Saturday, June 22, 2024
Homeराजनीतिऔपचारिक रूप से पार्टी में शामिल हुए 'मेट्रो मैन' श्रीधरन, केरल के लिए कुछ...

औपचारिक रूप से पार्टी में शामिल हुए ‘मेट्रो मैन’ श्रीधरन, केरल के लिए कुछ करने की चाह ने जोड़ा BJP से

हाल ही में 'मैट्रो मैन' ने कहा था कि उनका लक्ष्य केरल में पार्टी को सत्ता में लाना है और यदि ऐसा होता है तो पार्टी के आदेश पर वह मुख्यमंत्री बनने के लिए भी तैयार हैं।

‘मेट्रो मैन’ के नाम से जाने जाने वाले ई श्रीधरन केरल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा में औपचारिक तौर पर शामिल हो गए। बृहस्पतिवार (फरवरी 25, 2021) को केरल में एक कार्यक्रम के दौरान केंद्रीय मंत्री आरके सिंह की मौजूदगी में केरल के मलप्पुरम में श्रीधरन ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।

इस मौके पर उन्होंने कहा, “भाजपा में शामिल होने का निर्णय मेरे जीवन का एक नया चरण है। मैं हमेशा केरल के लिए कुछ करना चाहता था… मुझे लगा कि भाजपा में शामिल होना सबसे अच्छा रहेगा और मैंने ऐसा किया है।” श्रीधरन ने सार्वजनिक बैठक में भाजपा के शीर्ष नेताओं को धन्यवाद दिया।

ई श्रीधरन के भाजपा में शामिल होने की जानकारी देते हुए भाजपा के केरल अध्यक्ष के सुरेन्द्रन ने ट्विटर पर कहा, ”पद्म विभूषण श्री ई श्रीधरन जी ने केंद्रीय मंत्री आरके सिंह जी की उपस्थिति में ऐतिहासिक ‘केरल विजय यात्रा’ के दौरान आधिकारिक तौर पर भाजपा ज्वाइन कर ली है। मेट्रो मैन जैसे लोग मजबूती से इस बात पर भरोसा करते हैं कि केवल भाजपा ही हमारे राज्य में विकास ला सकती है।” 

कयास लगाए जा रहे हैं कि ई श्रीधरन इस साल अप्रैल-मई में होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा के उम्मीदवार भी बनाए जा सकते हैं। श्रीधरन के भाजपा का दामन थामने से राज्य में भाजपा की पैठ मजबूत हो सकती है। हाल ही में ‘मैट्रो मैन’ ने कहा था कि उनका लक्ष्य केरल में पार्टी को सत्ता में लाना है और यदि ऐसा होता है तो पार्टी के आदेश पर वह मुख्यमंत्री बनने के लिए भी तैयार हैं।

दिल्ली मेट्रो को यथार्थ में जमीन पर उतारने के पीछे ई श्रीधरन का दिमाग और मेहनत ही मानी जाती है। दिल्ली मेट्रो के अलावा कोलकाता मेट्रो, कोच्ची मेट्रो और देश के अलग-अलग मेट्रो प्रोजेक्ट्स में भी श्रीधरन का योगदान रहा है। यही कारण है कि उन्हें भारत का मेट्रो मैन कहा जाता है।

गौरतलब है कि पिछले दिनों मलयाली समाचार पत्र मनोरमा से बात करते हुए ई श्रीधरन ने इस मुद्दे पर अपने विचार रखे थे। उन्होंने कहा था, “यह कोई आकस्मिक निर्णय नहीं है। मैं पिछले एक दशक से केरल में हूँ और इस प्रदेश के लिए कुछ करना चाहता हूँ। मैं अकेले सब कुछ नहीं कर सकता हूँ। भारतीय जनता पार्टी बाकियों से अलग है, इसलिए मैंने इसमें शामिल होने का फैसला लिया। मैंने केरल के लिए बहुत कुछ करने की योजना बनाई थी, जिसमें से काफी कुछ भाजपा के घोषणा पत्र में मौजूद है। सबसे पहले मैं पार्टी की सदस्यता लूँगा। इसके बाद पार्टी मुझे मेरी जिम्मेदारियों से अवगत कराएगी, अभी उन पर कोई चर्चा नहीं हुई है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

आज भी ‘रलिव, गलिव, चलिव’ ही कश्मीर का सत्य, आखिर कब थमेगा हिन्दुओं को निशाना बनाने का सिलसिला: जानिए हाल के वर्षों में कब...

जम्मू कश्मीर में इस्लाम के नाम पर लगातार हिन्दू प्रताड़ना जारी है। 2024 में ही जिहाद के नाम पर 13 हिन्दुओं की हत्याएँ की जा चुकी हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -