Wednesday, June 19, 2024
Homeराजनीतिड्राइवर और गाड़ी छोड़ भाग खड़े हुए पी चिदंबरम, फोन भी स्विच ऑफ, अंतिम...

ड्राइवर और गाड़ी छोड़ भाग खड़े हुए पी चिदंबरम, फोन भी स्विच ऑफ, अंतिम लोकेशन लोधी रोड

ईडी ने चिदंबरम के ख़िलाफ़ लुकआउट सर्कुलर जारी कर दिया है, जिसके बाद वह विदेश नहीं भाग पाएँगे।

पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम गिरफ़्तारी से बचने के लिए कहाँ छिपे हुए हैं, किसी को नहीं पता। उनका मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ हो गया है। कुछ नई जानकारियाँ आई हैं, जिनके मुताबिक पी चिदंबरम ने मंगलवार (अगस्त 19, 2019) को सुप्रीम कोर्ट के प्रांगण से निकलने के बाद अपने ड्राइवर को भी साथ नहीं लिया। अर्थात, वह अपने ड्राइवर को छोड़ कर ही भाग खड़े हुए। उनके फोन का अंतिम लोकेशन लोधी रोड के आसपास पाया गया है।

जिस कार से वह सुप्रीम कोर्ट पहुँचे थे, उन्होंने वह गाड़ी भी वहीं छोड़ दी। इसका मतलब यह है कि राज्यसभा सांसद चिदंबरम अपनी आधिकारिक गाड़ी से यात्रा नहीं कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर लोगों ने कहा कि वर्षों तक केंद्रीय मंत्री रहे नेता का इस तरह से क़ानून की नज़रों से छिपना शोभा नहीं देता।

प्रवर्तन निदेशालय ने चिदंबरम के ड्राइवर से पूछताछ की लेकिन उसे भी नहीं पता कि चिदंबरम कहाँ छिपे हुए हैं। चिदंबरम के वकीलों ने जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। मामले को अर्जेन्ट सुनवाई के लिए लिस्ट किया गया है। फिलहाल सीजेआई गोगोई राम मंदिर मामले की सुनवाई में व्यस्त हैं। उधर ईडी ने चिदंबरम के ख़िलाफ़ लुकआउट सर्कुलर जारी कर दिया है, जिसके बाद वह विदेश नहीं भाग पाएँगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

किताब से बहती नदी, शरीर से उड़ते फूल और खून बना दूध… नालंदा की तबाही का दोष हिन्दुओं को देने वाले वामपंथी इतिहासकारों का...

बख्तियार खिजली को क्लीन-चिट देने के लिए और बौद्धों को सनातन से अलग दिखाने के लिए वामपंथी इतिहासकारों ने नालंदा विश्वविद्यालय को तबाह किए जाने का दोष हिन्दुओं पर ही मढ़ दिया। इसके लिए उन्होंने तिब्बत की एक किताब का सहारा लिया, जो इस घटना के 500 साल बाद लिखी गई थी और जिसमें चमत्कार भरे पड़े थे।

कनाडा का आतंकी प्रेम देख भारत ने याद दिलाया कनिष्क ब्लास्ट, 23 जून को पीड़ितों को दी जाएगी श्रद्धांजलि: जानिए कैसे गई थी 329...

भारत ने एयर इंडिया के विमान कनिष्क को बम से उड़ाने की बरसी याद दिलाते हुए कनाडा में वर्षों से पल रहे आतंकवाद को निशाने पर लिया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -