Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीति'बड़ी मजबूरी' में मनोज तिवारी को जान से मार दूँगा, जरूरत पड़ी तो मोदी...

‘बड़ी मजबूरी’ में मनोज तिवारी को जान से मार दूँगा, जरूरत पड़ी तो मोदी को भी रास्ते से हटा दूँगा’

मनोज तिवारी ने समाचार एजेंसी से बात करते हुए बताया कि हिंदी में भेजे गए इस संदेश को भेजने वाले ने अपना नाम नहीं बताया है।

दिल्ली भाजपा अध्यक्ष और मशहूर गायक व अभिनेता मनोज तिवारी को जान से मारने की धमकी मिली है। एक एसएमएस में मिली इस धमकी में धमकी देने वाले ने यह भी कहा है कि उसे तिवारी को मारने का निर्णय ‘बड़ी मजबूरी’ में लेना पड़ रहा है, जिसके लिए वह स्वयं बहुत दुखी है। मनोज तिवारी ने मामले की शिकायत दिल्ली पुलिस से की है, जो इस शख्स को तलाशने में जुट गई है। तिवारी ने समाचार एजेंसी से बात करते हुए बताया कि हिंदी में भेजे गए इस संदेश को भेजने वाले ने अपना नाम नहीं बताया है।

इस शख्स ने SMS में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी लपेटते हुए कहा कि अगर जरूरत हुई, तो उन्हें भी ‘रास्ते से हटा दिया जाएगा’। यह संदेश तिवारी को शुक्रवार दोपहर 12.52 बजे मिला था और उन्होंने इसे शनिवार को पढ़ा। इससे पहले भाजपा के ही पश्चिमी दिल्ली के सांसद प्रवेश वर्मा को भी दो दिन पहले ही किसी ने जान से मार देने की धमकी दी थी। उन्होंने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर अमूल्य पटनायक को पत्र लिखकर इस बारे में जानकारी दी थी। प्रवेश वर्मा का कहना था कि वह दिल्ली में मस्जिदों के अवैध निर्माण के खिलाफ आवाज़ उठा रहे हैं, इसीलिए उनको निशाना बनाया जा रहा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,995FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe