Wednesday, December 7, 2022
HomeराजनीतिPM मोदी, CDS बिपिन रावत के साथ लद्दाख की जमीनी स्थिति का जायजा लेने...

PM मोदी, CDS बिपिन रावत के साथ लद्दाख की जमीनी स्थिति का जायजा लेने अचानक पहुँचे लेह

गत 15 जून को गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प के दौरान कर्नल संतोष बाबू सहित 20 भारतीय जवानों ने बलिदान दिया था। इसके बाद से ही इस इलाके में लगातार भारी तनाव बना है। दोनों ओर से बड़ी संख्या में सैनिक और बड़े-बड़े हथियार तैनात हो चुके हैं।

पूर्वी लद्दाख स्थित गलवान घाटी में जारी तनाव के बीच भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज शुक्रवार सुबह लद्दाख पहुँचे हैं। बताया जा रहा है कि आज दोपहर तक पीएम मोदी लेह में रहेंगे। पीएम मोदी चीन के साथ सीमा तनाव की जमीनी स्थिति का जायजा लेने के लिए सीडीएस जनरल बिपिन रावत के साथ लेह पहुँचे हैं।

पीएम मोदी ने सेना प्रमुखों से बातचीत की जो कि स्पष्ट सन्देश देता है कि चीन को लेकर भारत का नजरिया इस बार 1962 जैसा नहीं है।

गत 15 जून को गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ झड़प के दौरान कर्नल संतोष बाबू सहित 20 भारतीय जवानों ने बलिदान दिया था। इसके बाद से ही इस इलाके में लगातार भारी तनाव बना है। दोनों ओर से बड़ी संख्या में सैनिक और बड़े-बड़े हथियार तैनात हो चुके हैं।

गलवान घाटी में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के सैनिकों के आक्रामक रवैए की जाँच के लिए आज चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत आज पूर्वी लद्दाख सेक्टर में हैं।

प्रसार भारती की एक अपडेट के अनुसार, पीएम मोदी निमू में थे। प्रसार भारती ने एक ट्वीट में कहा, “वह सुबह-सुबह वहाँ पहुँचे और सेना, वायु सेना और आईटीबीपी के कर्मियों के साथ बातचीत कर रहे हैं।”

लेह में पीएम मोदी की उपस्थिति से क्षेत्र में तैनात भारतीय सैनिकों के मनोबल को बढ़ाने की उम्मीद है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

काशी तमिल संगमम: जीवंत परंपराओं को आत्मसात करने की विशेषता ही भारतीय सांस्कृतिक संपूर्णता का आधार

प्रथम तमिल संगम मदुरै में हुआ था जो पाण्ड्य राजाओं की राजधानी थी और उस समय अगस्त्य, शिव, मुरुगवेल आदि विद्वानों ने इसमें हिस्सा लिया था।

AAP को बहुमत, लेकिन भाजपा का ही होगा मेयर? LG नॉमिनेट करेंगे 12 पार्षद और बदल जाएगा खेल?- MCD पर इस दावे में कितना...

MCD चुनाव के बाद AAP की मुश्किलें खत्म नहीं हुईं। मेयर और MCD चुनावों में दल-बदल कानून लागू नहीं होने के कारण क्रॉस वोटिंग की गुंजाइश है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
237,221FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe