Tuesday, July 27, 2021
Homeदेश-समाजकॉन्ग्रेस ने किया किसानों को कर्ज़ के लिए मजबूर, अब कर रही है कर्जमाफ़ी...

कॉन्ग्रेस ने किया किसानों को कर्ज़ के लिए मजबूर, अब कर रही है कर्जमाफ़ी के नाम पर गुमराह: PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भाजपा और कॉन्ग्रेस में सबसे बड़ा अंतर ये है कि कॉन्ग्रेस हमेशा किसानों को वोट बैंक की तरह देखती आई है, जबकि उनके लिए किसान अन्नदाता हैं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शनिवार को अपने झारखंड दौरे पर हैं, जहाँ पलामू जिले से उन्होंने कई योजनाओं का शिलान्यास किया। झारखंड के पलामू पहुँचकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कई विकास परियोजनों की आधारशिला रखी, जिनमे उत्तरी कोयल (मंडल बांध) परियोजना और कनहर स्टोन पाइपलाइन सिंचाई प्रणाली के पुनरुद्धार की प्रमुख हैं।

शिलान्यास के बाद प्रधानमंत्री ने जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि किसान अगर आज कर्ज़ लेने के लिए मजबूर हुआ है तो इसके पीछे कॉन्ग्रेस की किसान-विरोधी नीतियों का योगदान रहा है। नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज़ादी के बाद साठ सालों तक किसानों ने कॉन्ग्रेस सरकार को अवसर दिया लेकिन किसानों कि दशा नहीं सुधरी है।

‘कॉन्ग्रेस के लिए किसान है सिर्फ वोटबैंक, हमारे लिए है अन्नदाता’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भाजपा और कॉन्ग्रेस में सबसे बड़ा अंतर ये है कि कॉन्ग्रेस हमेशा किसानों को वोट बैंक की तरह देखती आई है, जबकि उनके लिए किसान अन्नदाता हैं। उन्होंने कहा कि यदि कॉन्ग्रेस ने समय रहते किसान हितों की परियोजनाओं को पूरा किया होता, तो आज देश का किसान कर्ज़ लेने के लिए मजबूर नहीं होता और अब कॉन्ग्रेस किसानों को कर्जमाफ़ी के नाम पर गुमराह कर रही है ।

प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों के लिए लाई गई योजनाओं के बारे में कहा, “देश के उज्जवल भविष्य के लिए देश के किसानों को ताकतवर बनाने की दिशा में हम आगे बढ़ रहें है। हम किसानों और देश की सेवा को अपना धर्म मानकर कार्य कर रहें है। बीच से बाज़ार तक नई व्यवस्था खड़ी करके हम किसान को सशक्त कर रहें है। पहले की योजनाएँ जो नामों के आधार पर चली वो आज जमीन पर दिखाई नहीं पड़ती हैं, हमारी सरकार नाम के झगड़ों में ना पड़कर काम करने पर विश्वास करती है।”

पीएम मोदी ने कहा कि उनकी सरकार योजना के लाभार्थियों को सीधा खातों में पैसा जमा कर के पारदर्शिता और ईमानदारी से काम कर रही है और वर्तमान सरकार में बिचौलियों और दलालों के लिए कोई जगह नहीं है। उन्होंने कॉन्ग्रेस पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा, “देश में रिमोट कंट्रोल वाली सरकार ने पाँच साल में गाँवों में मात्र 25 लाख घर बनवाए, जबकि हमने पाँच साल से भी कम समय में एक करोड़ पच्चीस लाख घर बनवा दिये हैं जो कि मात्र चारदीवारी नहीं, बल्कि उन तमाम मूलभूत सुविधाओं वाले घर हैं जो कि एक परिवार के लिए आवश्यक होती हैं।”

पलामू में जनसभा को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि NDA सरकार मध्यमवर्गीय परिवार का भी ध्यान रख रही है। सरकार उन्हें हाउस लोन में राहत दे रही है। ‘सबका साथ, सबका विकास’ की बात करते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह कथन उनकी सरकार का ध्येय भी है और लक्ष्य भी है।

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ओड़ीसा रवाना हो गए जहाँ वो ₹7,732 करोड़ की परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे । प्रधानमंत्री बारीपाड़ा में आईओसीएल की एलपीजी पाइपलाइन परियोजना का बालासोर-हल्दिया-दुर्गापुर खंड और बालासोर मल्टी-मोडल लॉजिस्टिक पार्क राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘राजीव गाँधी थे PM, उत्तर-पूर्व में गिरी थी 41 लाशें’: मोदी सरकार पर तंज कसने के फेर में ‘इतिहासकार’ इरफ़ान हबीब भूले 1985

इतिहासकार व 'बुद्धिजीवी' इरफ़ान हबीब ने असम-मिजोरम विवाद के सहारे मोदी सरकार पर तंज कसा, जिसके बाद लोगों ने उन्हें सही इतिहास की याद दिलाई।

औरतों का चीरहरण, तोड़फोड़, किडनैपिंग, हत्या: बंगाल हिंसा पर NHRC की रिपोर्ट से निकली एक और भयावह कहानी

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) ने 14 जुलाई को बंगाल में चुनाव के बाद हुई हिंसा पर अपनी अंतिम रिपोर्ट कलकत्ता हाईकोर्ट को सौंपी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,464FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe