Thursday, June 13, 2024
Homeदेश-समाजखुद ही समर्थकों सहित पहुँच गए थाने, फैला दी गिरफ़्तारी की अफवाह: सत्यपाल मलिक...

खुद ही समर्थकों सहित पहुँच गए थाने, फैला दी गिरफ़्तारी की अफवाह: सत्यपाल मलिक पर AAP के संजय सिंह एन्ड गिरोह ने की झूठ की खेती

दरअसल, सत्यपाल मलिक का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में, उन्होंने कहा है, "आज खापों के लोग एकजुटता दिखाने के लिए आए थे।

जम्मू-कश्मीर के पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक लगातार चर्चा में बने हुए हैं। अब सोशल मीडिया पर उनकी गिरफ्तारी की अफवाह फैलाई जा रही है। वहीं, दिल्ली पुलिस ने कहा है कि सत्यपाल मलिक खुद थाना आए। वह यहाँ से जाने के लिए वह स्वतंत्र हैं।

दरअसल, सत्यपाल मलिक का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में, उन्होंने कहा है, “आज खापों के लोग एकजुटता दिखाने के लिए आए थे। मेरे घर पर इतनी जगह नहीं है। इसलिए, एक पार्क में खाने का इंतजाम किया। इसके बाद उन्होंने कहा कि यह गैर-कानूनी है। यहाँ यह सब नहीं हो सकता। इसके बाद मैंने कहा कि हमें ले चलो। हम थाने आ गए। हमारे कई ग्रुप हैं जिन्हें इन लोगों ने कई थानों में बंद किया है।”

यही नहीं, भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने भी ट्वीट कर एक वीडियो शेयर किया था। इस वीडियो में उन्होंने कहा था कि सत्यपाल मलिक ने खापों के प्रधान और जन प्रतिनिधियों का एक कार्यक्रम आयोजित किया था, लेकिन पुलिस ने जबरदस्ती कर कार्यक्रम बंद करा दिया। यही नहीं, गुरुनाम सिंह ने अपनी गिरफ्तारी के साथ ही सत्यपाल मलिक समेत खाप के कई नेताओं की गिरफ्तारी की बात कही थी।

सत्यपाल मलिक और गुरुनाम सिंह चढूनी के वीडियो के बाद सोशल मीडिया यूजर्स द्वारा सत्यपाल मलिक की गिरफ्तारी और उन्हें हिरासत में लिए जाने की बातें कही जाने लगीं। AAP नेता संजय सिंह ने ट्वीट कर दावा किया, “चार राज्यों के राज्यपाल रह चुके सत्यपाल मलिक जी को गिरफ्तार कर लिया गया। इनका जुर्म ये है की इन्होंने बताया मोदी ने इनके पास दलाल भेजा था। पूँजीपतियों के साथ मिलकर मोदी और BJP भ्रष्टाचार करती है।”

वहीं, ‘डीयू जाट स्टूडेंट्स यूनियन’ ने एक वीडियो शेयर किया। इस वीडियो के अंत में यह कहते हुए सुना जा सकता है कि सत्यपाल मलिक को सीबीआई जाँच के लिए आरके पुरम थाने लाया गया। इसलिए, अब उनके समर्थक थाने के बाहर जुट रहे हैं।

एक यूजर ने ट्वीट कर दावा किया, “सत्यपाल मलिक जी को गिरफ्तार किया गया। लेकिन पुलवामा हमले की जाँच बिना देश चुप नहीं बैठेगा। मलिक से भी पूछताछ करो पर पुलवामा की जाँच भी शुरू करो राजा जी।”

हिम्मत सिंह गुर्जर नामक यूजर ने लिखा, “सारी हद पार कर दी बीजेपी ने। दिल्ली पुलिस ने पूर्व गवर्नर श्री सत्यपाल मलिक के साथ खाप नेता ईश्वर नैन सहित अन्य लोगों को हिरासत में लिया। पूर्व राज्यपाल सत्यपाल मलिक व अन्य को आर के पुरम से हिरासत में लिया गया।”

क्या बोली दिल्ली पुलिस

इस पूरे मामले में दक्षिण पश्चिम पुलिस उपायुक्त मनोज सी का कहना है कि सत्यपाल मलिक अपने समर्थकों के साथ अपनी इच्छा से आरके पुरम थाने में आए थे। उन्हें कहा गया है कि वह जा सकते हैं। वहीं, हिंदुस्तान ने एक अन्य अधिकारी के हवाले से कहा है कि आरके पुरम के एक एमसीडी पार्क में एक कार्यक्रम होना था। सत्यपाल मलिक को कहा गया कि पार्क कार्यक्रम या बैठक के लिए नहीं है। इसके लिए उन्होंने अधिकारियों से अनुमति भी नहीं ली थी।

इसके बाद सत्यपाल मलिक और उनके समर्थक वहाँ से चले गए। लेकिन, बाद में मलिक खुद थाने पहुँच गए। उन्हें किसी ने बुलाया नहीं।

दिल्ली पुलिस ने ट्वीट कर भी गिरफ्तारी को अफवाह करार दिया। ट्वीट में लिखा गया, “पूर्व गवर्नर सत्यपाल मलिक को हिरासत में लिए जाने के संबंध में सोशल मीडिया हैंडल पर गलत जानकारी फैलाई जा रही है। वह खुद अपने समर्थकों के साथ पीएस आरके पुरम पहुँचे हैं। उन्हें कहा गया है कि वह अपनी इच्छा से जाने के लिए स्वतंत्र हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेता खाएँ मलाई इसलिए कॉन्ग्रेस के साथ AAP, पानी के लिए तरसते आम आदमी को दोनों ने दिखाया ठेंगा: दिल्ली जल संकट में हिमाचल...

दिल्ली सरकार ने कहा है कि टैंकर माफिया तो यमुना के उस पार यानी हरियाणा से ऑपरेट करते हैं, वो दिल्ली सरकार का इलाका ही नहीं है।

पापुआ न्यू गिनी में चली गई 2000 लोगों की जान, भारत ने भेजी करोड़ों की राहत (पानी, भोजन, दवा सब कुछ) सामग्री

प्राकृतिक आपदा के कारण संसाधनों की कमी से जूझ रहे पापुआ न्यू गिनी के एंगा प्रांत को भारत ने बुनियादी जरूरतों के सामान भेजे हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -