Monday, June 17, 2024
Homeराजनीतिअचानक राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुँचे CM नीतीश कुमार, माँझी ने 'खेला होई' कह...

अचानक राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुँचे CM नीतीश कुमार, माँझी ने ‘खेला होई’ कह कर बढ़ाया बिहार का राजनीतिक पारा: न्याय यात्रा पर कॉन्ग्रेस को जदयू का झटका

विपक्ष के I.N.D.I. गठबंधन में संयोजक न बनाए जाने से नाराज़ नीतीश ने दबाव बनाने के लिए ललन सिंह को हटा कर खुद जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी सँभाल ली थी।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार मंगलवार (23 जनवरी, 2024) को अचानक से राज्यपाल राजेंद्र अर्लेकर से मिलने के लिए राजभवन पहुँच गए। इससे बिहार में सियासी हलचल तेज़ हो गई है। वहीं पूर्व सीएम और HAM पार्टी के अध्यक्ष जीतन राम माँझी के ट्वीट ने राजनीतिक पारा और बढ़ा दिया। माँझी ने लिखा, “बंगला में कहते हैं – ‘खेला होबे’, मगही में कहते हैं – ‘खेला होकतो’, भोजपुरी में कहते हैं – ‘खेला होखी’। बाकी तो आप खुद ही समझदार हैं।”

बता दें कि बिहार की राजनीति में विरोधियों द्वारा नीतीश कुमार को अक्सर ‘पलटूरम’ कह कर चिढ़ाया जाता है, क्योंकि वो कभी राजद तो कभी भाजपा के साथ जाते रहे हैं। राजभवन पहुँचे मुख्यमंत्री के साथ बिहार के वित्त, वाणिज्य कर एवं संसदीय मामलों के मंत्री विजय कुमार चौधरी भी साथ में थे। विजय चौधरी बिहार विधानसभा के अध्यक्ष भी रहे हैं। बताया जा रहा है कि सीएम नीतीश कुमार का राजभवन जाने की पहले से कोई योजना नहीं थी, अचानक ये प्लान बना।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर के बीच इस दौरान लगभग 40 मिनट तक बैठक हुई। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के संबंध में दोनों की मुलाकात हुई है। बता दें कि राज्यपाल सरकारी यूनिवर्सिटीज के कुलाधिपति होते हैं। वहीं कुछ लोग कह रहे हैं कि बजट सत्र के संबंध में ये चर्चा हुई है। वहीं गठबंधन साथी राजद ने इसे सामान्य मुलाकात बताते हुए गठबंधन को मजबूत करार दिया। पार्टी ने कहा कि विपक्ष एक साजिश के तहत इसे दूसरा मोड़ दे रहा है, लेकिन उसकी मंशा पूरी नहीं होगी।

विपक्ष के I.N.D.I. गठबंधन में संयोजक न बनाए जाने से नाराज़ नीतीश ने दबाव बनाने के लिए ललन सिंह को हटा कर खुद जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष की जिम्मेदारी सँभाल ली थी। उधर जदयू नेता खालिद अनवर ने कहा है कि राहुल गाँधी की न्याय यात्रा में शामिल होने के लिए नीतीश कुमार को कोई आधिकारिक न्योता नहीं मिला है। कॉन्ग्रेस इससे पहले कह रही थी कि नीतीश यात्रा का स्वागत करेंगे। कई राजनीतिक विश्लेषक कहते हैं कि महागठबंधन के स्थानीय नेता राजद-जदयू मेल से खुश नहीं हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बकरों के कटने से दिक्कत नहीं, दिवाली पर ‘राम-सीता बचाने नहीं आएँगे’ कह रही थी पत्रकार तनुश्री पांडे: वायर-प्रिंट में कर चुकी हैं काम,...

तनुश्री पांडे ने लिखा था, "राम-सीता तुम्हें प्रदूषण से बचाने के लिए नहीं आएँगे। अगली बार साफ़-स्वच्छ दिवाली मनाइए।" बकरीद पर बदल गए सुर।

पावागढ़ की पहाड़ी पर ध्वस्त हुईं तीर्थंकरों की जो प्रतिमाएँ, उन्हें फिर से करेंगे स्थापित: गुजरात के गृह मंत्री का आश्वासन, महाकाली मंदिर ने...

गुजरात के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि किसी भी ट्रस्ट, संस्था या व्यक्ति को अधिकार नहीं है कि इस पवित्र स्थल पर जैन तीर्थंकरों की ऐतिहासिक प्रतिमाओं को ध्वस्त करे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -