Tuesday, May 21, 2024
Homeराजनीतिअलकायदा आतंकियों की गिरफ्तारी पर अखिलेश यादव के बाद मायावती के सवाल, बोलीं- अब...

अलकायदा आतंकियों की गिरफ्तारी पर अखिलेश यादव के बाद मायावती के सवाल, बोलीं- अब तक बेखबर क्यों रही UP पुलिस

आतंकी मशीरुद्दीन और मिनहाज अहमद पकड़ा गया। इस पर अखिलेश यादव ने कहा कि उन्हें न तो यूपी पुलिस और न ही भाजपा की सरकार पर भरोसा है। अब मायावती कह रही हैं - ''यूपी विधानसभा चुनाव के करीब आने पर इस प्रकार की कार्रवाई लोगों के मन में संदेह पैदा करती है।"

उत्तर प्रदेश के लखनऊ में एटीएस ने बड़े ऑपरेशन को अंजाम देते हुए रविवार (11 जुलाई) को अलकायदा से जुड़े दो आतंकियों मशीरुद्दीन उर्फ मुशीर और मिनहाज अहमद को पकड़ा था। इन गिरफ्तारियों को लेकर समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव के बाद बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने यूपी पुलिस और बीजेपी पर सवाल उठाए हैं। मायावती ने सिलसिलेवार ट्वीट कर कहा कि संदिग्ध आतंकियों की गिरफ्तारी की आड़ में राजनीति नहीं होनी चाहिए।

बसपा सुप्रीमो ने लिखा, ”यूपी पुलिस का लखनऊ में आतंकी साजिश का भंडाफोड़ करने और इस मामले में गिरफ्तार दो लोगों के तार अलकायदा से जुड़े होने का दावा अगर सही है तो यह गंभीर मामला है। इस पर उचित कार्रवाई होनी चाहिए। इसकी आड़ में कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए, जिसकी आशंका व्यक्त की जा रही है।”

मायावती ने आगे लिखा, ”यूपी विधानसभा आमचुनाव के करीब आने पर ही इस प्रकार की कार्रवाई लोगों के मन में संदेह पैदा करती है। अगर इस कार्रवाई के पीछे सच्चाई है तो पुलिस इतने दिनों तक बेखबर क्यों रही? यह वह सवाल है जो लोग पूछ रहे हैं। अतः सरकार ऐसी कोई कार्रवाई न करे, जिससे जनता में बेचैनी और बढ़े।”

वहीं, इससे पहले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने अलकायदा आतंकियों की गिरफ्तारी को लेकर कहा था कि वो न तो यूपी पुलिस और न ही भाजपा की सरकार पर भरोसा कर सकते हैं।

गौरतलब है कि रविवार 11 जुलाई को ADG (कानून-व्यवस्था) प्रशांत कुमार ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि इन आतंकियों के पास से उन्हें बड़ी संख्या में विस्फोटक सामग्रियाँ बरामद हुई हैं। इस गिरोह के लोग लखनऊ और कानपुर में भी मौजूद हैं। ये सभी 15 अगस्त के आसपास उत्तर प्रदेश के कई शहरों को दहलाने की योजना बना रहे थे। पाकिस्तान में बैठे अलकायदा के सरगना उमर हलमंडी के इशारे पर ये सब हो रहा था। दोनों आतंकियों के साथियों की गिरफ्तारी के लिए ATS की जगह-जगह छापेमारी जारी है।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

J&K के बारामुला में टूट गया पिछले 40 साल का रिकॉर्ड, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक 73% मतदान: 5वें चरण में भी महाराष्ट्र में फीका-फीका...

पश्चिम बंगाल 73% पोलिंग के साथ सबसे आगे है, वहीं इसके बाद 67.15% के साथ लद्दाख का स्थान रहा। झारखंड में 63%, ओडिशा में 60.72%, उत्तर प्रदेश में 57.79% और जम्मू कश्मीर में 54.67% मतदाताओं ने वोट डाले।

भारत पर हमले के लिए 44 ड्रोन, मुंबई के बगल में ISIS का अड्डा: गाँव को अल-शाम घोषित चला रहे थे शरिया, जिहाद की...

साकिब नाचन जिन भी युवाओं को अपनी टीम में भर्ती करता था उनको जिहाद की कसम दिलाई जाती थी। इस पूरी आतंकी टीम को विदेशी आकाओं से निर्देश मिला करते थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -