Monday, August 2, 2021
HomeराजनीतिPok पर पाक को इशारा: गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद का हाल बता रहा भारत का...

Pok पर पाक को इशारा: गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद का हाल बता रहा भारत का मौसम विभाग

मौसम विभाग ने इन दोनों क्षेत्रों को जम्मू-कश्मीर सब-डिवीजन का हिस्सा बताते हुए उत्तर-पश्चिम भारत की मौसम भविष्यवाणी सूची में जोड़ लिया है। मौसम विभाग के नए क्षेत्र की सूची में अभी बीते 3 मई से आगामी 10 मई तक के मौसम की पूर्वानुमान जानकारी उपलब्ध है।

भारत सरकार ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) और गिलगित-बाल्टिस्तान को लेकर एक बड़ा फैसला लिया है। देश में मौसम का पूर्वानुमान बताने वाली संस्था भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने अपने पूर्वानुमान सूची में गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद को शामिल किया है।

भारतीय मौसम विभाग (India Meteorological Department-IMD) ने पूरे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लिए मौसम की जानकारी जारी की है। IMD के डायरेक्टर जनरल मृत्युंजय महापात्रा ने बताया कि गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद को भी मौसम बुलेटिन में शामिल किया गया है।

उन्होंने कहा कि ये भी भारत के हिस्से हैं इसलिए हमने इन्हें मौसम बुलेटिन में शामिल किया है।

आईएमडी के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा ने मीडिया से बातचीत में कहा कि भारतीय मौसम विज्ञान विभाग पूरे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र के लिए मौसम बुलेटिन जारी कर रहा है।

उन्होंने कहा कि इस बुलेटिन में गिलगित-बाल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद का भी उल्लेख है, क्योंकि यह भारत का हिस्सा है। उल्लेखनीय है कि हाल ही में पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट ने गिलगित-बाल्टिस्तान में चुनाव कराने को मँजूरी दी थी। इसके लिए पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से 2018 के एक कानून में संशोधन और वहाँ चुनाव कराने के निर्देश दिए थे। 

इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने कड़ी आपत्ति जताई थी। भारत ने पाकिस्तान से साफ तौर पर कहा था कि केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख जिसमें गिलगित-बाल्टिस्तान भी शामिल हैं और वह पूरी तरह से कानूनी और अपरिवर्तनीय विलय के तहत भारत का अभिन्न अंग है।

विदेश मंत्रालय ने बहुत सख्त संदेश में पाकिस्तान से कहा है कि पाकिस्तान को गिलगित-बाल्टिस्तान को तुरंत खाली करना चाहिए। विदेश मंत्रालय ने कहा, “चूंकि गिलगित-बाल्टिस्तान भारत का अभिन्न हिस्सा है, लिहाजा पाकिस्तान इसे फौरन खाली कर दे। उसका यहाँ कब्जा गैरकानूनी है। हमने पाकिस्तान के एक सीनियर डिप्लोमेट को तलब कर उन्हें अपना पक्ष बता दिया है।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘रिस्क है, भारत काम नहीं देगा’: Pak के कश्मीर लीग में नहीं खेलेंगे मोंटी पनेसर, BCCI के बाद ECB ने भी चेताया

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर मोंटी पनेसर ने पाकिस्तान द्वारा आयोजित किए जा रहे 'कश्मीर प्रीमियर लीग (KPL)' में हिस्सा नहीं लेने का फैसला लिया है।

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,549FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe