती है और पुरुषों को दोषी मान लिया जाता है। मैं ऐसी महिलाओं की तरफदारी नहीं करती। इस मामले में पुरुषों पर कार्रवाई नहीं होनी चाहिए, बल्कि महिलाओं के खिलाफ ही कार्रवाई की जानी चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि अक्सर इन मामलों में महिलाओं की गलती होती है, लेकिन तब भी पुरुषों को ही दोषी माना जाता है। उन्होंने कहा कि अगर पुरुष को गलत तरीके से फँसाया जाए तो हमें ऐसी महिलाओं की तरफदारी नहीं करनी चाहिए।

बता दें कि मध्य प्रदेश के हनी ट्रैप कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है। इस मामले की जाँच में एक के बाद एक परतें उघड़ती जा रही हैं और जो तस्वीर उभर रही है, वह और ज्यादा चौंकाने वाली है। इस मामले में पकड़ी गईं महिलाओं के मोबाइल, लैपटॉप और पेन ड्राइव सहित बड़ी संख्या में वीडियो क्लिपिंग मिली हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उल्लेखनीय है कि इमरती देवी इससे पहले भी कई विवादित बयान दे चुकी हैं। अभी कुछ दिन पहले महिला एवं बाल विकास मंत्री इमरती देवी ने कहा था कि डॉक्टर्स के ट्रांसफर में पैसे लगते हैं इसलिए उनका ट्रांसफर न कराकर सस्पेंड कर देते हैं। इससे पहले शिवपुरी के एक स्कूल में शौचालय के अंदर बच्चों के लिए खाना पकाए जाने के मामले में उन्होंने कहा था कि इसमें समस्या क्या है। शौचालय की सीट और चूल्हे के बीच पार्टिशन है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सोनिया गाँधी
शिवसेना हिन्दुत्व के एजेंडे से पीछे हटने को तैयार है फिर भी सोनिया दुविधा में हैं। शिवसेना को समर्थन पर कॉन्ग्रेस के भीतर भी मतभेद है। ऐसे में एनसीपी सुप्रीमो के साथ उनकी आज की बैठक निर्णायक साबित हो सकती है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,489फैंसलाइक करें
23,092फॉलोवर्सफॉलो करें
121,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: