Friday, June 21, 2024
Homeराजनीतिपुलिस ने क्रेन से खिंचवाई कार, अंदर CM जगन की बहन: हैदराबाद में राजनीतिक...

पुलिस ने क्रेन से खिंचवाई कार, अंदर CM जगन की बहन: हैदराबाद में राजनीतिक नौटंकी का वीडियो, सीएम आवास की घेराबंदी से पहले ली गईं हिरासत में

हालाँकि, उन्होंने गाड़ी से बाहर निकलने से इनकार कर दिया। क्रेन ने एसयूवी को उठा लिया जबकि शर्मिला गाड़ी के अंदर बैठी हुई थीं।

हैदराबाद का सोमाजीगुडा इलाका उस समय एक अजीब राजनीतिक नौटंकी का गवाह बना, जब वाईएसआरटीपी (YSRTP) की संस्थापक और पार्टी प्रमुख वाईएस शर्मिला रेड्डी की कार को पुलिस ने क्रेन से उठवा लिया। हैरानी की बात यह रही की इस दौरान आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी की बहन शर्मिला कार में ही बैठी रहीं।

हालाँकि, इसके बाद शर्मिला को हैदराबाद पुलिस ने हिरासत में ले लिया। उन्हें मंगलवार (28 नवंबर, 2022) को दूसरी बार तब हिरासत में लिया गया जब वह हैदराबाद स्थित तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर के ऑफिस व आवास (प्रगति भवन) की ओर बढ़ रही थीं। भारत राष्ट्र समिति के कार्यकर्ताओं पर शर्मिला के समर्थकों से मारपीट करने का आरोप है और वह इसी के विरोध में सीएम आवास तक जा रही थीं। शर्मिला को दो दिन में दूसरी बार हिरासत में लिया गया है।

यह हाई वोल्टेज ड्रामा उस समय देखा गया जब शर्मिला अपने काफिले से एक गाड़ी को खुद चला रही थीं। कार की विंडशील्ड और खिड़कियों को सोमवार को चेन्नाराओपेट में भारत राष्ट्र समिति (बीआरएस) के कार्यकर्ताओं ने तोड़ दिया था। वाईएसआरटीपी प्रमुख को पुलिस ने सोमाजीगुडा सर्कल (Somajiguda circle) में रोक दिया। इस मामले का वीडियो भी सामने आया है, जिसमें साफ देखा जा सकता है कि जब क्रेन से कार को ले जाया जा रहा था तब वह अंदर ही बैठी रहीं। वह अपनी गाड़ी से नहीं उतरीं।

दरअसल वाईएसआरटीपी के कई कार्यकर्ताओं और उनके समर्थकों ने मंगलवार (29 नवंबर, 2022) को शर्मिला की कार को हिरासत में लेने से रोकने के लिए घेर लिया। उन्होंने खुद को टोयोटा एसयूवी में बंद कर लिया लेकिन पुलिस ने एक क्रेन को बुला लिया। हालाँकि, उन्होंने गाड़ी से बाहर निकलने से इनकार कर दिया। क्रेन ने एसयूवी को उठा लिया जबकि शर्मिला गाड़ी के अंदर बैठी हुई थीं। इस दौरान उन्होंने अपने ड्राइवर और निजी सुरक्षा अधिकारी को गाड़ी को छोड़ देने को कहा। पुलिस ने उन्हें बाहर निकलने के लिए मनाने की काफी कोशिश की, लेकिन वह नहीं मानीं।

इससे पहले सोमवार (28 नवंबर 2022) को शर्मिला के काफिले पर टीआरएस के समर्थकों ने हमला कर दिया था और बाद में उनकी गिरफ्तारी से वारंगल जिले में उनकी पदयात्रा के दौरान तनाव पैदा हो गया था। पुलिस ने शर्मिला की पदयात्रा को रोक दिया था और उन्हें और वाईएसआरटीपी के नेताओं और कार्यकर्ताओं को चेन्नारोपेटा मंडल में गिरफ्तार कर लिया था। शर्मिला को कथित तौर पर टीआरएस विधायक पी. सुदर्शन रेड्डी के बारे में कुछ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के बाद गिरफ्तार किया गया था।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बिहार का 65% आरक्षण खारिज लेकिन तमिलनाडु में 69% जारी: इस दक्षिणी राज्य में क्यों नहीं लागू होता सुप्रीम कोर्ट का 50% वाला फैसला

जहाँ बिहार के 65% आरक्षण को कोर्ट ने समाप्त कर दिया है, वहीं तमिलनाडु में पिछले तीन दशकों से लगातार 69% आरक्षण दिया जा रहा है।

हज के लिए सऊदी अरब गए 90+ भारतीयों की मौत, अब तक 1000+ लोगों की भीषण गर्मी ले चुकी है जान: मिस्र के सबसे...

मृतकों में ऐसे लोगों की संख्या अधिक है, जिन्होंने रजिस्ट्रेशन नहीं कराया था। इस साल मृतकों की संख्या बढ़कर 1081 तक पहुँच चुकी है, जो अभी बढ़ सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -