Wednesday, September 22, 2021
Homeराजनीति75वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई! 2014 से 2020 तक लाल किले से PM मोदी...

75वें स्वतंत्रता दिवस की बधाई! 2014 से 2020 तक लाल किले से PM मोदी के भाषणों की 55 मुख्य बातें

2014 में देश ऐसे पीएम को देख रहा था, जिन्होंने अपना भाषण कागज से पढ़ कर नहीं सुनाया बल्कि अपनी एक-एक बात ऐसे बोली कि हर देशवासी उनसे जुड़ता गया।

स्वतंत्र भारत के 75 वर्ष पूरे होने पर इस 15 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को 8वीं बार संबोधित करने वाले हैं। 2014 के लोकसभा चुनावों में प्रचंड बहुमत के साथ जीत हासिल करने के बाद नरेंद्र मोदी 26 मई 2014 को देश के 16वें प्रधानमंत्री बने थे। इसके बाद 30 मई 2019 में उन्हें 17वाँ प्रधानमंत्री बनने का भी अवसर मिला। इस बीच उन्होंने 15 अगस्त के मौके पर लाल किले से 7 बार देश को संबोधित किया। हर बार उनके भाषण, उनके हाव-भाव, उनके संकल्पों में एक नई ऊर्जा और वैश्विक स्तर पर देश को नई ऊँचाइयों पर पहुँचाने की प्रतिबद्धता नजर आई।

आज हम आपको उन्हीं भाषणों की मुख्य बातें बताएँगे, जो पीएम मोदी ने पिछले 6 सालों (2014-2020) में, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर लाल किले से देशवासियों को कही।

शुरुआत 2014 से…

पूरे देश में मोदी लहर के बाद जब आखिरकार 15 अगस्त 2014 को नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनकर लाल किले पर पहुँचे तो देशवासियों में अलग ही उत्साह था। पीएम मोदी ने भी इस उत्साह को फीका नहीं होने दिया। इस दौरान देश ऐसे पीएम को देख रहा था, जिन्होंने अपना भाषण कागज से पढ़कर नहीं सुनाया बल्कि अपनी एक-एक बात ऐसे बोली कि हर देशवासी उनसे जुड़ता गया। पूरा भाषण 65 मिनट का था।

अपने पहले संबोधन में PM मोदी ने,

-जन-धन योजना के तहत गरीबों को कार्ड देने का वादा किया और हर गरीब परिवार को 1 लाख रुपए का बीमा सुनिश्चित करने को कहा।
-विदेश में भारत की पहचान स्थापित करने के लिए ‘मेक इन इंडिया’ पर जोर दिया। साथ ही तकनीक के लिहाज से भारत को आगे ले जाने के लिए ‘डिजिटल इंडिया’ को अपना सपना बताया।
-ग्रामों के विकास के लिए ‘सांसद आदर्श ग्राम योजना’ की घोषणा हुई।
-2 अक्टूबर से स्वच्छता अभियान की घोषणा की गई और हर स्कूल में बच्चे-बच्चियों के लिए अलग-अलग शौचालय बनवाने का आह्वान किया।
-युवाओं के लिए भी पीएम ने स्किल डेवलपमेंट को तेजी से आगे बढ़ाने का संकल्प लिया।
-बेटियों के योगदान का महत्व समझाते हुए भ्रूण हत्या को भारत पर धब्बा बताया।
-रेप की घटनाओं की निंदा की।
-हिंसा को देश के विकास के रास्ते में सबसे बड़ा रोड़ा बताया।

बतौर पीएम, लाल किले से नरेंद्र मोदी का पहला भाषण

2015 में…

2015 में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी का भाषण 88 मिनट का था। इस बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से पड़ोसी देशों के साथ बेहतर संबंध बनाकर आगे बढ़ने पर जोर दिया था। इसके अलावा उन्होंने,

-उद्यमिता को प्रोत्साहित करने के लिए स्टार्ट-अप इंडिया पहल की घोषणा की।
-भारत की सीमाओं पर गलत नजर रखने वालों को चेतावनी दी।
-उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य अगले 1000 दिनों के भीतर सभी 18,500 गैर-विद्युतीकृत गाँवों में बिजली पहुँचाना है।
-सी और डी श्रेणी की सरकारी नौकरियों के लिए भर्ती में साक्षात्कार खत्म करने की घोषणा की।
-कृषि मंत्रालय का नाम बदलकर कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय कर दिया गया।
-वन रैंक वन पेंशन (OROP) की माँग को सैद्धांतिक रूप से स्वीकृति की घोषणा की।

2015 में स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी की स्पीच

2016 में…

2016 में प्रधानमंत्री ने अपने पिछले दो भाषणों की समय सीमा का रिकॉर्ड तोड़ते हुए देश को 94-96 मिनट संबोधित किया। इस दौरान पीएम ने कई घोषणाएँ की। साथ ही पिछले वादों पर कितना काम हुआ इसकी जानकारी दी।

-उन्होंने कहा कि 2 करोड़ से अधिक शौचालय बनाए गए।
-21 करोड़ लोगों को प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत जोड़ा गया।
-सरकार ने लगभग 1700 अप्रचलित कानूनों की पहचान की और संसद ने उनमें से लगभग 1175 को समाप्त कर दिया।
-60 साल में 14 करोड़ लोगों को रसोई गैस का कनेक्शन दिया गया था, मोदी सरकार ने 60 सप्ताह में 4 करोड़ नए रसोई गैस कनेक्शन दिए।
-उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दिनों में जिस तरह से पाक अधिकृत कश्मीर से बलूचिस्तान, गिलगिट के लोगों ने उनका शुक्रिया अदा किया, वह भारत के 1.25 बिलियन लोगों का सम्मान है।
-उन्होंने पड़ोसियों से गरीबी से लड़ने का आग्रह किया। वह पड़ोसियों से बोले कि चलो गरीबी से लड़ें, अपने लोगों से लड़कर हम खुद को नष्ट करेंगे, केवल गरीबी से लड़कर ही हम समृद्ध होंगे।
-स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार के सदस्यों की पेंशन में 20 प्रतिशत की वृद्धि की घोषणा।
-18,000 गैर-विद्युतीकृत गाँवों में से 10,000 गाँवों को बिजली प्रदान की गई।

2016 में स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी की स्पीच

2017 में…

2017 में स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी के भाषण की अवधि पहले के मुकाबले कम रही। कुल 57 मिनट पीएम ने राष्ट्र को संबोधित किया। इस बार,

-14,000 से अधिक गाँव, जो आजादी के बाद से बिजली के बिना थे, उनमें बिजली पहुँचाने की घोषणा की गई।
-उन्होंने कहा कि दो करोड़ से अधिक गरीब माताएँ और बहनें अब ईंधन का उपयोग नहीं कर रही हैं। उन तक एलपीजी गैस पहुँच गई है।
-एक वेबसाइट शुरू करने की घोषणा हुई, जो वीरता पुरस्कार विजेताओं की वीरता का लेखा-जोखा देगी।
-देशवासियों से डिजिटल लेनदेन करने और कैशलेस अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ने की अपील की।
-पीएम ने कहा कि सरकार ने 1.25 लाख करोड़ रुपए काला धन जब्त किया है।
-कश्मीर मुद्दे का हल न तो गाली से न गोली से निकलेगा, सभी कश्मीरियों को गले लगाने से इसका हल निकाला जाएगा।
-हवाला लेनदेन में काम करने वाली 3 लाख शेल कंपनियों में से 1.75 लाख कंपनियों का पंजीकरण रद्द कर दिया गया है।
-न्‍यू इंडिया का संकल्‍प लेकर आगे बढ़ना का आह्वान। युवाओं से कहा 5 साल के लिए ‘न्यू इंडिया’ का संकल्प लें। 2022 तक शक्तिशाली और समृद्ध ‘न्यू इंडिया’ बनाएँ।
-सर्जिकल स्‍ट्राइक के बाद दुनिया ने लोहा माना। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत का साथ देने वाले देशों को धन्‍यवाद।

2017 में स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी की स्पीच

2018 में…

2018 में फिर भाषण की अवधि 82 मिनट थी और इस बार संकल्प अंतरिक्ष में मानव सहित गगनयान को पहुँचाने का था। पीएम ने 2018 के भाषण में कहा,

-“हमारे देश ने संकल्‍प किया है कि 2022 तक हम अंतरिक्ष में मानव सहित गगनयान लेकर के चलेगें, जब ये गगनयान अंतरिक्ष में जाएगा, हम मानव को अंतरिक्ष में पहुँचाने वाले विश्‍व के चौथे देश बन जाएँगे।”
-13 करोड़ लोगों को मुद्रा ऋण प्रदान किया गया, जिनमें 4 करोड़ युवा भी शामिल हैं, जिन्होंने पहली बार आत्मनिर्भर बनने की आकांक्षा के साथ ऋण लिया है।
-आयुष्मान भारत योजना की घोषणा। इसके तहत 10 करोड़ परिवारों को, यानी करीब-करीब 50 करोड़ नागरिक, हर परिवार को 5 लाख रुपया सालाना स्वास्थ्य सेवा देने की योजना है।
-भारतीय सशस्‍त्र सेना में शॉर्ट सर्विस कमीशन के माध्‍यम से नियुक्‍त महिला अधिकारियों को पुरूष समकक्ष अधिकारियों की तरह पारदर्शी चयन प्रक्रिया द्वारा स्‍थाई कमीशन की घोषणा।
-देश के किसानों को लागत का डेढ़ गुना न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य दिया जाएगा।
-देश में आज आजादी के बाद सबसे ज्यादा हवाई जहाज खरीदने का काम हो रहा है।
-देश की आदिवासी बेटियों ने एवरेस्ट पर तिरंगा फहराकर बढ़ाई देश की शान।
-देश बना दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था।

2018 में स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी की स्पीच

2019 में…

2019 में मोदी सरकार दोबारा सत्ता में लौटी और स्वतंत्रता दिवस से ठीक दस दिन पहले जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाकर इतिहास रच दिया। उनके इस फैसले के बाद उनके भाषण का इंतजार सबको था। नतीजन उन्होंने 15 अगस्त 2019 को को 92 मिनट का भाषण दिया। तब उन्होंने इन मुख्य बिंदु पर बात की, 

-अनुच्‍छेद 370 का हटना, 35A का हटना सरदार वल्‍लभ भाई पटेल के सपनों को साकार करने की दिशा में एक अहम कदम है। जो काम पिछले 70 साल में नहीं हुआ, नई सरकार बनने के बाद, 70 दिन के भीतर-भीतर हो गया।
-जल-जीवन मिशन को आगे बढ़ाने की घोषणा। उन्होंने इस मिशन के तहत 2024 तक हर ग्रामीण घर तक पीने योग्य पानी पहुँचाने के लिए 3.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक खर्च करने का वादा किया।
-आम आदमी के जीवन से बोझ को कम करने के लिए लगभग 1,450 अप्रचलित कानूनों को खत्म किया गया है।
-देश में बुनियादी ढाँचे को बढ़ावा देने के लिए 100 लाख करोड़ रुपए के निवेश की योजना के बारे में घोषणा।
-उन्होंने कहा कि यह हर भारतीय का सपना होना चाहिए कि देश अगले पाँच वर्षों में 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बन जाए।
-चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) के पद की घोषणा। इस पद के गठन के बाद तीनों सेनाओं को शीर्ष स्‍तर पर प्रभावी नेतृत्‍व मिलेगा। 
-भारत को सिंगल यूज प्लास्टिक से मुक्त बनाने का आह्वान।
-तीन तलाक के ख़िलाफ़ कानून बनाने की बात कही और आतंकवाद के ख़िलाफ़ मजबूती से लड़ाई लड़ने के लिए आतंकवादी विरोधी कानून में संशोधन की जानकारी दी।

2019 में स्वतंत्रता दिवस पर पीएम मोदी की स्पीच

2020 में…

कोरोना की दस्तक ने जब पूरे देश में हाहाकार मचाया हुआ था, उस समय पीएम मोदी समय-समय पर कोरोना वॉरियर्स की हिम्मत बढ़ाने को हर देशवासी से कहते थे। 2020 में स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भी सबसे पहले शुरुआत कोरोना वॉरियर्स को नमन करने के साथ हुई। 87 मिनट के भाषण में पीएम ने,

-कोरोना वॉरियर्स की सराहना की और उनके सेवाभाव के लिए उनका आभार व्यक्त किया। पीएम ने इस दौरान देश को स्वास्थ्यकर्मियों और सुरक्षाकर्मियों की महत्ता से भी अवगत कराया।
-विस्तारवादी सोच पर प्रहार किया । साथ ही चीन से बिगड़े हालातों की ओर इशारा करते हुए आत्मनिर्भर भारत पर जोर दिया।
-भारत को विश्व का बड़ा परिवार बताते हुए उन्होंने देश की आर्थिक प्रगति और विकार पर जोर दिया। उन्होंने कृषि व्यवस्था पर बात करते हुए कहा कि एक समय था, जब हमारी कृषि व्यवस्था बहुत पिछड़ी हुई थी। तब सबसे बड़ी चिंता थी कि देशवासियों का पेट कैसे भरे। लेकिन आज भारत सिर्फ अपना ही नहीं दुनिया के कई देशों का पेट भर सकता है।
-उन्होंने कहा कि आज वन नेशन- वन टैक्स, इनसॉल्वेंसी और बैंकरप्ट्सी कोड, बैंकों का विलय, आज देश की सच्चाई है।
-पूरे देश को Multi-Modal Connectivity Infrastructure से जोड़ने की एक बहुत बड़ी योजना तैयार।
-विभिन्न क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी पर पीएम ने की तारीफ। बताया देश के जो 40 करोड़ जनधन खाते खुले हैं, उसमें से लगभग 22 करोड़ खाते महिलाओं के ही हैं। कोरोना के समय में अप्रैल-मई-जून, इन तीन महीनों में महिलाओं के खातों में करीब-करीब 30 हजार करोड़ रुपए सीधे ट्रांसफर किए गए हैं।
-जल जीवन मिशन के तहत मिली 1 लाख से ज्यादा घरों को पानी के कनेक्शन से जोड़ने में सफलता।
-जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के विकास पर बात की और बताया कि कैसे हिमालय में बसा लद्दाख आज विकास की ऊँचाइयों को छूने के लिए बढ़ रहा है।

2020 में पीएम मोदी की स्पीच

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

गुजरात के दुष्प्रचार में तल्लीन कॉन्ग्रेस क्या केरल पर पूछती है कोई सवाल, क्यों अंग विशेष में छिपा कर आता है सोना?

मुंद्रा पोर्ट पर ड्रग्स की बरामदगी को लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी ने जो दुष्प्रचार किया, वह लगभग ढाई दशक से गुजरात के विरुद्ध चल रहे दुष्प्रचार का सबसे नया संस्करण है।

‘मुंबई डायरीज 26/11’: Amazon Prime पर इस्लामिक आतंकवाद को क्लीन चिट देने, हिन्दुओं को बुरा दिखाने का एक और प्रयास

26/11 हमले को Amazon Prime की वेब सीरीज में मु​सलमानों का महिमामंडन किया गया है। इसमें बताया गया है कि इस्लाम बुरा नहीं है। यह शांति और सहिष्णुता का धर्म है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,782FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe