Monday, July 26, 2021
Homeराजनीतिसत्ता के लिए पिता के दुश्मनों से गठबंधन कर रहे हेमंत सोरेन: रघुवर दास

सत्ता के लिए पिता के दुश्मनों से गठबंधन कर रहे हेमंत सोरेन: रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सोरेन परिवार पर आदिवासियों की ज़मीन लूटने का भी आरोप लगाया।

झारखण्ड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने सोमवार (फ़रवरी 11, 2019) को राँची के हरमू मैदान में आयोजित भाजपा शक्ति कार्यकर्ता सम्मलेन में महागठबंधन पर जम कर निशाना साधा। मुख्यमंत्री दास ने सोरेन परिवार को भी आड़े हाथों लिया और कहा कि हेमंत सोरेन सत्ता के लिए उन्ही के पाले में चले गए हैं ,जिन्होंने उनके पिता शिबू सोरेन को प्रताड़ित किया था। सम्मलेन में छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने भी शिरकत की। सम्मलेन में खूँटी, राँची और हजारीबाग से कार्यकर्ता आए हुए थे।

झारखण्ड के पूर्व मुख्यमंत्री और झामुमो नेता हेमंत सोरेन पर निशाना साधते हुए हुए रघुवर दास ने कहा:

“झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन को प्रताड़ित करनेवालों के साथ उनके पुत्र हेमंत सोरेन सत्ता के लिए महागठबंधन कर रहे हैं। कॉन्ग्रेस ने शिबू सोरेन को कोयला मंत्री पद से हटाया। कोयला घोटाला में उन्हें जेल भेजा। झाविमो प्रमुख बाबूलाल मरांडी ने चिरूडीह कांड में शिबू सोरेन को जेल भिजवाया। यह सब भूल कर सत्ता के लिए हेमंत सोरेन कॉन्ग्रेस, झाविमो और राजद के साथ महागठबंधन कर रहे हैं।”

सोरेन परिवार की संपत्ति और ज़मीन को लेकर भी रघुवर ने उन्हें आड़े हाथों लिया। मुख्यमंत्री ने सोरेन परिवार पर आदिवासियों की ज़मीन लूटने का आरोप लगाते हुए कहा:

“झामुमो के सोरेन परिवार ने झारखंड के आदिवासियों की ज़मीन लूटी है। जल, जंगल व जमीन का नारा देने वाले झामुमो का सोरेन परिवार रामगढ़ के गोला पंचायत से निकलकर बोकारो, धनबाद, दुमका, रांची, साहेबगंज समेत कई जगहों पर ज़मीन ख़रीदा है। सोरेन परिवार ने सीएनटी व एसपीटी एक्ट का उल्लंघन कर आदिवासियों की ज़मीन लूटी है। सोरेन परिवार को बताना चाहिए कि ज़मीन खरीदने के लिए पैसा कहाँ से आया, क्या उनके पास कोई नोट छापने की मशीन है। इस परिवार ने भाेलेभाले आदिवासियों को लूटने का काम किया है। मगर अब आदिवासी सजग हो गए है, उन्हें सब समझ में आता है। वे संथाल में अधिक विकास पर जोर दे रहे हैं।”

सभा को सम्बोधित करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने रघुवर सरकार की योजनाओं की जम कर तारीफ़ की। उन्होंने कहा कि मात्र ₹1 में रजिस्ट्री कराना उपलब्धि है, ऐसा किसी भी भारतीय राज्य में नहीं होता है। उन्होंने कहा कि अगर रघुवर सरकार की कुछ योजनाएँ छत्तीसगढ़ में लागू की जाती तो शायद वहाँ लगातार चौथी बार भाजपा की सरकार होती।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,215FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe