Friday, July 19, 2024
Homeराजनीतिएक और पोस्टर गर्ल ने कॉन्ग्रेस को दिया झटका: प्रियंका गाँधी पर सवाल उठाते...

एक और पोस्टर गर्ल ने कॉन्ग्रेस को दिया झटका: प्रियंका गाँधी पर सवाल उठाते हुए वंदना सिंह का इस्तीफा, कहा- झंडा उठाने वाला भी नहीं बचेगा

कॉन्ग्रेस छोड़ने के बाद वंदना सिंह ने कहा, "मैं 5-6 साल से कॉन्ग्रेस में सक्रिय हूँ। पदाधिकारी हूँ, महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष हूँ। प्रियंका जी ने कहा कि महिलाओं को 40 फीसदी मौका देंगे तो मुझे लगा कि मुझे भी मौका दिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यदि इसी तरह पुराने लोगों को नजरअंदाज किया गया तो कोई पार्टी का झंडा उठाने वाला भी नहीं रहेगा।"

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (Uttar Pradesh Assembly Election 2022) के लिए पहले चरण के चुनाव से एक दिन पहले बुधवार (9 फरवरी 2022) को कॉन्ग्रेस (Congress) ने अपना घोषणा पत्र (Menifesto) जारी किया। वहीं, पार्टी की पोस्टर गर्ल वंदना सिंह (Vandana Singh) पार्टी का हाथ छोड़ कर भाजपा (BJP) में शामिल हो गईं।

घोषणा पत्र को कॉन्ग्रेस महासचिव व उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गाँधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) ने प्रदेश मुख्यालय पर ‘उन्नति विधान’ नाम से जारी किया। इसमें किसानों, व्यापारियों और बेरोजगारों के लिए कई ऐलान किए गए हैं। यह घोषणा पत्र का तीसरा हिस्सा है। इससे पहले पार्टी युवाओं के लिए ‘भर्ती विधान’ और महिलाओं के लिए ‘शक्ति विधान’ नाम से घोषणा पत्र जारी हो चुकी है।

उधर, प्रियंका मौर्या के बाद वंदना सिंह कॉन्ग्रेस की दूसरी पोस्टर गर्ल हैं, जिन्होंने इस्तीफा दिया है। वह “लड़की हूँ लड़ सकती हूँ” अभियान की प्रमुख चेहरा थीं। कॉन्ग्रेस पार्टी से इस्तीफा देकर भारतीय जनता पार्टी (BJP) में शामिल हुईं वंदना सिंह उत्तर प्रदेश महिला कॉन्ग्रेस के मध्य ज़ोन की उपाध्यक्ष थीं।

वंदना सिंह ने कार्यकर्ताओं की उपेक्षा करने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रियंका गाँधी पार्टी के पदाधिकारियों से भी मुलाकात नहीं करती हैं। कॉन्ग्रेस छोड़ने के बाद वंदना सिंह ने कहा, “मैं 5-6 साल से कॉन्ग्रेस में सक्रिय हूँ। पदाधिकारी हूँ, महिला मोर्चा की प्रदेश उपाध्यक्ष हूँ। प्रियंका जी ने कहा कि महिलाओं को 40 फीसदी मौका देंगे तो मुझे लगा कि मुझे भी मौका दिया जाएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। यदि इसी तरह पुराने लोगों को नजरअंदाज किया गया तो कोई पार्टी का झंडा उठाने वाला भी नहीं रहेगा।”

वंदना सिंह का कहना है कि उन्होंने दो विधानसभा सीटों से टिकट माँगा था, लेकिन पार्टी में कर्मठ और ईमानदार कार्यकर्ताओं की अनदेखी होती है। जो लोग उनके चहेते हैं या जिनका सोर्स है बहुत ऊपर तक सिर्फ वहीं लोग उनके मिल सकते हैं। वंदना सिंह ने कहा कि पार्टी में कल के आए और करीबी लोगों को मान सम्मान दिया जा रहा है और पार्टी के लोगों को एवं उनकी मेहनत को अनदेखा किया जा रहा है। 

वंदना सिंह से पहले प्रियंका मौर्य ने पार्टी को कहा था अलविदा

गौरतलब है कि वंदना सिंह से पहले ‘लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ के नारे की मुख्य पोस्टर गर्ल प्रियंका मौर्या ने भी कॉन्ग्रेस पार्टी से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने भी प्रियंका गाँधी और पार्टी पर कई गंभीर आरोप लगाते हुए भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया था। प्रियंका मौर्या ने कॉन्ग्रेस पर टिकट बँटवारे में घोटाले का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि प्रियंका गाँधी के सचिव ने टिकट के लिए उनसे पैसे माँगे थे।

मौर्या ने कहा था, “लड़की हूँ लड़ सकती हूँ’ को केवल एक नारा के रूप में प्रस्तुत किया गया है। लड़की के रूप में मुझे चुनाव लड़ने की अनुमति नहीं थी, क्योंकि मैं रिश्वत नहीं दे सकती थी। टिकट मुझे देने की बजाय एक महीने पहले पार्टी में शामिल हुए एक व्यक्ति को दिया गया।” मौर्या ने कहा था कि वह सरोजिनी नगर विधानसभा क्षेत्र में एक साल से अधिक समय से लगातार काम करने में जुटी हैं, लेकिन उन्हें टिकट नहीं मिली।

यूपी में सात चरणों में होगा चुनाव

उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों पर 7 चरणों में मतदान होना है। पहले चरण का मतदान 10 फरवरी को होगा, जिसमें प्रदेश के 11 जिलों की 58 सीटों पर मतदान किया जाएगा। 10 मार्च को यूपी विधानसभा चुनाव के नतीजे आएँगे। कॉन्ग्रेस कई सालों बाद यूपी में सभी 403 विधानसभा सीटों अकेले पर चुनाव लड़ रही है। 

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

पुरी के जगन्नाथ मंदिर का 46 साल बाद खुला रत्न भंडार: 7 अलमारी-संदूकों में भरे मिले सोने-चाँदी, जानिए कहाँ से आए इतने रत्न एवं...

ओडिशा के पुरी स्थित महाप्रभु जगन्नाथ मंदिर के भीतरी रत्न भंडार में रखा खजाना गुरुवार (18 जुलाई) को महाराजा गजपति की निगरानी में निकाल गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -