महागठबंधन प्रत्याशी के समर्थकों ने मेनका गाँधी के समर्थकों को पीटा, दबंगई

देर रात को सुल्तानपुर में मेनका गाँधी के समर्थकों के साथ मारपीट की गई। सोनू सिंह के समर्थकों ने मेनका गाँधी के प्रचार में लगे लोगों के साथ मारपीट की और गाड़ियों को भी नुकसान पहुँचाया।

लोकसभा चुनाव के छठे चरण के दौरान यूपी के सुल्तानपुर में भी वोटिंग जारी है। इस दौरान सुल्तानपुर से भाजपा उम्मीदवार मेनका गाँधी और गठबंधन से बसपा के प्रत्याशी चंद्रभद्र सिंह उर्फ सोनू सिंह के बीच बहस हो गई। दोनों के बीच दबंगई को लेकर बहसबाजी हुई। मेनका ने सोनू सिंह के समर्थकों पर वोटरों को डराने-धमकाने का आरोप लगाया। मेनका गाँधी का आरोप है कि महागठबंधन के प्रत्याशी सोनू सिंह के समर्थक मतदाताओं को डरा धमकाकर अपने पक्ष में मतदान करवा रहे हैं। जब मेनका ने कहा कि उनकी दबंगई नहीं चलेगी, तब चंद्रभद्र सिंह के समर्थक नारेबाजी करने लगे।

जानकारी के मुताबिक, इससे पहले शनिवार (मई 11, 2019) की देर रात को सुल्तानपुर में मेनका गाँधी के समर्थकों के साथ मारपीट की गई। सोनू सिंह के समर्थकों ने मेनका गाँधी के प्रचार में लगे लोगों के साथ मारपीट की और गाड़ियों को भी नुकसान पहुँचाया। वहीं, चंद्रभद्र सिंह के समर्थकों का कहना है कि मेनका गाँधी के समर्थक रात में गाँवों में लोगों को पैसे बाँट रहे थे। इस मामले पर सुल्तानपुर के पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स ने कहा कि रात में घटना की सूचना मिली है। मेनका समर्थक शिवकुमार सिंह के साथ प्रचार में लगे लोगों के साथ चंद्रभद्र सिंह के समर्थकों ने मारपीट की, जिसमें मेनका गाँधी के समर्थकों को काफी चोटें आईं हैं। मामले की जाँच करवाई जा रही है।

इस बीच मेनका गाँधी और सोनू सिंह के बीच के बहस का वीडियो भी सामने आया है जिसमें सोनू सिंह के समर्थक बेहद उग्र नजर आ रहे हैं। भाजपा विधायक सूर्यभान सिंह ने सुर सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए कहा कि बाहुबली सोनू सिंह की छवि को देखते हुए सुरक्षा के इंतजाम काफी नहीं हैं। गौरतलब है कि मेनका ने साल 2014 का चुनाव पीलीभीत से लड़ा था। इस बार पार्टी ने उन्हें सुल्तानपुर से टिकट दिया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

दिल्ली दंगे
इस नैरेटिव से बचिए और पूछिए कि जिसकी गली में हिन्दू की लाश जला कर पहुँचा दी गई, उसने तीन महीने से किसका क्या बिगाड़ा था। 'दंगा साहित्य' के कवियों से पूछिए कि आज जो 'दोनों तरफ के थे', 'इधर के भी, उधर के भी' की ज्ञानवृष्टि हो रही है, वो तीन महीने के 89 दिनों तक कहाँ थी, जो आज 90वें दिन को निकली है?

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

155,450फैंसलाइक करें
43,324फॉलोवर्सफॉलो करें
179,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: