Monday, August 15, 2022
Homeराजनीति'दिल्ली में लागू हो राष्ट्रपति शासन, वरना सड़कों पर बिछ जाएँगी लाशें': AAP विधायक...

‘दिल्ली में लागू हो राष्ट्रपति शासन, वरना सड़कों पर बिछ जाएँगी लाशें’: AAP विधायक के दोस्त को नहीं मिली दवाइयाँ और ऑक्सीजन

AAP विधायक शोएब इकबाल ने कहा कि उनके दोस्त की बच्चियाँ तड़प रही हैं। उसे 'न्यू लाइफ हॉस्पिटल' में भर्ती कराया गया है। विधायक ने कहा कि पैसा है, लेकिन इसके बावजूद उसे न अस्पताल मिल रहा है और न दवाइयाँ मिल रही हैं।

दिल्ली में कोरोना के कुप्रबंधन को लेकर आम आदमी पार्टी (AA)) की सरकार आम जनता और न्यायपालिका के निशाने पर तो है ही, अब उसके अपने ही विधायक ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के नेतृत्वकी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोला है। दिल्ली के पुराने नेताओं में से एक और चाँदनी चौक लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले मटिया महल विधानसभा से विधायक शोएब इकबाल ने कहा है कि उन्हें आज दिल्ली की हालत देख कर रोना आ रहा है।

शोएब इकबाल ने कहा, “मेरा दिल मचल रहा है। मैं परेशान हूँ। मुझे रात भर नींद नहीं आ रही है। जिस तरह से लोगों की बेचैनी देख रहा हूँ… ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। दवाइयाँ नहीं मिल रही हैं। मेरा एक दोस्त इस वक़्त तड़प रहा है। अस्पताल में उसके पास न ऑक्सीजन है, न वेंटिलेटर है। मेरे पास रात से ही उसका पर्चा पड़ा हुआ है। उसे मैं रेमडेसिविर इंजेक्शन कहाँ से लाकर दूँ? कहीं उसे कुछ हो न जाए!”

AAP विधायक शोएब इकबाल ने कहा कि उनके दोस्त की बच्चियाँ तड़प रही हैं। उसे ‘न्यू लाइफ हॉस्पिटल’ में भर्ती कराया गया है। विधायक ने कहा कि पैसा है, लेकिन इसके बावजूद उसे न अस्पताल मिल रहा है और न दवाइयाँ मिल रही हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें उनके MLA होने पर फख्र की जगह बेइज्जती महसूस हो रही है, क्योंकि सरकार साथ नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि इतना वरिष्ठ विधायक होने के बावजूद ये सब हो रहा है।

शोएब इक़बाल ने कहा कि इस आपदा में किसी से संपर्क नहीं किया जा सकता और ये तक नहीं पता है कि कौन नोडल ऑफिसर है या किसकी क्या जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा, “मैं ये चाहूँगा कि दिल्ली हाई कोर्ट तुरंत प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगाने का फैसला ले, वरना जैसी स्थिति है यहाँ सड़कों पर लाशें बिछ जाएँगी। बहुत बुरी स्थिति है।” शोएब इक़बाल ने तुरंत प्रभाव से दिल्ली में राष्ट्रपति शासन लगाने की गुजारिश की

बता दें कि शोएब इकबाल 1993 में पहली बार जनता दल के टिकट पर विधायक चुने गए थे। इसके अगले साल से लेकर अब तक वो कई बार दिल्ली विधानसभा की विभिन्न समितियों के सदस्य रहे हैं। 2003 में जदयू के टिकट पर विधायक बने। 2008 में उन्होंने लोजपा से जीत दर्ज की। 2013 में फिर जदयू में लौटे और विधायक बने। 2020 में उन्होंने AAP का दामन थामा और जीत दर्ज की। वो दिल्ली विधानसभा के डिप्टी स्पीकर और प्रोटेम स्पीकर भी रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

स्वतंत्रता के हुए 75 साल, फिर भी बाँटी जा रही मुफ्त की रेवड़ी: स्वावलंबन और स्वदेशी से ही आएगी आर्थिक आत्मनिर्भरता

जब हम यह मानते हैं कि सत्य की ही जय होती है तब ईमानदार सत्यवादी देशभक्त नेताओं और उनके समर्थकों को ईडी आदि से भयभीत नहीं होना चाहिए।

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत: मृतक की जाति वाले टीचर ने नकारा भेदभाव, स्कूल में 8 में से 5 स्टाफ SC/ST

जालौर में इंद्र मेघवाल की मौत पर दावा कि आरोपित हेडमास्टर ने मटकी से पानी पीने पर मारा, जबकि अन्य लोगों का कहना है कि वहाँ कोई मटकी नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
213,900FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe