Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिओवैसी के जिस नेता ने कहा था- 15 करोड़ मुस्लिम भारी पड़ेंगे, उसका मुँह...

ओवैसी के जिस नेता ने कहा था- 15 करोड़ मुस्लिम भारी पड़ेंगे, उसका मुँह सद्दाम ने किया काला; कहा- ये देश विरोधी बातें करता है

"मैं एक दरगाह पर चादर चढ़ाने गया था। उसी दौरान मुझ पर काली स्याही फेंकी गई। ये लोगों का मेरे प्रति प्यार दिखाने का तरीका है।"

मध्य प्रदेश के इंदौर में मंगलवार (1 फरवरी, 2022) को खजराना की दरगाह पर पहुँचे ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के राष्ट्रीय प्रवक्ता वारिस पठान (Waris Pathan) के चेहरे पर एक शख्स ने कालिख पोत दी और मौका पाते ही वहाँ से फरार हो गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक, कुछ समय बाद ही खजराना पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर लिया।

घटना के बाद पठान ने कहा, “मैं एक दरगाह पर चादर चढ़ाने गया था। उसी दौरान मुझ पर काली स्याही फेंकी गई। ये लोगों का मेरे प्रति प्यार दिखाने का तरीका है। लोग अलग-अलग से अपना प्यार दिखा रहे हैं।” उन्होंने कहा कि मेरे चाहने वालों ने कहा है कि आपको चेहरे पर काजल लगाना है, ताकि आपको किसी की नज़र न लगे। मैंने इसके बाद अपना चेहरा धोया। उन्होंने आरोप लगाया कि यह सब कॉन्ग्रेस पार्टी करवा रही है और कुछ नहीं।

खजराना थाना प्रभारी दिनेश कुमार वर्मा ने बताया कि युवक खजराना के पटेल कॉलोनी का रहने वाला है। उसका नाम सद्दाम है। 30 वर्षीय सद्दाम मजदूरी का काम करता है। उसने पूछताछ में बताया कि यह व्यक्ति (वारिस पठान) मुझे पसंद नहीं है, क्योंकि ये हमेशा देश विरोधी बातें करता रहता है और मुस्लिम समाज को बदनाम करता है। उन्होंने बताया कि हमने कालिख लगाने वाले आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस यह भी पता लगा रही है कि वह किसी पार्टी से तो नहीं जुड़ा है।

बता दें कि फरवरी 2020 में पठान ने विवादित बयान देकर सुर्खियों बटोरी थीं। उसने धमकी देते हुए कहा था, “15 करोड़ मुस्लिम 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे। भायखला के पूर्व विधायक ने कर्नाटक के गुलबर्गा में एक रैली को संबोधित करते हुए यह भी कहा था, “हमें आजादी लेनी है और जो नहीं दी गई, उसे छीन लेना चाहिए। हमने अपनी बहनों को (शाहीन बाग) भेज दिया है। अभी केवल हमारी शेरनी निकली हैं और आपको पसीना आ रहा है। अगर हम सब एक साथ आते हैं तो क्या होगा?”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -