Monday, August 2, 2021
Homeराजनीति74 करोड़ को राशन, 8 करोड़ को गैस सिलिंडर: पोस्ट कोरोना वर्ल्ड में PM...

74 करोड़ को राशन, 8 करोड़ को गैस सिलिंडर: पोस्ट कोरोना वर्ल्ड में PM मोदी का ‘5 आई’ पर जोर

"भारत को फिर से तेज़ विकास के पथ पर लाने के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए 5 चीजें बहुत ज़रूरी हैं। Intent, Inclusion, Investment, Infrastructure और Innovation. हाल ही में काफी बोल्ड फ़ैसले लिए गए, उनमें इन पाँचों की झलक है।"

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार (जून 2, 2020) को भारतीय उद्योग परिसंघ (CII) के वार्षिक कार्यक्रम को सम्बोधित किया, जिसमें कई कारोबारियों ने हिस्सा लिया। पीएम मोदी ने इस दौरान कहा कि आज जहाँ एक तरफ कोरोना वायरस से लड़ने के लिए सख्त कदम उठाने हैं, वहीं दूसरी तरफ अर्थव्यवस्था का भी ध्यान रखना है। पीएम ने कहा कि इस स्थिति में जब कामकाज को पटरी पर लाने की बात शुरू की गई है तो निश्चित तौर पर इसके लिए भारतीय उद्योग जगत के लोग बधाई के पात्र हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना ने हमारी गति जितनी भी धीमी की हो, लेकिन आज देश की सबसे बड़ी सच्चाई यही है कि भारत लॉकडाउन को पीछे छोड़कर अनलॉक-1 में प्रवेश कर चुका है। उन्होंने बताया कि इस फेज में अर्थव्यवस्था का बहुत बड़ा हिस्सा खुल चुका है। उन्होंने कहा कि आज ये सब हम इसलिए कर पा रहे हैं, क्योंकि जब दुनिया में कोरोना वायरस पैर फैला रहा था, तो भारत ने सही समय पर, सही तरीके से सही कदम उठाए।

बकौल पीएम मोदी, दुनिया के तमाम देशों से तुलना करें तो आज हमें पता चलता है कि भारत में लॉकडाउन का बहुत व्यापक प्रभाव रहा है। पीएम मोदी ने आश्वासन दिया कि कोरोना के खिलाफ इकॉनमी को फिर से मजबूत करना सरकार की सबसे बड़ी प्राथमिकताओं में से एक है। उन्होंने जानकारी दी कि ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना’ के तहत करीब 74 करोड़ लोगों को राशन का वितरण किया जा चुका है। प्रधानमंत्री ने आगे कहा:

“लॉकडाउन के दौरान सरकार ने गरीबों को 8 करोड़ से ज्यादा गैस सिलेंडर डिलिवर किए हैं। भारत को फिर से तेज़ विकास के पथ पर लाने के लिए, आत्मनिर्भर भारत बनाने के लिए 5 चीजें बहुत ज़रूरी हैं। Intent, Inclusion, Investment, Infrastructure और Innovation. हाल ही में काफी बोल्ड फ़ैसले लिए गए, उनमें इन पाँचों की झलक है। हमारे श्रमिकों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए, रोजगार के अवसरों को बढ़ाने के लिए लेबर रिफॉर्म्स भी किए जा रहे हैं।”

स्वदेशी उत्पादों पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में ऐसे प्रोडक्ट्स बनाने की ज़रूरत है जो ‘मेड इन इंडिया’ हों, ‘मेड फॉर द वर्ल्ड’ हों। उन्होंने पूछा कि कैसे हम देश का आयात कम से कम करें, इसे लेकर क्या नए लक्ष्य तय किए जा सकते हैं? पीएम ने संतुष्टि जताते हुए कहा कि सिर्फ 3 महीने के भीतर ही देश ने पीपीई किट्स की सैकड़ों करोड़ की इंडस्ट्री खड़ी की है। उन्होंने बताया कि अब गाँव के पास ही लोकल एग्रो प्रोडक्ट्स के क्लस्टर्स के लिए ज़रूरी इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है।

पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सरकार प्राइवेट सेक्टर को देश की विकास यात्रा का पार्टनर मानती है। उन्होंने भरोसा दिलाया कि आत्मनिर्भर भारत अभियान से जुड़ी कारोबारियों की हर आवश्यकता का ध्यान रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि वो करोबारियों समेत अन्य हितधारकों से संवाद का ये सिलसिला यूँ ही कायम रखेंगे। उन्होंने सभी को सलाह दी कि देश को आत्मनिर्भर बनाने का संकल्प लें और इस संकल्प को पूरा करने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दें।

नरेंद्र मोदी ने याद दिलाया कि अब हमें अब एक ऐसी मजबूत लोकल सप्लाई चेन के निर्माण में निवेश करना है, जो वैश्विक सप्लाई चेन में भारत की हिस्सेदारी को और मजबूत करे। उन्होंने इस अभियान में CII जैसी दिग्गज संस्था को भी पोस्ट-कोरोना जगत में नई भूमिका में आगे आने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि इस समय नए सिरे से मंथन चल रहा है। और ऐसे समय में, भारत से दुनिया की अपेक्षा व उम्मीदें और बढ़ीं हैं। पीएम ने कहा कि आज दुनिया का भारत पर विश्वास भी बढ़ा है और नई आशा का संचार भी हुआ है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘रिस्क है, भारत काम नहीं देगा’: Pak के कश्मीर लीग में नहीं खेलेंगे मोंटी पनेसर, BCCI के बाद ECB ने भी चेताया

इंग्लैंड के पूर्व क्रिकेटर मोंटी पनेसर ने पाकिस्तान द्वारा आयोजित किए जा रहे 'कश्मीर प्रीमियर लीग (KPL)' में हिस्सा नहीं लेने का फैसला लिया है।

मुहर्रम पर यूपी में ना ताजिया ना जुलूस: योगी सरकार ने लगाई रोक, जारी गाइडलाइन पर भड़के मौलाना

उत्तर प्रदेश में डीजीपी ने मुहर्रम को लेकर गाइडलाइन जारी कर दी हैं। इस बार ताजिया का न जुलूस निकलेगा और ना ही कर्बला में मेला लगेगा। दो-तीन की संख्या में लोग ताजिया की मिट्टी ले जाकर कर्बला में ठंडा करेंगे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,549FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe