Sunday, October 17, 2021
Homeराजनीति'पूरे यूपी में प्रियंका गाँधी से बड़ा कोई ब्राह्मण चेहरा नहीं': जितिन प्रसाद के...

‘पूरे यूपी में प्रियंका गाँधी से बड़ा कोई ब्राह्मण चेहरा नहीं’: जितिन प्रसाद के BJP में शामिल होने पर भड़के लल्लू

लल्लू ने दावा किया कि कॉन्ग्रेस ने तब जितिन प्रसाद और उनके परिवार मदद की थी, जब उन्हें इसकी सख्त ज़रूरत थी। उन्होंने ये भी कहा कि वो मात्र 35 वर्ष की उम्र में केंद्रीय मंत्रिमंडल का हिस्सा बने, क्योंकि कॉन्ग्रेस ने उनका हमेशा साथ दिया।

उत्तर प्रदेश में कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने दावा किया है कि यूपी में प्रियंका गाँधी से बड़ा कोई ब्राह्मण चेहरा नहीं है। उन्होंने जितिन प्रसाद के भाजपा में जाने के मुद्दे पर ये टिप्पणी की। बता दें कि जितिन प्रसाद को कॉन्ग्रेस का बड़ा ब्राह्मण चेहरा माना जाता था, लेकिन अब इसी कॉन्ग्रेस ने कहा है कि जो व्यक्ति अपनी सीट तक नहीं बचा पाया, उसके जाने से पार्टी को कोई नुकसान नहीं होगा।

अजय कुमार लल्लू ने दावा किया कि जितिन प्रसाद पिछले दिनों सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव से भी मिले थे और बात न बनने पर भाजपा में चले गए। उन्होंने जितिन प्रसाद के ‘राजनीतिक चरित्र’ पर सवाल खड़ा करते हुए आरोप लगाया कि उन्होंने कॉन्ग्रेस के साथ विश्वासघात किया है। वहीं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कॉन्ग्रेस छोड़ कर ‘भाजपा के वृहद परिवार’ में शामिल होने वाले जितिन प्रसाद का स्वागत करते हुए कहा कि उनके आने से पार्टी को मजबूती मिलेगी।

वहीं लल्लू ने दावा किया कि कॉन्ग्रेस ने तब उनकी और उनके परिवार मदद की थी, जब उन्हें इसकी सख्त ज़रूरत थी। उन्होंने ये भी कहा कि वो मात्र 35 वर्ष की उम्र में केंद्रीय मंत्रिमंडल का हिस्सा बने, क्योंकि कॉन्ग्रेस ने उनका हमेशा साथ दिया। बता दें कि 2008 में उन्हें मनमोहन सिंह के के मंत्रिमंडल में बतौर राज्यमंत्री शामिल किया गया था। यूपीए-2 के दौरान भी उन्हें इसी पद पर रहते हुए कई विभागों का जिम्मा सौंपा गया।

उधर जितिन प्रसाद ने भाजपा में शामिल होने पर कहा है कि ये उनका नया राजनीतिक अध्याय शुरू हो रहा है। सचिन पायलट जब कॉन्ग्रेस से नाराज थे, तब जितिन प्रसाद ने उनका समर्थन किया था। जब जितिन ने ब्राह्मणों के अधिकार की लड़ाई हेतु ‘ब्रह्म चेतना संवाद’ कार्यक्रम की घोषणा की तो पार्टी ने इससे किनारा कर के इसे उनका निजी कार्यक्रम बता दिया था। हालाँकि, जितिन प्रसाद पिछले 3 चुनाव हार चुके हैं।

उन्हें 2014 और 2019 में धौरहरा से लोकसभा चुनाव और 2017 में तिलहर विधानसभा क्षेत्र से उन्हें हार नसीब हुई थी। लेकिन, ये भी गौर करने वाली बात है कि इन चुनावों में कॉन्ग्रेस की स्थिति और भी बदतर थी। फिर भी कॉन्ग्रेस को उनके जाने से नुकसान तय माना जा रहा है, क्योंकि पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पार्टी के संगठन को उन्होंने ही जीवित किया था। ऊपर से कॉन्ग्रेस सीएम योगी को ‘ब्राह्मण विरोधी चेहरा’ बनाने में लगी थी। अब इस अभियान को झटका लगा है।

47 वर्षीय जितिन प्रसाद कॉन्ग्रेस के उन 23 नेताओं में शामिल थे, जिन्होंने आलाकमान को पत्र लिख कर संगठन में चुनाव कराने और बदलाव की माँग की थी, जिसके बाद यूपी के ही कुछ कॉन्ग्रेस नेता उनके पीछे पड़ गए थे। तब कपिल सिब्बल ने भी उन्हें परेशान किए जाने पर आपत्ति जताई थी। उनके पिता जितेंद्र प्रसाद ने  2000 में उन्होंने सोनिया गाँधी के खिलाफ कॉन्ग्रेस अध्यक्ष का चुनाव लड़ा था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

डीजल डाल कर जला दिया दलित लखबीर का शव, चेहरा तक नहीं देखने दिया परिजनों को: ग्रामीणों ने किया बहिष्कार

डीजल डाल कर मोबाइल की रोशनी में दलित लखबीर सिंह के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। शव से पॉलीथिन नहीं हटाया गया। परिजन चेहरा तक न देख पाए।

पश्चिम बंगाल में दुर्गा विसर्जन से लौट रहे श्रद्धालुओं पर बम से हमला, कई घायल, पुलिस ने कहा – ‘हमलावरों की अभी तक पहचान...

हमलावर मौके से फरार हो गए। सूचना पाकर पहुँची पुलिस ने लोगों की भीड़ को हटाकर मामला शांत किया और घायलों को अस्पताल भेजा।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,199FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe