Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिदेश विरोधी एजेंडा फैलाने वाले 22 YouTube चैनलों को मोदी सरकार ने किया ब्लॉक,...

देश विरोधी एजेंडा फैलाने वाले 22 YouTube चैनलों को मोदी सरकार ने किया ब्लॉक, 4 पाकिस्तानी: 260 करोड़ बार देखे गए थे

मंत्रालय के मुताबिक, भारतीय यूट्यूब चैनल्स अधिक से अधिक लोगों को गुमराह करने के लिए कुछ टीवी न्यूज चैनलों के टेम्प्लेट और लोगो समेत न्यूज एंकरों की तस्वीरों का भी इस्तेमाल कर रहे थे।

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने मंगलवार (5 अप्रैल, 2022) को भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेश संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था से संबंधित दुष्प्रचार फैलाने के आरोप में 22 YouTube चैनलों और कुछ सोशल मीडिया हैंडल को ब्लॉक कर दिया है। मंत्रालय ने आईटी नियम, 2021 के तहत पहली बार YouTube समाचार चैनलों को ब्लॉक करने का निर्णय लिया है। बैन किए गए YouTube चैनलों ने दर्शकों को गुमराह करने के लिए टीवी समाचार चैनलों के लोगो और झूठे थंबनेल का इस्तेमाल किया था।

प्रेस सूचना ब्यूरो ने आज 22 Youtube चैनल, 1 फेसबुक अकाउंट, 3 ट्विटर अकाउंट और 1 वेबसाइट को ब्लॉक करने के संबंध में एक नोटिस जारी किया, जो लगातार भारत के खिलाफ फेक न्यूज फैलाने में लगे हुए थे। इन चैनलों की व्यूवरशिप 260 करोड़ थी। मंत्रालय के अनुसार, ये यूट्यूब चैनल भारत के खिलाफ लगातार दुष्प्रचार कर रहे थे और अन्य देशों के साथ चल रहे युद्ध में भारत के भाग लेने की फेक खबरें चला रहे थे। भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेश संबंधों से संबंधित दुष्प्रचार करने वाले इन चैनलों की रिपोर्टों को सोशल मीडिया पर भी शेयर किया जा रहा था।

मोदी सरकार द्वारा आईटी नियम, 2021 के तहत 18 भारतीय YouTube चैनल ब्लॉक किए गए हैं, जिनमें 4 पाकिस्तानी यूट्यूब चैनल भी हैं। इन YouTube चैनलों का इस्तेमाल भारत के खिलाफ दुष्प्रचार करने के लिए किया जा रहा था, जिसमें भारतीय सशस्त्र बलों और जम्मू-कश्मीर को लेकर फर्जी खबरें दिखाई जा रही थीं। ब्लॉक किए गए सोशल मीडिया अकाउंट्स को पाकिस्तान से संचालित किया जा रहा था। प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है, “यह देखा गया है कि इन भारतीय YouTube चैनलों द्वारा यूक्रेन और रूस के बीच युद्ध में भारत की भूमिका को लेकर भ्रामक खबरें दिखाई गईं। इससे भारत की विदेश नीति प्रभावित हो सकती है।”

चैनलों ने दर्शकों को गुमराह करने के लिए टीवी समाचार चैनलों के लोगो और झूठे थंबनेल का इस्तेमाल किया

मंत्रालय के मुताबिक, भारतीय यूट्यूब चैनल्स अधिक से अधिक लोगों को गुमराह करने के लिए कुछ टीवी न्यूज चैनलों के टेम्प्लेट और लोगो समेत न्यूज एंकरों की तस्वीरों का भी इस्तेमाल कर रहे थे। केंद्र सरकार ने जिन चैनलों के खिलाफ कार्रवाई की है, उनमें एआरपी न्यूज, एओपी न्यूज, एलडीसी न्यूज, सरकारी बाबू, एसएस जोन हिंदी, ऑनलाइन खबर, और न्यूज 23 हिंदी शामिल हैं। इसके अलावा गुलाम नबी मदनी, दुनिया मेरी आगी और हकीकत टीवी नाम के पाकिस्तानी ट्विटर अकाउंट भी शामिल हैं।

सरकार ने कहा, “भारत सरकार एक प्रामाणिक, भरोसेमंद और सुरक्षित ऑनलाइन समाचार मीडिया वातावरण सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है। भारत की संप्रभुता और अखंडता, राष्ट्रीय सुरक्षा, विदेशी संबंधों और सार्वजनिक व्यवस्था को कमजोर करने के किसी भी प्रयास को सफल नहीं होने दिया जाएगा।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जहाँ से लड़ रही लालू की बेटी, वहाँ यूँ ही नहीं हुई हिंसा: रामचरितमानस को गाली और ‘ठाकुर का कुआँ’ से ही शुरू हो...

रामचरितमानस विवाद और 'ठाकुर का कुआँ' विवाद से उपजी जातीय घृणा ने लालू यादव की बेटी के क्षेत्र में जंगलराज की यादों को ताज़ा कर दिया है।

निजी प्रतिशोध के लिए हो रहा SC/ST एक्ट का इस्तेमाल: जानिए इलाहाबाद हाई कोर्ट को क्यों करनी पड़ी ये टिप्पणी, रद्द किया केस

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए SC/ST Act के झूठे आरोपों पर चिंता जताई है और इसे कानून प्रक्रिया का दुरुपयोग माना है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -