Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीति'बीजेपी सीएम की कुर्सी तो देगी नहीं, 5 साल के लिए बेटे को डिप्टी...

‘बीजेपी सीएम की कुर्सी तो देगी नहीं, 5 साल के लिए बेटे को डिप्टी सीएम बनवा लें उद्धव ठाकरे’

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को पूर्ण बहुमत है। 288 सीटों पर हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी की 105 और शिवसेना 56 सीटें आई हैं, जबकि कॉन्ग्रेस ने 44 और एनसीपी ने 54 सीटों पर जीत दर्ज की।

महाराष्ट्र में भाजपा से 2.5 साल के लिए मुख्यमंत्री की कुर्सी मॉंग रही शिवसेना को रामदास रामदास आठवले ने खरी-खरी सुनाई है। केंद्रीय मंत्री और रिपब्लिक पार्टी ऑफ इंडिया (RPI) के प्रमुख अठावले ने कहा है कि ​​भाजपा मुख्यमंत्री का पद अपने सहयोगी को देगी नहीं, इसलिए शिवसेना को डिप्टी सीएम का पद स्वीकार लेना चाहिए। आरपीआई एनडीए का घटक है।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों में भाजपा सबसे बड़े दल के तौर पर उभरी है। हालॉंकि अपने दम पर वह बहुमत हासिल नहीं कर पाई है। नतीजों के बाद से ही उसकी सहयोगी शिवसेना 2.5 साल के लिए सीएम पद मॉंग रही है। वह इस मसले पर बकायदा लिखित आश्वासन चाहती है।

आठवले ने कहा, “बीजेपी रोटेशन आधारित सीएम पद के लिए सहमत नहीं होगी। उपमुख्यमंत्री का पद शिवसेना को दिया जा सकता है। आदित्य ठाकरे के लिए उपमुख्यमंत्री पद पर शिवसेना को मान जाना चाहिए। फडणवीस मुख्यमंत्री का पद सँभाले।”

आठवले ने कहा कि उनका कहना यह है कि भाजपा और शिवसेना को साथ आना चाहिए, क्योंकि जनता का जनादेश उनके साथ है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि निश्चित रूप से एनडीए (NDA) को उतनी सीटें नहीं मिलीं, जितनी अपेक्षित थीं, लेकिन फिर भी बहुमत है।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री पद पर निश्चित रूप से भाजपा का दावा बनता है। आठवले ने कहा कि वह दोनों पार्टियों से बात करेंगे और बातचीत के माध्यम से इस मुद्दे को हल करने के लिए कहेंगे। उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि अगले चार-पाँच दिनों में दोनों पार्टी उचित निर्णय पर पहुँच जाएगी।

इस बीच, बरसी निर्वाचन क्षेत्र से निर्दलीय विधायक राजेंद्र राउत ने फडणवीस से मुलाकात की और भारतीय जनता पार्टी को अपना समर्थन दिया। बीजेपी की बागी विधायक गीता जैन ने भी फडणवीस को अपना समर्थन दिया है। बता दें कि गीता ने ठाणे में भयंदर निर्वाचन क्षेत्र से बीजेपी के उम्मीदवार नरेंद्र मेहता के खिलाफ चुनाव लड़ा और जीत हासिल की थी।

इसके साथ ही युवा स्वाभिमान पार्टी ने भी फडणवीस को खत लिखकर अपना समर्थन देने की बात कही है। रवि राणा अमरावती के बडनेरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। इस चुनाव में उन्होंने शिवसेना के प्रीति संजय को 15 हजार से अधिक वोटों से हराया है।

उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में भाजपा-शिवसेना गठबंधन को पूर्ण बहुमत है। 288 सीटों पर हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी की 105 और शिवसेना 56 सीटें आई हैं, जबकि कॉन्ग्रेस ने 44 और एनसीपी ने 54 सीटों पर जीत दर्ज की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सोहा ने कब्र पर किया अब्बू को याद: भड़के कट्टरपंथियों ने इस्लाम से किया बाहर, कहा- ‘शादियाँ हिंदुओं से, बुतों की पूजा, फिर कैसे...

कुणाल खेमू से शादी करने वाली सोहा अली खान हाल में अपने अब्बू की कब्र पर अपनी माँ शर्मिला टैगोर और बेटी इनाया के साथ पहुँचीं। लेकिन कट्टरपंथी यह देख भड़क गए।

न जुबान चढ़ी और न आँख…फाँसी कैसे? नरेंद्र गिरि को भू-समाधि: सुसाइड लेटर में दो पेन के प्रयोग से गहराया संदेह, उत्तराधिकारी पर टला...

निरंजनी अखाड़ा के रविंद्र पुरी ने कहा कि जो सुसाइड नोट मिला है, वह उनके (महंत नरेंद्र गिरि) द्वारा नहीं लिखा गया है। इस मामले की जाँच होनी चाहिए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,766FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe