Sunday, July 14, 2024
Homeराजनीतिमदरसों की वजह से अंधेरे में मुस्लिम, उन्हें PM मोदी के उजाले की जरूरत:...

मदरसों की वजह से अंधेरे में मुस्लिम, उन्हें PM मोदी के उजाले की जरूरत: बीजेपी उम्मीदवार अब्दुल सलाम बोले- केरल में मुस्लिम अलग ही दौर में जी रहे

अब्दुल सलाम ने केरल के मुस्लिमों के दिमाग में अँधेरा भरे होने की बात कही और कहा कि उनका लक्ष्य रहेगा कि वो मुस्लिमों के मन में पीएम मोदी के प्रति भरी नकारात्मकता को दूर करें।

बीजेपी ने केरल से अब्दुल सलाम को मल्लपुरम लोकसभा सीट से मैदान में उतारा है। वो कालीकट यूनिवर्सिटी के वीसी (वाइस चांसलर) रहे हैं। साल 2021 के विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी के टिकट पर मैदान में उतरे अब्दुल सलाम खुद को पीएम मोदी का बड़ा प्रशंसक बताते हैं। अब्दुल सलाम ने कहा कि पीएम मोदी ने देश के अल्पसंख्यकों के लिए जितना काम किया है, उतना किसी ने भी नहीं किया। अब्दुल सलाम ने मुस्लिमों को भारत में सऊदी अरब से भी ज्यादा सुरक्षित बताया है। अब्दुल सलाम ने केरल के मुस्लिमों के दिमाग में अँधेरा भरे होने की बात कही और कहा कि उनका लक्ष्य रहेगा कि वो मुस्लिमों के मन में पीएम मोदी के प्रति भरी नकारात्मकता को दूर करें।

न्यूज 18 से बातचीत में मल्लपुरम से बीजेपी उम्मीदवार अब्दुल सलाम ने कहा, “मेरा पहला टास्क है कि मैं मुस्लिम अल्पसंख्यकों के अंधेरे दिमाग में पीएम मोदी की रोशनी की चमक लाऊँ।” अब्दुल सलाम ने कहा कि केरल में मुस्लिम अलग ही दौर में जी रहे हैं। उन्हें मदरसों से दिशा मिलती है, जिनका नेटवर्क बहुत सख्त है। मैं पीएम मोदी के विकास की रोशनी इनकी जिंदगी में भर दूँ। मैं बताउँगा उन्हें कि आप अंधेरे में रह रहे हैं, जो वास्तव में नहीं है। बल्कि, ऐसा माहौल आपके आसपास बनाया गया है, ताकि आप भ्रम में बने रहें। हकीकत ये है कि पीएम मोदी ने काफी समय और पैसा देश के मुस्लिमों और इसाइयों के विकास के लिए दिया है।

अब्दुल सलाम ने कहा कि भारत में अल्पसंख्यक सबसे ज्यादा सुरक्षित हैं। किसी भी देश की तुलना में। उन्होंने कहा, “भारत में मुस्लिमों को दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा आजादी है। यहाँ के मुस्लिमों को सऊदी अरब के मुस्लिमों से ज्यादा आजादी है। यहाँ के अल्पसंख्यक अपनी बात रख सकते हैं। अपने धर्म का विस्तार कर सकते हैं। लोकतांत्रिक आजादी को जी सकते हैं। उन्होंने कहा कि विपक्षी इंडी गठबंधन सिर्फ प्रोपेगेंडा फैलाता है।”

अब्दुल सलाम ने कहा कि इंडी एलायंस की ‘पब्लिक मनी की लूट’ रुक गई है, क्योंकि वो 10 साल से सत्ता में नहीं है। ऐसे में वो बीजेपी और मुस्लिमों के बीच कॉन्ग्रेस प्रोपेगेंडा फैला रही है।

बता दें कि अब्दुल सलाम कालीकट यूनिवर्सिटी के वाइस-चांसलर रहे हैं। अब्दुल सलाम देश के सबसे ज्यादा पढ़े लिखे नेताओं में एक है, वह केरल एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर भी रहे हैं। अब्दुल सलाम ने अब तक 153 शोध पत्र लिखे हैं, तो 15 समीक्षा लेख के साथ उनकी लिखी 15 किताबें भी प्रकाशित हो चुकी हैं। वो शैक्षणिक दुनिया में बड़ा नाम माने जाते हैं।

अब्दुल सलाम ने कहा, “मैं तो साल 2014 से पीएम मोदी का बड़ा फैन रहा हूँ। मेरा दिल तभी बीजेपी से जुड़ गया था। हालाँकि मैंने 2019 में आधिकारिक तरीके से बीजेपी में एंट्री ली।” अब्दुल सलाम साल 2021 में केरल विधानसभा चुनाव भी लड़ा था। वो मल्लपुरम के तिरूर सीट से बीजेपी उम्मीदवार के तौर पर उतरे थे और 9097 वोटों के साथ तीसरे नंबर पर रहे थे।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

US में पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को लगी गोली, हमलावर सहित 2 की मौत: PM मोदी ने जताया दुख, कहा- ‘राजनीति में हिंसा की...

गोलीबारी के दौरान सुरक्षाबलों ने हमलावर को मार गिराया। इस हमले में डोनाल्ड ट्रंप घायल हो गए और उनके कान से निकला खून उनके चेहरे पर दिखा।

छात्र झारखंड के, राष्ट्रगान बांग्लादेश-पाकिस्तान का, जनजातीय लड़कियों से ‘लव जिहाद’, फिर ‘लैंड जिहाद’: HC चिंतित, मरांडी ने की NIA जाँच की माँग

झारखंड में जनजातीय समाज की समस्या पर भाजपा विरोधी राजनीतिक दल भी चुप रहते हैं, जबकि वो खुद को पिछड़ों का रहनुमा कहते नहीं थकते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -