‘जिसको आलू से सोना बनाना है वो उनके पास जाएँ, हम ऐसा नहीं कर सकते’ : PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सपा-बसपा और कॉन्ग्रेस पर हमला करते हुए कहा, "इन महामिलावटी लोगों ने चौकीदार को गाली दी, राम भक्तों को गाली दी, लेकिन परिणाम ये हुआ है कि ये सभी लोग खत्म हो गए।"

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उत्तर प्रदेश के कन्नौज में जनसभा को संबोधित करते हुए सपा-बसपा और कॉन्ग्रेस पर जमकर निशाना साधा। उन्हें ‘महामिलावटी’ करार दिया और शनिवार (अप्रैल 27, 2019) को आरोप लगाया कि इन पार्टियों का हाल ‘जात-पात जपना, जनता का माल अपना’ जैसा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के उस कथित बयान पर तंज किया, जिसमें दावा किया गया कि वह किसी मशीन से आलू से सोना बनाने की बात कर रहे थे। PM मोदी ने उसी एक बयान को राहुल गाँधी के खिलाफ इस्तेमाल करते हुए कहा कि आलू से सोना निकालने का काम भाजपा के बस की बात नहीं है।

नरेंद्र मोदी ने अपने भाषण में कहा, “हमारे देश में ऐसे बुद्धिमान और तेजस्वी लोग हैं, जो आलू से सोना बनाते हैं। वो काम हम नहीं कर सकते, न मेरी पार्टी कर सकती। जिसको आलू से सोना बनाना है, वो उनके पास जाये, हम ऐसा नहीं कर सकते।”

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

आज की जनसभा में किसानों को विश्वास दिलाते हुए नरेंद्र मोदी ने कहा, “हम कोल्ड स्टोरेज बनाएँगे, आलू का वैल्यू एडिशन बढ़ाएँगे और आलू से चिप्स बनवा सकते हैं और किसानों की आय दोगुना करने के प्रयास कर रहे हैं।”

आएगा तो मोदी ही’

भाषण के बीच नरेंद्र मोदी ने अपनी परिचित शैली में कहा, “सभी एकमत होकर कह रहे हैं, महामिलावटी लोग सारी कोशिश कर लो, लेकिन… आएगा तो मोदी ही!”

‘महामिलावटी लोगों ने चौकीदार को गाली दी, राम भक्तों को गाली दी’

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सपा-बसपा और कॉन्ग्रेस पर हमला करते हुए कहा, “इन महामिलावटी लोगों ने चौकीदार को गाली दी, राम भक्तों को गाली दी, लेकिन परिणाम ये हुआ है कि ये सभी लोग खत्म हो गए।”

इसके साथ ही, मोदी ने कहा कि ये चुनाव ना तो भाजपा लड़ रही है और ना ही भाजपा के कार्यकर्ता लड़ रहे हैं, इस बार का चुनाव उत्तर प्रदेश की जनता लड़ रही है। उन्होंने कहा, “आज मोदी का प्रचार वो बहन कर रही है, जिसने पूरी जिंदगी चूल्हे के धुएँ में निकाल दी थी और उसे उज्ज्वला योजना से गैस कनेक्शन मिला।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

सबरीमाला मंदिर
सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई के अवाला जस्टिस खानविलकर और जस्टिस इंदू मल्होत्रा ने इस मामले को बड़ी बेंच के पास भेजने के पक्ष में अपना मत सुनाया। जबकि पीठ में मौजूद जस्टिस चंद्रचूड़ और जस्टिस नरीमन ने सबरीमाला समीक्षा याचिका पर असंतोष व्यक्त किया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,578फैंसलाइक करें
22,402फॉलोवर्सफॉलो करें
117,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: