Tuesday, July 27, 2021
Homeविविध विषयअन्यपीएम ने प्रयाग दौरे के दौरान सफाईकर्मियों पैर धोए, चरण वंदना की, जानिए क्या...

पीएम ने प्रयाग दौरे के दौरान सफाईकर्मियों पैर धोए, चरण वंदना की, जानिए क्या रही उनकी प्रतिक्रिया

अपने सहज व्यक्तित्व के कारण लोगों से घुलने-मिलने में नरेंद्र मोदी को परेशानी नहीं होती है और शायद यही वजह है कि देश के वंचित वर्ग के लोगों से उन्हें बहुत स्नेह मिलता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रयागराज पहुँचकर सामाजिक समरसता का अनोखा और दिल को छू लेने वाला संदेश देते हुए सफाईकर्मियों की चरण वंदना की। पीएम मोदी प्रयाग कुंभ में शिरकत करने के लिए गए हुए हैं। गंगा स्नान और आरती के बाद उन्होंने सफाईकर्मियों के पैर धोए और उनको नमन किया। साथ ही, स्वच्छता कर्मियों, स्वच्छाग्रहियों व सुरक्षाकर्मियों को सम्मानित किया।

https://platform.twitter.com/widgets.js

स्वच्छता कर्मियों में पीएम मोदी द्वारा दिये गए इस सम्मान से बहुत उत्साह है। अपनी प्रतिक्रिया में सफाई कर्मियों का कहना है कि प्रधानमंत्री ने खुद उनके पैर धोकर उन्हें सम्मान दिया है। इस वीडियो में एक सफाई कर्मी का कहना है, “प्रधानमंत्री ने खुद हमारे पाँव धोए, हमें प्रणाम किया और हमारा मान बढ़ाया। हमने कभी सोचा नहीं था कि हम लोगों को कोई इस तरह मान-सम्मान देगा।” उन्होंने बताया कि वो संगम में सफाई व्यस्था का काम देखते हैं।

स्वच्छता दूत प्यारेलाल का कहना है, “जिस तरह मौत का पता नहीं होता, उसी तरह पीएम मोदी हमारे पाँव धोएँगे यह हमें पता नहीं था।”

इस मौके पर उन्होंने कहा कि कुंभ की पहचान स्वच्छता से हुई है और स्वयं महात्मा गाँधी ने 100 साल पहले स्वच्छ कुंभ की इच्छा जताई थी, जब वह हरिद्वार कुंभ में गए थे।

अपने सहज व्यक्तित्व के कारण लोगों से घुलने-मिलने में नरेंद्र मोदी को परेशानी नहीं होती है और शायद यही वजह है कि देश के वंचित वर्ग के लोगों से उन्हें बहुत स्नेह मिलता है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe