Monday, November 29, 2021
Homeराजनीति'कॉन्ग्रेस विधायक के बेटे ने 2 दिनों में नहीं किया सरेंडर तो ऐसी कार्रवाई...

‘कॉन्ग्रेस विधायक के बेटे ने 2 दिनों में नहीं किया सरेंडर तो ऐसी कार्रवाई करेंगे जो नजीर बन जाएगी’: नरोत्तम मिश्रा की कड़ी चेतावनी

नरोत्तम मिश्रा ने कहा, ''करण मोरवाल ने अगर 2 दिनों में सरेंडर नहीं किया तो ऐसी कार्रवाई करेंगे जो प्रदेश में नजीर बन जाएगी।''

मध्य प्रदेश के गृहमंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने बुधवार (20 अक्टूबर 2021) को प्रदेश का माहौल बिगाड़ने वालों को कड़ी चेतावनी दी। इसके साथ ही उन्होंने रेप के मामले में फरार आरोपित कॉन्ग्रेस विधायक के बेटे करण मोरवाल पर इनाम की राशि 15 से बढ़ाकर 25 हजार कर दी। नरोत्तम मिश्रा ने कहा, ”करण मोरवाल ने अगर 2 दिनों में सरेंडर नहीं किया तो ऐसी कार्रवाई करेंगे जो प्रदेश में नजीर बन जाएगी।”

मिश्रा ने मीडिया को बताया कि मैंने आईजी को निर्देश दिया​ है कि जो 15 हजार का इनाम है उसे बढ़ाकर 25 हजार कर दिया जाए। उन्होंने कहा कि मोरवाल जी से भी प्रार्थना है कि वह अपने बेटे को एक दो दिन में हाजिर कर दें। बच्चा दो दिन में आ जाता है तो ठीक है, नहीं तो ऐसी कार्रवाई करेंगे जो मध्य प्रदेश में नजीर बन जाएगी। बेटियों और महिलाओं के साथ सरकार किसी भी तरह की वारदात को बर्दाश्त नहीं करेगी।

दरअसल, मध्य प्रदेश पुलिस उज्जैन के बड़नगर से कॉन्ग्रेस विधायक मुरली मोरवाल के बेटे करण मोरवाल की कई महीनों से तलाश कर रही है। करण मोरवाल कथित रेप केस में पिछले छह महीने से फरार है।

इसी साल अप्रैल में इंदौर से यूथ कॉन्ग्रेस की एक पदाधिकारी ने करण मोरवाल पर रेप का आरोप लगाते हुए पुलिस थाने में केस दर्ज कराया था। महिला ने अपनी शिकायत में खुलासा किया कि था कि मोरवाल उसे इस साल वैलेंटाइन डे पर इंदौर के होटल प्राइड ले गया था। होटल पहुँचने पर कॉन्ग्रेस नेता के बेटे ने शराब में नशीला पदार्थ डालकर कथित तौर पर उसका बलात्कार किया था।

पीड़िता ने अपनी शिकायत में आगे कहा था कि पिछले साल इंदौर में एक राजनीतिक कार्यक्रम में करण से मिलने के बाद उसकी उससे अच्छी दोस्ती हो गई थी। इसके बाद दोनों कई मौकों पर मिले। जब दोनों में नजदीकियाँ बढ़ गई तो वे मोरवाल आए थे। रिपोर्ट के अनुसार पीड़िता ने उससे पूछा कि क्या तुम्हे कमलनाथ (पूर्व मुख्यमंत्री व कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता) ने भेजा है, इस पर युवक कहता है कि कमलनाथ से ऊपर भी कई लोग हैं। उन्होंने ही उसको इंदौर में पूरा मामला सुलझाने को भेजा है, वरना उसका इंदौर में कोई काम नहीं था। युवक इस बातचीत में पीड़िता को राजनीति में आगे बढ़ाने का लालच देकर कहता है कि वह उसे आगे बढ़ा सकता है।

गौरतलब है कि इस मामले में युवती की शिकायत पर विधायक के बेटे के खिलाफ धारा-376 के तहत मामला दर्ज किया गया था। मामला दर्ज होने के बाद से ही आरोपित फरार है, वहीं दूसरी तरफ पीड़िता को तरह-तरह से केस वापस लेने के लिए धमकाया भी जा रहा है। जिसकी शिकायत भी पीड़िता की ओर से पुलिस में की गई थी।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,506FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe