Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिमुस्लिमों का मिजाज कैसा? देश की 15 इस्लामी बहुल सीटों में से केवल 1...

मुस्लिमों का मिजाज कैसा? देश की 15 इस्लामी बहुल सीटों में से केवल 1 पर बीजेपी आगे, जानिए अन्य 14 सीटें किसके हाथ

जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश की बारामूला लोकसभा सीट पर 95 से 100% मतदाता मुस्लिम हैं। यहाँ से निर्दलीय प्रत्याशी अब्दुल राशिद शेख ने 4 लाख 57 हजार 298 मत हासिल कर सबसे आगे बढ़ते दिख रहे हैं।

लोकसभा चुनाव 2024 के नतीजे लगभग साफ हो चुके हैं। बीजेपी की अगुवाई में एनडीए पूर्ण बहुमत हासिल करती दिख रही है। बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है। इस बीच, हम आपको बता रहे हैं देश की उन 15 लोकसभा सीटों का हाल, जहाँ मुस्लिम मतदाताओं का दबदबा है। ऐसी सीटों में जम्मू-कश्मीर, पश्चिम बंगाल, बिहार, केरल और तेलंगाना की लोकसभा सीटे हैं। मुस्लिम मतदाताओं की बाहुल्य वाली 15 लोकसभा सीटों में महज 1 सीट पर बीजेपी को जीत मिली है, तो एक सीट निर्दलीय ने जीती है। हम आपको एक-एक कर ऐसी सभी 15 सीटों का हाल बता रहे हैं।

1- बारामूला (जम्मू-कश्मीर)

जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश की बारामूला लोकसभा सीट पर 95 से 100% मतदाता मुस्लिम हैं। यहाँ से निर्दलीय प्रत्याशी अब्दुल राशिद शेख ने 4 लाख 57 हजार 298 मत हासिल किए हैं और वो जीत की ओर हैं। दूसरे नंबर पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला हैं। उमर अब्दुल्ला को 2 लाख 56 हजार 239 वोट मिले हैं। उन्हें 2 लाख 01 हजार 059 वोटों से हार मिली है।

2- श्रीनगर (जम्मू-कश्मीर)

जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश की श्रीनगर लोकसभा सीट पर 95 से 100% मतदाता मुस्लिम हैं। इस सीट से नेशनल कॉन्फ्रेंस के आगा सैय्यद रुहुल्लाह मेहंदी को कुल 3 लाख 42 हजार 328 से अधिक मत मिले हैं। उन्होंने जम्मू-कश्मीर पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी के वहीद उर रहमान पारा पर 1 लाख 80 हजार 272 वोटों से बढ़त बना रखी थी। समाचार लिखे जाने तक वहीद को 1 लाख 62 हजार 056 मत मिले थे।

3- अनंतनाग (जम्मू-कश्मीर)

जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश की अनंतनाग लोकसभा सीट पर भी 95-100 प्रतिशत मुस्लिम मतदाता हैं। यहाँ पर नेशनल कॉन्फ्रेंस के मियाँ अल्ताफ अहमद को 5 लाख 17 हजार 489 वोट मिल चुके हैं। वो पीडीपी के महबूबा मुफ्ती से 2 लाख 79 हजार 279 वोटों से आगे चल रहे थे। समाचार लिखे जाने तक महबूबा मुफ्ती को 2 लाख 38 हजार 210 मत मिले थे।

4- लक्षद्वीप

केंद्रशासित प्रदेश लक्षद्वीप की इस लोकसभा सीट पर 95 से 100% मुस्लिम मतदाता हैं। यहाँ कॉन्ग्रेस पार्टी के मुहम्मद हमदुल्लाह सैयद 25 हजार 726 वोट पाकर सबसे आगे हैं। दूसरे नंबर पर एनसीपी-शरद पवार पार्टी के मोहम्मद फैसल हैं, जो निवर्तमान सांसद हैं। तीसरे नंबर पर एनसीपी के यूसुफ टीपी को महज 201 मत मिले।

5-किशनगंज (बिहार)

बिहार की किशनगंज लोकसभा सीट पर 65 से 70% मुस्लिम मतदाता हैं। यहाँ कॉन्ग्रेस के मोहम्मद जावेद 2 लाख 39 हजार 927 वोट पाकर सबसे आगे चल रहे थे। जेडीयू के मुजाहिद आलम 2 लाख 14 हजार 275 वोटों के साथ दूसरे नंबर पर थे। तीसरे नंबर पर एआईएमआईएम के अख्तरुल इमाम भी 2 लाख से ज्यादा मत पाकर तीसरे नंबर पर चल रहे थे।

6-मालदा दक्षिण (पश्चिम बंगाल)

पश्चिम बंगाल की मालदा दक्षिण लोकसभा सीट पर 55 से 60% मुस्लिम मतदाता हैं। इस सीट पर कॉन्ग्रेस के इशा खान चौधरी को 5 लाख 26 हजार 363 मत हासिल हुए। बीजेपी की निर्भया दीवी कही जाने वाली श्रीरूपा मित्रा चौधरी को 4 लाख 14 हजार से अधिक मत मिले। तीसरे नंबर पर टीएमसी के शहनवाज अली रैहान रहे।

7- जंगीपुर (पश्चिम बंगाल)

पश्चिम बंगाल की जंगीपुर लोकसभा सीट पर 60 से 65% मतदाता मुस्लिम हैं। यहाँ से टीएमसी के खलीलुर रहमान को 4.40 लाख से अधिक मत मिल चुके थे। वो कॉन्ग्रेस के मुर्तजा हुसैन बोकुल से 1 लाख से अधिक वोट से आगे चल रहे थे। बीजेपी के धनंजय घोष 2.74 लाख मतों के साथ तीसरे स्थान पर चल रहे थे।

8- पोन्नानी (केरल)

केरल की पोन्नानी लोकसभा सीट पर 65 से 70% मुस्लिम मतदाता हैं। यहाँ से इंडियन नेशनल मुस्लिम लीग के डॉ एमपी अब्दुस्समद समदनी को 5.50 लाख से अधिक वोट मिले। सीपीआई के केएस हमला उनसे 2.36 लाख से अधिक वोट से पीछे रहे। तीसरे नंबर पर बीजेपी की एडवोकेट निवेदिता रहीं।

9-मलप्पुरम (केरल)

केरल की मलप्पुरम लोकसभा सीट पर 65 से 70% मुस्लिम मतदाता हैं। यहाँ से भी इंडियन नेशनल मुस्लिम लीग ने जीत हासिल की। मुस्लिम लीग के मोहम्मद बशीर को 6.39 लाख से अधिक मत मिल चुके थे। दूसरे नंबर पर सीपीआई-एम के वी वसीफ को 3.41 लाख से अधिक मत मिल चुके थे। बीजेपी के इकलौते मुस्लिम कैंडिडेट डॉ अब्दुल सलाम को महज 84 हजार से कुछ अधिक मत मिले थे।

10-हैदराबाद (तेलंगाना)

कुल 60 से 65% प्रतिशत मुस्लिम मतदाताओं वाली हैदराबाद लोकसभा सीट पर असदुद्दीन ओवैसी लगातार जीत दर्ज करते आ रहे हैं। उन्होंने इस चुनाव में भी 6.58 लाख से अधिक वोट हासिल किए। समाचार लिखे जाने तक वो बीजेपी की माधवी लता से लगभग दोगुना मत हासिल कर चुके थे। कॉन्ग्रेस प्रत्याशी को यहाँ से महज 62 हजार से थोड़े अधिक वोट मिले थे।

11- धुबरी (असम)

असम की धबरी लोकसभा सीट पर 55 से 60% मुस्लिम मतदाता हैं। इस सीट पर कॉन्ग्रेस के रकीबुल हुसैन को करीब 11 लाख मत मिल चुके थे। उन्होंने एआईयूडीएफ के मोहम्मद बदरुद्दीन अजमल से तीन गुने से भी अधिक मत हासिल किए। अगप के मुस्लिम कैंडिडेट को भी यहाँ 3 लाख से अधिक मत मिले।

12- करीमगंज (असम)

असम के करीमगंज लोकसभा सीट पर 55 से 60% मुस्लिम मतदाता हैं। इस सीट पर बीजेपी के कृपानाथ मल्लाह 2.75 लाख से अधिक मत पाकर आगे चल रहे थे। कॉन्ग्रेस के हाफिज राशिद अहमद 2.68 लाख से अधिक मत पाकर दूसरे स्थान पर थे।

13-बहरामपुर (पश्चिम बंगाल)

पश्चिम बंगाल की चर्चित बहरामपुर लोकसभा सीट पर 50 से 55% मुस्लिम मतदाता हैं। उन्होंने टीएमसी के यूसुफ पठान के पक्ष में जमकर वोटिंग की है। समाचार लिखे जाने तक 4.76 लाख से अधिक मत पाकर कॉन्ग्रेस के अधीर रंजन चौधरी पर 70 हजार से अधिक मतों से बढ़त बना चुके थे। बीजेपी कैंडिडेट डॉ निर्मल कुमार साहा साढ़े 3 लाख से अधिक मत पाकर तीसरे स्थान पर थे।

14- बरपेटा (असम)

असम की बरपेटा लोकसभा सीट पर 55 से 60% मुस्लिम मतदाता हैं। यहाँ असम गण परिषद के फाणी भूषण चौधरी 7 लाख ज्यादा मतों के साथ सबसे आगे थे। कॉन्ग्रेस के दीप बायन 5 लाख से ज्यादा वोट पाकर दूसरे नंबर पर थे। सीपीआई-एम के मनोरंजन तालुकदार 76 हजार 120 वोट पा चुके थे और तीसरे नंबर पर चल रहे थे।

15- मुर्शिदाबाद (पश्चिम बंगाल)

पश्चिम बंगाल की मुर्शिदाबाद लोकसभा सीट पर 70 से 75% मतदाता मुस्लिम हैं। यहाँ से टीएमसी के अबु ताहेर खान को 5 लाख से अधिक मत मिले थे और वो अपने निकटतम प्रतिद्वंदी सीपीआई-एम के मोहम्मद सलीम से 1 लाख से अधिक वोटों से बढ़त बनाए हुए थे। बीजेपी के गौरी शंकर घोष 2 लाख से अधिक मत पा चुके थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘हमारे बारह’ पर जो बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा, वही हम भी कह रहे- मुस्लिम नहीं हैं अल्पसंख्यक… अब तो बंद हो देश के...

हाई कोर्ट ने कहा कि उन्हें फिल्म देखखर नहीं लगा कि कोई ऐसी चीज है इसमें जो हिंसा भड़काने वाली है। अगर लगता, तो पहले ही इस पर आपत्ति जता देते।

NEET पर जिस आयुषी पटेल के दावों को प्रियंका गाँधी ने दी हवा, उसके खुद के दस्तावेज फर्जी: कहा था- NTA ने रिजल्ट नहीं...

इलाहाबाद हाई कोर्ट में झूठी साबित होने के बाद आयुषी पटेल ने अपनी याचिका भी वापस लेने का अनुरोध किया। कोर्ट ने NTA को छूट दी है कि वह आयुषी पटेल के खिलाफ नियमानुसार एक्शन ले।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -