वरुण गाँधी: ‘मेरे परिवार से भी कई PM हुए, लेकिन मोदी जैसा कोई नहीं हुआ, वो जिएगा तो देश के लिए, मरेगा तो देश के लिए’

पीलीभीत से भाजपा के उम्मीदवार वरुण गाँधी ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि वो आदमी केवल देश के लिए जी रहा है और वो मरेगा भी देश के लिए, उसको केवल देश की चिंता है।

लोकसभा चुनाव को लेकर गरमाई सियासत के बीच भारतीय जनता पार्टी के युवा सांसद वरुण गाँधी ने कल रात (अप्रैल 7, 2019) प्रचार अभियान के दौरान एक बड़ी बात कह दी। वरुण गाँधी ने 10 जनपथ वाले गाँधी परिवार पर हमला करते हुए कहा कि उनके परिवार से भी कई प्रधानमंत्री हुए हैं, लेकिन देश को वास्तविक सम्मान पीएम नरेंद्र मोदी ने दिलाया है। जो सम्मान नरेंद्र मोदी ने देश को दिलाया है, वो बहुत लंबे समय तक किसी ने नहीं दिलाया।

सुल्तानपुर से सांसद और पीलीभीत से भाजपा के उम्मीदवार वरुण गाँधी ने पीएम मोदी की तारीफ करते हुए कहा कि वो आदमी केवल देश के लिए जी रहा है और वो मरेगा भी देश के लिए, उसको केवल देश की चिंता है। भाजपा सांसद ने कहा कि जो काम पीएम मोदी ने 5 साल में किया है, वह अगले पायदान पर जाकर देश के मान सम्मान को और बढ़ाएँ। देश को पूरी दुनिया में आगे ले जाएँ। लंबे अरसे बाद देश को एक ऐसा प्रधानमंत्री मिला है, जिसके बारे में छाती चौड़ी करके बोल सकते हैं कि हमारे पास ऐसा प्रधानमंत्री है। केंद्र सरकार ने किसानों के लिए काफी काम किया है, राष्ट्रीय सुरक्षा पर भी काम किया है। विपक्षी पार्टियों के द्वारा राजनीति के स्तर को गिराया जा रहा है।

इस दौरान वरुण गाँधी ने जनता से नरेंद्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने के लिए भाजपा को जिताने का संकल्प लेने की बात कही। इसके साथ ही उन्होंने मुस्लिम और एससी-एसटी मतदाताओं से भी भाजपा को वोट देने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि जनता के प्यार से ही वह पीलीभीत से 2009 में पहली बार सांसद बन कर दिल्ली पहुँचे थे और अब वो फिर से उनके बीच उनका प्यार पाने के लिए आए हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

गौरतलब है कि वरुण गाँधी अभी सुल्तानपुर से सांसद हैं। इस बार पार्टी ने उन्हें पीलीभीत से उम्मीदवार बनाया है और पीलीभीत की सांसद और वरुण की माँ मेनका गाँधी को इस बार सुल्तानपुर से टिकट दिया गया है।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

कमलेश तिवारी
कमलेश तिवारी की हत्या के बाद एक आम हिन्दू की तरह, आपकी तरह- मैं भी गुस्से में हूँ और व्यथित हूँ। समाधान तलाश रहा हूँ। मेरे 2 सुझाव हैं। अगर आप चाहते हैं कि इस गुस्से का हिन्दुओं के लिए कोई सकारात्मक नतीजा निकले, मेरे इन सुझावों को समझें।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

105,514फैंसलाइक करें
19,261फॉलोवर्सफॉलो करें
109,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: