Friday, April 23, 2021
Home राजनीति ₹2 करोड़ की पेंटिंग: जानिए कैसे मिलिंद देवड़ा ने राणा और प्रियंका के बीच...

₹2 करोड़ की पेंटिंग: जानिए कैसे मिलिंद देवड़ा ने राणा और प्रियंका के बीच निभाया बिचौलिए का रोल

मिलिंद देवड़ा ने ही इस पेंटिंग का मूल्य 2 करोड़ रुपए तय किया था और राणा को इस सम्बन्ध में सूचित किया। उन्होंने राणा कपूर को सलाह दी थी कि वो प्रियंका को लिखें कि इस पेंटिंग के एवज में 2 करोड़ रुपए देने को राजी हो गए हैं।

प्रियंका गाँधी ने ‘यस बैंक’ के संस्थापक राणा कपूर को जो पेंटिंग बेची थी, उस पूरी प्रक्रिया में पूर्व केंद्रीय मंत्री मिलिंद देवड़ा ने बिचौलिए की भूमिका निभाई थी। मिलिंद फ़िलहाल मुंबई कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष हैं। मई 1, 2010 को मिलिंद द्वारा राणा को लिखे गए पत्र से सब कुछ स्पष्ट हो जाता है। मिलिंद मुंबई में राणा से मिले थे और उन्होंने इस पत्र में राणा कपूर को ‘अंकल’ कह कर सम्बोधित करते हुए लिखा है कि वो ‘यस बैंक’ द्वारा किए जा रहे कार्यों से ख़ासे प्रभावित हैं। मिलिंद ने लिखा था कि कला के क्षेत्र में ‘यस बैंक’ के कार्य और नेहरू सेंटर में उनके दफ्तर से वो बहुत प्रभावित हैं।

मिलिंद देवड़ा के इस पत्र से ऐसा लगता है कि जब वो दोनों मिले थे, तब उनके बीच प्रियंका गाँधी की उस पेंटिंग को ख़रीदने की बातचीत हुई थी। राणा कपूर ने शायद उस पेंटिंग की बड़ाई की हो या फिर उसे ख़रीदने की इच्छा जाहिर की हो। इसी बात को लेकर मिलिंद ने राणा कपूर को सलाह दी कि वो इस बारे में सीधा प्रियंका गाँधी को लिखें और अपनी इच्छा जाहिर करें। मिलिंद पत्र में यह भी दावा करते हैं कि गाँधी परिवार उस पेंटिंग को तभी बेचेगा, जब वो इस बात को लेकर आश्वस्त होगा कि पेंटिंग ख़रीदने वाला व्यक्ति इसकी इज्जत करे, इसकी सुरक्षा पर ध्यान दे व अच्छे से देखभाल करे।

पेंटिंग खरीदने के लिए मिलिंद देवड़ा ने राणा कपूर को लिखा पत्र

मिलिंद देवड़ा इसी पत्र में राणा कपूर को आश्वासन दिलाते हैं कि उनके अथवा उनकी कम्पनी द्वारा इस पेंटिंग को ख़रीदना जायज है। वो दोबारा फिर इसी बात को दोहराते हैं की वो पेंटिंग ख़रीदने के लिए प्रियंका गाँधी को लिखें। पत्र देख कर सपहत होता है कि जितनी राणा कपूर को पेंटिंग ख़रीदने की जल्दी नहीं थी, उतनी मिलिंद देवड़ा को इसे बेचने की थी। यदि राणा कपूर को वो पेंटिंग उतनी ज्यादा ही पसंद आई होती तो वो पहले ही इस बारे में मिलिंद को लिखते।

नीचे आप उस चेक की फोटो देख सकते हैं, जिसके माध्यम से राणा कपूर ने पेंटिंग की एवज में प्रियंका गाँधी को पेमेंट किया। ये 2 करोड़ रुपए का चेक है। ये चेक ‘हॉन्गकॉन्ग एन्ड संघाई बैंकिंग कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HSBC)’ का चेक है। इस चेक पर जून 3, 2010 की तारीख दर्ज है।

राणा कपूर ने इसी चेक के माध्यम से प्रियंका को पेमेंट किया

‘ऑपइंडिया’ को विश्वस्त सूत्रों से पता चला है कि मिलिंद देवड़ा और राणा कपूर के बीच इस पेंटिंग की बिक्री को लेकर तेज़त के माध्यम से बातचीत भी हुई। मिलिंद अपने ब्लैकबेरी के फोन से राणा से बात किया करते थे। यहाँ भी वो राणा कपूर को ‘अंकल’ कह कर सम्बोधित करते हैं। ऑपइंडिया के सूत्रों की मानें तो मिलिंद देवड़ा ने मई 29, 2010 को राणा कपूर को भेजे मैसेज में लिखा था:

“राणा अंकल, मई 28, 2010 को मुझे आपका पत्र मिला और मैंने उसे प्रियंका गाँधी को भेज दिया है। हालाँकि, अभी तो उनके या उनके परिवार के साथ अपनी मुलाक़ात नहीं हो सकेगी लेकिन कुछ दिनों बाद मैं इसके लिए पूरा प्रबंध करा दूँगा। पेंटिंग के पेमेंट चेक के रूप में प्रियंका और सोनिया अगले ही सप्ताह चाहती हैं। मेरे पिता को भी इस बारे में बताया गया है और उन्होंने भी आपसे संपर्क करने की असफल कोशिश की थी। दुर्भाग्य से चीजें काफ़ी देरी से हो रही हैं। आप इस मैसेज का रिप्लाई करें और बताएँ कि आप कब तक चेक दे रहे हैं। मुझे मेरे पिता को इस बारे में तुरंत बताना है। आप मैसेज देख रहे हैं तो जल्द रिप्लाई करें।”

उपर्युक्त मैसेज से स्पष्ट है कि ‘यस बैंक’ के तत्कालीन सीईओ राणा कपूर चाहते थे कि वो पेंटिंग तो ख़रीदेंगे लेकिन बदले में गाँधी परिवार के साथ उनकी बैठक का प्रबंध किया जाए। यही माँग उन्होंने मिलिंद और मुरली से रखी होगी। मिलिंद के पिता मुरली देवड़ा उस वक़्त मनमोहन सिंह सरकार में पेट्रोलियम मंत्री थे। वो यूपीए-1 में भी केंद्रीय मंत्री रह चुके थे। इस टेक्स्ट से ये भी पता चलता है कि पेंटिंग ख़रीदने में राणा ने किसी कारणवश बाद में ज्यादा रुचि न दिखाई हो लेकिन मिलिंद जल्द से जल्द 2 करोड़ रुपए का पेमेंट चाहते थे। देवड़ा पिता-पुत्र लगातार बिचौलिए के रूप में कार्यरत थे।

इसके ठीक 5 दिन बाद मिलिंद देवड़ा ने राणा कपूर को फिर से मैसेज किया और अबकी उनकी भाषा काफ़ी झल्लाई हुई सी लग रही थी। मिलिंद नस इस मैसेज में राणा कपूर से कहा कि वो गाँधी परिवार को कई सप्ताह से आश्वासन दे रहे हैं लेकिन आपने चेक के इंतज़ार में सब गुड़-गोबर हो रहा है। उन्होंने राणा कपूर को जल्द से जल्द चेक पेमेंट की व्यवस्था करने को कहा। उसके अगले दिन राणा कपूर ने मिलिंद को फोन किया और उसी दिन 2 बजे दोपहर में दोनों की बैठक हुई। राणा से मिलने के लिए मिलिंद ने अपनी फ्लाइट तक कैंसल कर दी थी।

मिलिंद ने राणा को कह दिया था कि वो चिट्ठी और चेक तैयार रखें, जिन्हें लेने वो उनके दफ्तर आ रहे हैं। इस पेंटिंग को बेचवाने में मिलिंद देवड़ा ने दिन-रात एक कर दिया था, ऐसा प्रतीत होता है। लगातार राणा कपूर के पीछे पड़ना, अपने पिता तक को इसमें शामिल करना और चेक पेमेंट लेने के लिए फ्लाइट तक कैंसल कर देना- इन चीजों से उनकी बेचैनी तो समझी जा सकती है लेकिन इसकी वजह साफ़ नहीं है।

जून 4, 2010 को प्रियंका गाँधी ने राणा कपूर को पत्र लिख कर पेंटिंग को ख़रीदने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने इसी पत्र में बताया कि इस पेंटिंग को 1985 में उनके पिता व तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गाँधी को ये गिफ्ट के रूप में मिला था और अभी ये उनके स्वामित्व में है। इसी पत्र में प्रियंका ने इसकी भी पुष्टि की कि उन्हें राणा कपूर का चेक मिल चुका है और पेमेंट डन हो गया है। अंत में उन्होंने राणा को लिखा है कि उन्हें विश्वास है कि वो इस पेंटिंग को सही तरीके से रखेंगे।

मिलिंद देवड़ा ने ही इस पेंटिंग का मूल्य 2 करोड़ रुपए तय किया था और राणा को इस सम्बन्ध में सूचित किया। उन्होंने राणा कपूर को सलाह दी थी कि वो प्रियंका को लिखें कि इस पेंटिंग के एवज में 2 करोड़ रुपए देने को राजी हो गए हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

Covaxin के लिए जमा कर लीजिए पैसे, कंपनी चाहती है ज्यादा से ज्यादा कीमत: मनी कंट्रोल में छपी खबर – Fact Check

मनी कंट्रोल ने अपने लेख में कहा, "बाजार में कोविड वैक्सीन की कीमत 1000 रुपए, भारत बायोटेक कोवैक्सीन के लिए चाहता है अधिक से अधिक कीमत"

PM मोदी के साथ मीटिंग को केजरीवाल ने बिना बताए कर दिया Live: बात हो रही थी जिंदगी बचाने की, करने लगे राजनीति

इस बैठक में केजरीवाल ने लाचारों की तरह पहले पीएम मोदी से ऑक्सीजन को लेकर अपील की और बाद में बातचीत पब्लिक कर दी।

उनके पत्थर-हमारे अन्न, उनके हमले-हमारी सेवा: कोरोना की लहर के बीच दधीचि बने मंदिरों की कहानी

देश के कई छोटे-बड़े मंदिर कोरोना काल में जनसेवा में लगे हैं। हम आपको उन 5 मंदिरों के बारे में बता रहे हैं, जिनकी सेवा ने सबको प्रभावित किया है।

विरार हो या भंडारा, सवाल वहीः कब तक जड़ता को मुंबई स्पिरिट या दिलेर दिल्ली बता मन बहलाते रहेंगे

COVID-19 की दूसरी लहर बहुत तेज है और अधिकतर राज्यों में स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा गई है। पर ऐसा क्यों है कि महाराष्ट्र सरकार के संक्रमण रोकने के प्रयास शुरू से ही असफल दिखाई देते रहे हैं?

B.1.618 ट्रिपल म्यूटेंट कोरोना वायरस: 60 दिनों में 12% केस इसी के, टीकों-एंटीबॉडी का मुकाबला करने में भी सक्षम

"बंगाल में हाल के महीनों में B.1.618 बहुत तेजी से फैला है। B.1.617 के साथ मिलकर इसने पश्चिम बंगाल में बड़ा रूप धारण कर लिया है।"

शाहनवाज दूत है, कोरोना मरीजों के लिए बेच डाला कार: 10 महीने पुरानी खबर मीडिया में फिर से क्यों?

'शाहनवाज शेख ने मरीजों को ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया कराने के लिए अपनी SUV बेच डाली' - जून 2020 में चली खबर अप्रैल 2021 में फिर चलाई जा रही।

प्रचलित ख़बरें

‘प्लाज्मा के लिए नंबर डाला, बदले में भेजी गुप्तांग की तस्वीरें; हर मिनट 3-4 फोन कॉल्स’: मुंबई की महिला ने बयाँ किया दर्द

कुछ ने कॉल कर पूछा क्या तुम सिंगल हो, तो किसी ने फोन पर किस करते हुए आवाजें निकाली। जानिए किस प्रताड़ना से गुजरी शास्वती सिवा।

सीताराम येचुरी के बेटे का कोरोना से निधन, प्रियंका ने सीताराम केसरी के लिए जता दिया दुःख… 3 बार में दी श्रद्धांजलि

प्रियंका गाँधी ने इस घटना पर श्रद्धांजलि जताने हेतु ट्वीट किया। ट्वीट को डिलीट किया। दूसरे ट्वीट को भी डिलीट किया। 3 बार में श्रद्धांजलि दी।

पाकिस्तान के जिस होटल में थे चीनी राजदूत उसे उड़ाया, बीजिंग के ‘बेल्ट एंड रोड’ प्रोजेक्ट से ऑस्ट्रेलिया ने किया किनारा

पाकिस्तान के क्वेटा में उस होटल को उड़ा दिया, जिसमें चीन के राजदूत ठहरे थे। ऑस्ट्रेलिया ने बीआरआई से संबंधित समझौतों को रद्द कर दिया है।

अम्मी कोविड वॉर्ड में… फिर भी बेहतर बेड के लिए इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर का सिर फोड़ा: UP पुलिस से सस्पेंड

इंस्पेक्टर जुल्फिकार ने डॉक्टर को पीटा। ये बवाल उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में कोविड-19 लेवल थ्री स्वरूपरानी अस्पताल (SRN Hospital) में हुआ।

रेप में नाकाम रहने पर शकील ने बेटी को कर दिया गंजा, जैसे ही बीवी पढ़ने लगती नमाज शुरू कर देता था गंदी हरकतें

मेरठ पुलिस ने शकील को गिरफ्तार किया है। उस पर अपनी ही बेटी ने रेप करने की कोशिश का आरोप लगाया है।

मधुबनी: धरोहर नाथ मंदिर में सोए दो साधुओं का गला कुदाल से काटा, ‘लव जिहाद’ का विरोध करने वाले महंत के आश्रम पर हमला

बिहार के मधुबनी जिला स्थित खिरहर गाँव में 2 साधुओं की गला काट हत्या कर दी गई है। इससे पहले पास के ही बिसौली कुटी के महंत के आश्रम पर रात के वक्त हमला हुआ था।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

293,859FansLike
83,529FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe