Thursday, May 30, 2024
Homeराजनीति'अखिलेश यादव से कहकर आया हूँ, पहले हिसाब होगा फिर ट्रांसफर': मुख्तार अंसारी के...

‘अखिलेश यादव से कहकर आया हूँ, पहले हिसाब होगा फिर ट्रांसफर’: मुख्तार अंसारी के बेटे ने अधिकारियों को धमकाया, FIR दर्ज

"अखिलेश यादव से कह कर आया हूँ कि 6 महीने तक किसी की ट्रांसफर-पोस्टिंग नहीं होगी भैया। जो यहाँ है, वो यहाँ ही रहेगा। पहले हिसाब-किताब होगा।"

उत्तर प्रदेश की 403 सदस्यीय विधानसभा के लिए अंतिम चरण का मतदान सात मार्च को होना। इसी दिन मऊ सदर सीट पर भी वोटिंग होगी। यहाँ से सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का उम्मीदवार माफिया डॉन मुख्तार अंसारी का बेटा अब्बास है। उसे समाजवादी पार्टी का भी समर्थन हासिल है। अब्बास अंसारी का एक वीडियो सामने आया है। इसमें वह अधिकारियों को धमकी दे रहा है।

सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहे वीडियो में अब्बास अंसारी धमकी भरे लहजे में कह रहा है कि सरकार आने पर 6 महीने तक ट्रांसफर-पोस्टिंग नहीं की जाएगी, पहले हिसाब होगा। अंसारी ने कहा, “समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से ये कह कर आया हूँ कि 6 महीने तक किसी की ट्रांसफर-पोस्टिंग नहीं होगी भैया। जो यहाँ है, वो यहाँ ही रहेगा। पहले हिसाब-किताब होगा। उसके बाद उनके जाने के टिकट पर मुहर लगाया जाएगा।” बता दें कि मुख्तार अंसारी फिलहाल बांदा जेल में बंद है।

वीडियो वायरल होने के बाद अब्बास अंसारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। मऊ पुलिस ने ट्वीट कर बताया है कि अब्बास अंसारी के वायरल वीडियो के संबंध में थाना कोतवाली पर आचार संहिता के उलंघन के संबंध में आईपीसी की धारा 171च और 506 के तहत मामला दर्ज किया गया है और संबंधित निवार्चन अधिकारी को अग्रिम कार्यवाही हेतु रिपोर्ट दी गई है।

बता दें कि बाहुबली मुख्तार अंसारी मऊ सदर विधानसभा सीट से 5 बार विधायक रहा है। लेकिन इस बार वह चुनाव नहीं लड़ रहा। उसकी जगह उसका बड़ा बेटा अब्बास अंसारी चुनावी मैदान में हैं। ओमप्रकाश राजभर की सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (SBSP) ने मऊ सदर विधानसभा सीट से अब्बास अंसारी को चुनावी मैदान में उतारा है। समाजवादी पार्टी का सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ गठबंधन है। 10 मार्च को अन्य चुनावी राज्यों के साथ यूपी में भी चुनाव के नतीजे आएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

200+ रैली और रोडशो, 80 इंटरव्यू… 74 की उम्र में भी देश भर में अंत तक पिच पर टिके रहे PM नरेंद्र मोदी, आधे...

चुनाव प्रचार अभियान की अगुवाई की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने। पूरे चुनाव में वो देश भर की यात्रा करते रहे, जनसभाओं को संबोधित करते रहे।

जहाँ माता कन्याकुमारी के ‘श्रीपाद’, 3 सागरों का होता है मिलन… वहाँ भारत माता के 2 ‘नरेंद्र’ का राष्ट्रीय चिंतन, विकसित भारत की हुंकार

स्वामी विवेकानंद का संन्यासी जीवन से पूर्व का नाम भी नरेंद्र था और भारत के प्रधानमंत्री भी नरेंद्र हैं। जगह भी वही है, शिला भी वही है और चिंतन का विषय भी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -