Friday, June 2, 2023
Homeराजनीति'हिजाब ही नहीं, मुस्लिमों की सारी निशानियाँ मिटा देगी BJP': बोलीं महबूबा मुफ़्ती -...

‘हिजाब ही नहीं, मुस्लिमों की सारी निशानियाँ मिटा देगी BJP’: बोलीं महबूबा मुफ़्ती – एक दिन पाकिस्तान से बात करनी ही पड़ेगी

इसी क्रम में महबूबा का जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने का दर्द भी उभर आया। उन्होंने दावा किया कि जिस तरह से अनुच्छेद-370 को हटाया गया है उससे यह मसला सुलझने की जगह और उलझ गया है।

कर्नाटक (Karnataka) के उडुपी से शुरू हुए हिजाब विवाद (Hijab) पर सियासत लगातार जारी है। इसी क्रम में रविवार (13 फरवरी, 2022) जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) ने इस मुद्दे को उत्तर प्रदेश चुनाव (Uttar Pradesh Assembly polls 2022) से जोड़ते हुए कहा कि ये मामला अब यहाँ नहीं रुकेगा। अब ये लोग (बीजेपी) मुस्लिमों के सभी प्रतीकों पर हमले करेंगे।

महबूबा ने हिजाब विवाद को भाजपा की साजिश करार दिया और कहा, “भारतीय मुसलमानों के लिए सिर्फ भारतीय होना ही काफी नहीं है, उन्हें बीजेपी भी होना चाहिए।”

पीडीपी चीफ ने आगे कहा, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसको लेकर काफी बातें हो रही हैं और हमारे मुल्क की आलोचना हो रही है कि एक ड्रेस कोड है। अगर है भी तो दुपट्टा आप सिर पर जिस तरह से चाहो वैसे लपेट सकते हो। एक तो ये यूपी इलेक्शन के लिए है और फिर ये हमारी और निशानियों पर हमले करेंगे।”

इसी क्रम में महबूबा का जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाए जाने का दर्द भी उभर आया। उन्होंने दावा किया कि जिस तरह से अनुच्छेद-370 को हटाया गया है उससे यह मसला सुलझने की जगह और उलझ गया है। महबूबा ने जम्मू-कश्मीर के मुद्दे को राजनीतिक मसला करार दिया और आरोप लगाया भाजपा इसे सांप्रदायिक मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही है।

पाकिस्तान प्रेम फिर से झलका

हिजाब विवाद पर बीजेपी को घेरने की कोशिशों में लगीं महबूबा मुफ्ती का पाकिस्तान प्रेम भी उभर आया। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर को लेकर एक दिन केंद्र सरकार को पाकिस्तान से बात करनी ही पड़ेगी।

गौरतलब है कि कर्नाटक में हिजाब के लिए मुस्लिम लड़कियों के विरोध की शुरुआत 2 जनवरी 2022 को उडुपी जिले के प्री-यूनिवर्सिटी कॉलेज से हुई थी। इस विरोध प्रदर्शन को लेकर खुलासा हो चुका है कि इसके पीछे कट्टरपंथी इस्लामिक संगठन पीएफआई और उसकी छात्र शाखा कैम्पस फ्रंट ऑफ इंडिया का हाथ है। उसी ने इन लड़कियों को ट्रेनिंग दी थी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

झारखंड के सरकारी स्कूल में मलाला के पोस्टर, CM एक्सीलेंस के नाम पर स्कूलों से हटाए ‘हिंदू’ और ‘रामरुद्र’: जुमे पर छुट्टी को लेकर...

झारखंड में सरकारी स्कूल में मलाला युसुफजई की तस्वीर लगाने और सरकार द्वारा स्कूलों में से हिंदू और रामरुद्र हटाने पर बवाल हो गया है।

जिनकी आतंकियों से पहचान, जो करते भारत विरोधी बात… वही राहुल गाँधी के लिए USA में जुटा रहे ‘मुस्लिम’: वायरल ‘रजिस्ट्रेशन फॉर्म’ से खुली...

फॉर्म में न्यूयॉर्क और आस-पास के इलाकों में रहने वाले मुस्लिमों से कार्यक्रम का हिस्सा बनने की अपील की जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
259,315FollowersFollow
415,000SubscribersSubscribe