Friday, June 21, 2024
HomeराजनीतिCM पर जूता फेंका तो मर्डर का केस, अब केरल के उसी मुख्यमंत्री ने...

CM पर जूता फेंका तो मर्डर का केस, अब केरल के उसी मुख्यमंत्री ने वामपंथी गुंडे भेज करवाया राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान पर जानलेवा हमला?

"मुख्यमंत्री पिनराई विजयन मुझे शारीरिक तौर पर नुकसान पहुँचाने की साजिश कर रहे हैं... यह शर्म की बात है कि ये गुंडे मेरी गाड़ी को बीच सड़क में रोक रहे हैं और वो भी प्रदेश की राजधानी में। क्या ऐसा मुख्यमंत्री के साथ होता?"

केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के काफिले पर राजधानी तिरुवनंतपुरम में हमला किया गया। यह हमला कम्युनिस्ट छात्र संगठन SFI के गुंडों ने किया। हमले के बाद राज्यपाल खान ने केरल के मुख्यमंत्री पर हमला करवाने का आरोप लगाया है।

जानकारी के अनुसार, 11 दिसम्बर, 2023 की शाम को राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान अपने काफिले के साथ एयरपोर्ट के लिए जा रहे थे। इसी दौरान SFI के गुंडों ने उनकी आधिकारिक गाड़ी को रोक लिया और उस पर हमला किया

SFI के गुंडों ने राज्यपाल की गाड़ियों को रोक काले झंडे दिखाए। इससे काफी देर तक राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान को रुकना पड़ा। SFI गुंडों के इस हिंसक प्रदर्शन से राज्यपाल गुस्सा हो गए और हमलावरों का सामना करने के लिए खुद ही सड़क पर उतर गए। राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने SFI के गुंडों से कहा:

“मारो मुझे।”

राज्यपाल की सुरक्षा में लगी केरल पुलिस भी इस हमले के दौरान उनकी सुरक्षा करने में विफल दिखाई दी। हमलावर लगातार राज्यपाल को परेशान करते रहे। राज्यपाल को काले झंडे दिखाने वाले SFI के गुंडों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

राज्यपाल ने इसके बाद हमला करवाने का आरोप राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन पर लगाया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पिनराई विजयन उन्हें शारीरिक चोट पहुँचाने के लिए गुंडे भेज रहे हैं। उन्होंने राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति पर भी सवाल खड़े किए।

राज्यपाल ने कहा, “इन गुंडों ने मेरी गाड़ी पर हमला किया। पुलिस को मेरी सुरक्षा के बारे पता होना चाहिए था। यह शर्म की बात है कि ये गुंडे मेरी गाड़ी को बीच सड़क में रोक रहे हैं और वो भी प्रदेश की राजधानी में। क्या ऐसा मुख्यमंत्री के साथ होता? क्या उनकी सुरक्षा में ऐसी गड़बड़ी होती?”

आगे राज्यपाल ने मुख्यमंत्री विजयन पर कहा, “पुलिस के अलावा मुख्यमंत्री विजयन ने पार्टी के बाउंसर भी अपनी सुरक्षा में लगाए हुए हैं। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन मुझे शारीरिक तौर पर नुकसान पहुँचाने की साजिश कर रहे हैं, जैसा उन्होंने कन्नूर में किया था। लेकिन मैं बता दूँ कि जब तक मैं यहाँ राज्यपाल की गद्दी पर हूँ, ऐसा कुछ नहीं होने दूँगा।”

जानकारी के अनुसार, यह हमला करने वाले SFI गुंडों की संख्या 20 थी। इन सबको पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गौरतलब है कि SFI के गुंडे राज्यपाल के विरुद्ध आरोप लगा रहे थे कि वह राज्य की शिक्षा व्यवस्था का भगवाकरण कर रहे हैं। SFI के गुंडों का कहना था कि राज्यपाल, प्रदेश के उच्च शिक्षण संस्थानों में RSS के लोगों को नियुक्त कर रहे हैं।

राज्यपाल के काफिले पर हमला करने वाले SFI गुंडों पर अभी तक क्या कार्रवाई हुई है, यह स्पष्ट नहीं है। राज्य में विपक्ष के नेता वीडी सतीशन ने इसे एक काला दिन और कानून व्यवस्था की बहुत बड़ी नाकामी बताई है।

गौरतलब है कि राज्य के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन के खिलाफ भी हाल ही में एक ऐसा ही प्रदर्शन हुआ था। इसमें केरल छात्र संगठन (KSY) और कॉन्ग्रेस के युवा संगठन के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री के कार्यक्रम ‘नव केरल सदस’ के दौरान हंगामा किया था।

इसके बाद इन कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने ‘हत्या के प्रयास’ का मुकदमा दर्ज कर लिया था। आरोप था कि इन कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री पर जूता फेंका। प्रदर्शन कर रहे छात्र संगठन के कार्यकर्ताओं को कम्युनिस्ट छात्र संगठन के गुंडों ने मारा भी था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -