Tuesday, February 7, 2023
Homeराजनीति'जिन्ना बनते देश के पहले PM तो नहीं होता बँटवारा': अखिलेश यादव के बाद...

‘जिन्ना बनते देश के पहले PM तो नहीं होता बँटवारा’: अखिलेश यादव के बाद अब उनके ‘पार्टनर’ का उमड़ा ‘जिन्ना प्रेम’

'सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी' के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने कहा, "जिन्ना को लेकर आडवाणी जी, अटल जी और उनके शुभचिंतकों के विचार पढ़िए। वो क्यों उनकी तारीफ करते थे।"

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नजदीक आते ही एक बार फिर पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना का जिन्न बाहर आ गया है। अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने की बात कहने वाले समाजवादी पार्टी की सहयोगी सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष (SBSP) ओमप्रकाश राजभर ने अब अपने नए ‘पार्टनर’ के नक्शे कदम पर चलते हुए जिन्ना की तारीफ में कसीदे पढ़े हैं।

अखिलेश यादव ने जिन्ना को स्वतंत्रता सेनानी बताया है। क्या आप इससे सहमत हैं? मीडियाकर्मी के इस सवाल पर राजभर ने बुधवार (10 नवंबर 2021) को कहा, ”अगर मोहम्मद अली जिन्ना को भारत का पहला प्रधानमंत्री बना दिया गया होता तो देश का बँटवारा नहीं होता।”

उन्होंने आडवाणी, अटल बिहारी का हवाला देते हुए कहा, “जिन्ना को लेकर आडवाणी जी, अटल जी और उनके शुभचिंतकों के विचार पढ़िए। वो क्यों उनकी तारीफ करते थे।” पत्रकार पर भड़कते हुए होते हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ने कहा कि आप लोगों पर जिन्ना का भूत सवार है। महँगाई पर क्यों नहीं कुछ पूछते हो?

राजभर यही नहीं रुके उन्होंने भाजपा पर जमकर हमले भी किए। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी से अगर मुसलमान हटा दिया दिजिए, भारत-पाकिस्तान हटा दिया दिजिए, हिंदू-मुसलमान हटा दिजिए और मंदिर-मस्जिद हटा दिजिए तो उनकी जबान बंद हो जाती है। वही भाषा आप लोगों ने बोलना शुरू कर दी है।

इससे पहले ओमप्रकाश राजभर ‘मारने-दफनाने’ जैसे शब्दों के साथ मैदान में उतरे थे। उन्होंने 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में देश की सबसे बड़ी पार्टी यानी BJP को जमीन में दफन करने की धमकी दी थी। साथ ही उन्होंने समाजवादी पार्टी के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को मुख्यमंत्री बनाने की बात भी कह डाली थी।

बता दें कि पिछले दिनों यूपी के हरदोई में एक जनसभा के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मोहम्मद अली जिन्ना की तुलना महात्मा गाँधी, जवाहरलाल नेहरू और सरदार पटेल के साथ की।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

आफताब ने श्रद्धा की हड्डियों को पीस कर बनाया पाउडर, जला डाला चेहरा, डस्टबिन में डाल दी थी आँतें, ₹2000 की ब्रीफकेस में पैक...

आफताब ने पुलिस को यह भी बताया है कि उसने जिस दिन श्रद्धा की हत्या की थी। उसी दिन श्रद्धा के अकांउट से अपने अकाउंट में 54000 रुपए भेजे थे।

‘मैं रामचरितमानस को नहीं मानती, तुलसीदास कोई संत नहीं’: सपा MLA को तुलसीदास के ग्रन्थ से दिक्कत, कहा – हिम्मत है तो मेरी ताड़ना...

सपा विधायक पल्लवी पटेल ने कहा है कि वह रामचरितमानस को नहीं मानती हैं और इसमें शूद्र शब्द हटाने के लिए आंदोलन करेंगी। उनके लिए तुलसीदास संत नहीं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
244,281FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe