Tuesday, August 9, 2022
Homeराजनीतिभाजपा विधायकों का 'मी पण सावरकर', उद्धव ठाकरे ने भी कहा- विचारधारा से नहीं...

भाजपा विधायकों का ‘मी पण सावरकर’, उद्धव ठाकरे ने भी कहा- विचारधारा से नहीं होगा समझौता

“महाराष्ट्र में ये दो महीना भूकंप वाला ही है। एक बार देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार का भूकंप हो गया, उसके बाद उद्धव ठाकरे का हुआ और अभी कैसा भूकंप होता है हम देखेंगे। कोई न कोई भूकंप होने की संभावना है।”

कॉन्ग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी द्वारा दिल्ली में आयोजित भारत बचाओ रैली के दौरान वीर सावरकर को लेकर दिए गए विवादित बयान के बाद महाराष्ट्र की सियासत गरमाई हुई है। शिवसेना ने जहाँ कॉन्ग्रेस सांसद को वीर सावरकर की किताब पढ़ने की सलाह दी है। विधानसभा के शीतकालीन सत्र की शुरुआत पर भी इसका असर देखने को मिला।

पूर्व सीएम देवेंद्र फडणवीस सहित सभी भाजपा विधायक शीतकालीन सत्र में शामिल होने के लिए ‘मी पण सावरकर’ (मैं हूँ सावरकर) लिखी लाल रंग की टोपी पहनकर नागपुर पहुँचे। महाराष्ट्र के सीएम और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भी राहुल गाँधी के सावरकर वाले बयान की निंदा की है। ठाकरे ने रविवार (दिसंबर 15, 2019) को नागपुर में सावकर को लेकर किसी तरह का समझौता नहीं करने की बात कही। उन्होंने कहा कि महाअघाड़ी में शामिल पार्टियों के बीच समझौता विचारधारा पर नहीं, सिर्फ कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के आधार पर हुआ है।

उन्होंने कहा, “हमारी सरकार (शिवसेना-कॉन्ग्रेस-एनसीपी गठबंधन) न्यूनतम साझा कार्यक्रम के तहत काम करती है, न कि किसी खास विचारधारा पर। सावरकर पर हमारी सोच अब भी पहले जैसी ही है।” वहीं नागरिकता संशोधन कानून पर उन्होंने कहा, “देखते हैं कि अदालत क्या फैसला करती है, इसके बाद हम अपना पक्ष रखेंगे।”

इसके साथ ही केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने महाराष्ट्र में आने वाले राजनीतिक भूकंप की ओर इशारा करते हुए कहा, “महाराष्ट्र में ये दो महीना भूकंप वाला ही है। एक बार देवेंद्र फडणवीस और अजित पवार का भूकंप हो गया, उसके बाद उद्धव ठाकरे का हुआ और अभी कैसा भूकंप होता है हम देखेंगे। कोई न कोई भूकंप होने की संभावना है।”

राहुल गॉंधी ने सावरकर को लेकर टिप्पणी शनिवार को रामलीला मैदान में कॉन्ग्रेस की रैली के दौरान की थी। ‘रेप इन इंडिया’ वाली टिप्पणी पर भाजपा माफी की मॉंग पर पलटवार करते हुए उन्होंने कहा, ‘‘संसद में शुक्रवार को भाजपा के लोगों ने कहा कि मैं अपने भाषण के लिए माफी मॉंगूॅं। मुझे कहते हैं कि सही बात बोलने के लिए माफी मॉंगो। मेरा नाम राहुल सावरकर नहीं है, मेरा नाम राहुल गॉंधी है। मैं सच्चाई के लिए कभी माफी नहीं मॉंगूॅंगा। मर जाऊँगा मगर माफी नहीं मॉंगूॅंगा और न कोई कॉन्ग्रेस वाला माफी मॉंगेगा।’’ राहुल का यह बयान बीजेपी के साथ ही शिवसेना को भी रास नहीं आया।

वहीं, वीर सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने भी कहा है कि राहुल गाँधी के इस बयान के लिए उद्धव ठाकरे को राहुल गॉंधी की सार्वजनिक रूप से पिटाई करनी चाहिए। उन्होंने कहा, “यह अच्छा है कि राहुल गॉंधी, राहुल सावरकर नहीं हैं। ऐसा होता हम सबको अपना मुॅंह छिपाना पड़ता। अब हम उम्मीद करते हैं कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अपना वादा निभाएँगे। वे कई बार कह चुके हैं कि यदि किसी ने सावरकर का अपमान किया तो वे उसे सार्वजनिक रूप से पीटेंगे। मैं उम्मीद करता हूॅं कि शिवसेना ने सावरकर पर अपना स्टैंड नहीं बदला होगा।”

सावरकर पर जाएगी उद्धव सरकार! मायावती ने कॉन्ग्रेस को ललकारा, राहुल गाँधी के बचाव में एनसीपी

सावरकर के पोते ने कहा- राहुल गाँधी की सार्वजनिक रूप से पिटाई करें उद्धव ठाकरे

सावरकर पर एक सुर में बोली भाजपा-शिवसेना, राहुल गाँधी के विवादित बोल से दाँव पर महाराष्ट्र सरकार

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

केजरीवाल ने दिए 9 साल में सिर्फ 857 ऑनलाइन जॉब्स, चुनावी राज्यों में लाखों नौकरियों के वादे: RTI से खुलासा

केजरीवाल के रोजगार को लेकर बड़े-बड़े वादों और विज्ञापनों की पोल दिल्ली में नौकरियों पर डाले गए एक RTI ने खोल दी है।

जब सिंध में हिन्दुओं-सिखों का हो रहा था कत्लेआम, 10000 स्वयंसेवकों के साथ पहुँचे थे ‘गुरुजी’: भारत-Pak विभाजन के समय कहाँ थे कॉन्ग्रेस नेता?

विभाजन के दौरान पाकिस्तान में हिन्दुओं-सिखों की मदद के लिए न आई कोई राजनीतिक पार्टियाँ और ना ही आए वह नेता, जो उस समय इतिहास में खुद को दर्ज कराना चाहते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
212,564FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe