Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिकर्नाटक में CM पद को लेकर कॉन्ग्रेस में छिड़ा पोस्टर वार: सिद्धारमैया और डीके...

कर्नाटक में CM पद को लेकर कॉन्ग्रेस में छिड़ा पोस्टर वार: सिद्धारमैया और डीके शिवकुमार के समर्थकों ने घर के बाहर ‘अलग-अलग’ होर्डिंग्स लगाए

मुख्यमंत्री पद को लेकर आज रविवार (14 मई 2023) को शाम 5:30 बजे कॉन्ग्रेस विधायक दल की बैठक है। इस दौरान कॉन्ग्रेस के केंद्रीय पर्यवेक्षक भी शामिल रहेंगे। इसमें मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगेगी। कर्नाटक के कॉन्ग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार के अनुसार, सीएम पद का फैसला पार्टी हाईकमान लेगा।

कर्नाटक विधानसभा चुनावों (Karnataka Assembly Election 2023) में कॉन्ग्रेस (Congress) ने भारी जीत हासिल की है, लेकिन अब मुख्यमंत्री पद को लेकर राज्य में संग्राम छिड़ गया है। प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार (DK Shivakumar)और पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया (Siddaramaiah) के बीच मुख्यमंत्री बनने को लेकर पोस्टर वार शुरू हो गया है।

राजस्थान की कर्नाटक में भी कॉन्ग्रेस पार्टी दो खेमों में बँट गई है। एक खेमा है डीके शिवकुमार का और दूसरा है सिद्धारमैया है। दोनों खेमों अपने-अपने लोगों को मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाह रहे हैं। इसको लेकर बड़े-बड़े पोस्टर छपवाकर लगाए गए हैं।

सिद्धारमैया के समर्थकों ने राजधानी बेंगलुरु में उनके आवास के बाहर एक पोस्टर लगाया है, जिसमें उन्हें ‘कर्नाटक का अगला मुख्यमंत्री’ बताया गया है। वहीं, डीके शिवकुमार के समर्थकों ने भी बेंगलुरु में उनके आवास के बाहर पोस्टर लगाया है। इसमें उन्हें राज्य का अगला ‘मुख्यमंत्री’ घोषित करने की माँग की है।

बताते चलें कि कर्नाटक चुनावों की 13 मई 2023 को हुई मतगणना में कॉन्ग्रेस पार्टी को कुल 224 सीटों में से 135 सीटें मिली हैं, जो बहुमत के लिए जरूरी 113 से 23 सीटें अधिक हैं। वहीं, भाजपा को सिर्फ 66 सीटों से ही संतोष करना पड़ा है। राज्य की जेडीएस को भारी नुकसान हुआ है और उसे 19 सीटें मिली हैं।

मुख्यमंत्री पद को लेकर आज रविवार (14 मई 2023) को शाम 5:30 बजे कॉन्ग्रेस विधायक दल की बैठक है। इस दौरान कॉन्ग्रेस के केंद्रीय पर्यवेक्षक भी शामिल रहेंगे। इसमें मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लगेगी। कर्नाटक के कॉन्ग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार के अनुसार, सीएम पद का फैसला पार्टी हाईकमान लेगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

लोकसभा में ‘परंपरा’ की बातें, खुद की सत्ता वाले राज्यों में दोनों हाथों में लड्डू: डिप्टी स्पीकर पद पर हल्ला कर रहा I.N.D.I. गठबंधन,...

कर्नाटक, तेलंगाना और हिमाचल प्रदेश में कॉन्ग्रेस ने अपने ही नेता को डिप्टी स्पीकर बना रखा है विधानसभा में। तमिलनाडु में DMK, झारखंड में JMM, केरल में लेफ्ट और पश्चिम बंगाल में TMC ने भी यही किया है। दिल्ली और पंजाब में AAP भी यही कर रही है। लोकसभा में यही I.N.D.I. गठबंधन वाले 'परंपरा' और 'परिपाटी' की बातें करते नहीं थक रहे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -