Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीतिहिमाचल प्रदेश के लिए EC ने बजाया चुनावी बिगुल, गुजरात पर फैसला नहीं: 12...

हिमाचल प्रदेश के लिए EC ने बजाया चुनावी बिगुल, गुजरात पर फैसला नहीं: 12 नवंबर को एक ही चरण में हो जाएगा मतदान, देखें कब आएँगे परिणाम

गुजरात में तो भाजपा ने बीच में ही विजय रुपाणी को हटा कर भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बनाया, लेकिन हिमाचल प्रदेश में पार्टी आलाकमान का भरोसा 2017 से ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर ही रहा है।

चुनाव आयोग ने शुक्रवार (14 अक्टूबर, 2022) को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर के हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है। हिमाचल प्रदेश में 25 अक्टूबर तक नामांकन होगा। 12 नवंबर को चुनाव होंगे और 8 दिसंबर को मतगणना होगी।

बात गुजरात की करें तो वहाँ के लिए अभी फैसला नहीं लिया गया है। 2001 से लेकर अब तक लगातार भाजपा की सरकार है। 21 वर्षों का ये क्रम आगे भी चलता रहेगा, ऐसा भाजपा को उम्मीद है। 2017 में हुए विधानसभा चुनावों में भाजपा ने 182 में से 99 सीटें अपने नाम की थी। उसकी 16 सीटें कम हो गई थीं। वहीं कॉन्ग्रेस ने 16 सीटें ज्यादा जीतते हुए 77 सीटों को अपने नाम किया था। हालाँकि, इस बार कॉन्ग्रेस की स्थिति डाँवाडोल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के गृह राज्य में भाजपा मजबूत है।

गुजरात में तो भाजपा ने बीच में ही विजय रुपाणी को हटा कर भूपेंद्र पटेल को मुख्यमंत्री बनाया, लेकिन हिमाचल प्रदेश में पार्टी आलाकमान का भरोसा 2017 से ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर पर ही रहा है। 68 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा ने पिछली बार 18 सीटें जोड़ते हुए 44 सीटें अपने नाम की थी। कॉन्ग्रेस की 15 सीटें कम हुईं और वो 21 विधायकों के साथ सत्ता से बेदखल हो गई। भाजपा के वयोवृद्ध नेता प्रेम कुमार धूमल चुनाव हार गए, जिस कारण भाजपा ने जयराम ठाकुर पर भरोसा जताया।

फ़िलहाल राहुल गाँधी की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ भी चल रही है, ऐसे में इन दोनों राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों में कॉन्ग्रेस की भी परीक्षा होगी कि वो कितनी सीटें जीत पाती है। किसी भी सर्वे या ओपिनियन पोल में वो मजबूत नहीं दिख रही। अरविंद केजरीवाल की AAP ज़रूर दोनों राज्यों में हाथ-पाँव मार रही है और खासकर गुजरात को लेकर उसका रुख आक्रामक है, लेकिन पार्टी अपना खाता खोल ले यही बड़ी बात होगी।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -