Monday, July 15, 2024
Homeराजनीतिरजनीकांत को कश्मीर और संविधान की समझ नहीं, इतिहास पढ़ें: चिदंबरम के पुत्र

रजनीकांत को कश्मीर और संविधान की समझ नहीं, इतिहास पढ़ें: चिदंबरम के पुत्र

कार्ति चिदंबरम और उनके पिता पी चिदंबरम पर एयरसेल-मैक्सिस मामले में गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई है। अदालत द्वारा चिदंबरम पिता-पुत्र को कई बार गिरफ्तारी से राहत प्रदान कर चुकी है।

आर्टिकल 370 पर केन्द्र सरकार के फैसले को धर्म से जोड़ने वाले वरिष्ठ कॉन्ग्रेसी और पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के सांसद बेटे कार्ति चिदंबरम ने सुपरस्टार रजनीकांत पर निशाना साधा है। कार्ति इस बात से नाराज़ हैं कि रजनीकांत ने अनुच्छेद 370 के मसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की प्रशंसा की। बता दें कि रजनीकांत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह की तुलना कृष्ण एवं अर्जुन की जोड़ी से की थी।

सुपरस्टार ने अपने चिर-परिचित अंदाज में कहा था कि इन दोनों में अर्जुन कौन है और कृष्ण कौन है, इसका जवाब यही दोनों नेता दे सकते हैं। रजनीकांत के सम्बोधन के दौरान अमित शाह भी मंच पर मौजूद थे। रजनीकांत ने कहा था, “मिशन कश्मीर के लिए आपको बधाई।“ रजनीकांत ने कार्यक्रम के दौरान अमित शाह द्वारा संसद में अनुच्छेद 370 पर दिए गए भाषण को भी विलक्षण बताया था।

इसी बात से चिढ़े कार्ति चिदंबरम ने रजनीकांत पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि रजनीकांत ने कश्मीर मसले और भारत के संवैधानिक इतिहास को समझे बिना मोदी-शाह की तुलना कृष्ण-अर्जुन की जोड़ी से कर दी। कार्ति ने कहा कि रजनीकांत को भारत के सभी महत्वपूर्ण मुद्दों पर टिप्पणी करनी चाहिए लेकिन वह सिर्फ़ सेलेक्टिव मसलों पर ही बयान देते हैं। उन्होंने आरटीआई बिल और नीट मसले पर रजनीकांत से टिप्पणी की माँग की। कार्ति चिदंबरम ने कहा:

“पुराण पढ़ने वाले रजनीकांत को कश्मीर का इतिहास पढ़ना चाहिए और 1930-45 के बीच का जर्मनी का इतिहास भी पढ़ना चाहिए। “

जर्मनी के इतिहास से कार्ति का आशय हिटलर के इतिहास से था, क्योंकि उन्होंने जिस कालावधि का जिक्र किया, वह हिटलर का दौर था। कार्ति चिदंबरम और उनके पिता पी चिदंबरम पर एयरसेल-मैक्सिस मामले में गिरफ्तारी की तलवार लटकी हुई है। अदालत द्वारा चिदंबरम पिता-पुत्र को कई बार गिरफ्तारी से राहत प्रदान कर चुकी है।

कार्ति ने पूछा कि अगर पोंगल से पहले तमिलनाडु भी कश्मीर की तरह लॉकडाउन हो जाए तो क्या इसे स्वीकार किया जाएगा? उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने अनुच्छेद 370 सम्बन्धी निर्णय जम्मू-कश्मीर क्षेत्र और वहाँ की मुस्लिम जनसंख्या को अपने नियंत्रण में लेने के लिए किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार इतने बड़े बहुमत का ग़लत इस्तेमाल कर रही है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री DK शिवकुमार को सुप्रीम कोर्ट से झटका, चलती रहेगी आय से अधिक संपत्ति मामले CBI की जाँच: दौलत के 5 साल...

सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को आय से अधिक संपत्ति मामले में CBI जाँच से राहत देने से मना कर दिया है।

मंगलौर के बहाने समझिए मुस्लिमों का वोटिंग पैटर्न: उत्तराखंड की जिस विधानसभा से आज तक नहीं जीता कोई हिन्दू, वहाँ के चुनाव परिणामों से...

मंगलौर में हाल के विधानसभा उपचुनावों में कॉन्ग्रेस ने भाजपा को हराया। इस चुनाव में मुस्लिम वोटिंग का पैटर्न भी एक बार फिर साफ़ हो गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -