Tuesday, September 21, 2021
Homeराजनीति'हम न इधर के, न उधर के... हमें ट्रांसजेंडर घोषित कर दें' - कॉन्ग्रेसी...

‘हम न इधर के, न उधर के… हमें ट्रांसजेंडर घोषित कर दें’ – कॉन्ग्रेसी मुख्यमंत्री ने चली केजरीवाल की ‘चाल’

''जब भी मुझे किरण बेदी की ओर से हमारे फैसलों को नामंज़ूर करने से जुड़ी फाइलें मिलती हैं तो मेरा ख़ून खौल उठता है और मैं झुँझला जाता हूँ।''

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी और केंद्र सरकार के बीच खींचतान अभी भी जारी है। राज्य में कभी योजनाओं को लागू करने तो कभी किसी आदेश को लेकर मुख्यमंत्री वी नारायणसामी और उप-राज्यपाल किरण बेदी के बीच आपसी मतभेदों की ख़बर अक्सर सामने आती रहती है। ऐसे में दिल्ली के सीएम केजरीवाल से ड्रामा की ट्रेनिंग लेते हुए उन्होंने सारे आरोप केंद्र सरकार पर लादने की राजनीति चली। मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने कहा है कि इससे बेहतर तो केंद्र सरकार द्वारा हमें ‘ट्रांसजेंडर’ ही घोषित कर दिया जाए।

ख़बर के अनुसार, मुख्यमंत्री वी नारायण सामी ‘भारत के राजकोषीय संघवाद को चुनौती’ कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने कहा कि सरकार को जब जैसा मन करता है उस हिसाब से हमारे साथ व्यवहार करती है। उन्होंने कहा कि इससे अच्छा है सरकार हमें ट्रांसजेडर घोषित कर दे। हम न इधर के रह गए हैं और न उधर के रह गए हैं। यही हमारी स्थिति बन गई है।

केंद्र पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा,

”जीएसटी समेत कई योजनाओं के लिए केंद्र सरकार अपनी सुविधानुसार पुडुचेरी को ट्रीट कर रही है जबकि अन्य कार्यक्रमों के लिए पुडुचेरी के साथ केंद्र शासित प्रदेश जैसा व्यवहार किया जा रहा है।” 

इसके आगे उन्होने कहा कि केंद्र शाषित प्रदेश को योजनाओं का 30 फ़ीसदी का शेयर मिलता है, जबकि बाक़ी हिस्सा केंद्र को ही चला जाता है। सीएम सामी ने यह दावा किया कि केंद्र सरकार अनुदान के बजट में 30 प्रतिशत से 26 प्रतिशत तक की कटौती करने के अलावा अनुदान के आवंटन में पुडुचेरी की अनदेखी कर रही है। उन्होंने मुफ़्त चावल योजना में आने वाली समस्याओं का भी ज़िक्र किया और कहा कि केंद्र का अपेक्षाकृत कम सहयोग और प्रशासनिक स्तर पर आने वाली दिक्कतें हमारी सरकार के लिए शर्मसार कर देती है।

बता दें कि इससे पहले नारायण सामी ने उप-राज्यपाल किरण बेदी को तानाशाह बताया था। किरण बेदी की आलोचना करते हुए उन्होंने कहा था, ”वह एक तानाशाह की तरह काम कर रही हैं और जर्मन तानाशाह ऐडॉल्फ हिटलर की बहन लगती हैं। वह मंत्रिमंडल के हर फ़ैसले में बाधा बनकर खड़ी हो जाती हैं।”

पुडुचेरी के मुख्यमंत्री नारायण सामी किरण बेदी को तानाशाह कह देने तक पर ही नहीं  नहीं रुके बल्कि उन्होंने इससे एक क़दम आगे बढ़ते हुए कहा था, ”जब भी मुझे किरण बेदी की ओर से हमारे फैसलों को नामंज़ूर करने से जुड़ी फाइलें मिलती हैं तो मेरा ख़ून खौल उठता है और मैं झुँझला जाता हूँ।”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

जिस राजस्थान में सबसे ज्यादा रेप, वहाँ की पुलिस भेज रही गंदे मैसेज-चौकी में भी हो रही दरिंदगी: कॉन्ग्रेस है तो चुप्पी है

NCRB 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक राजस्थान में जहाँ 5,310 केस दुष्कर्म के आए तो वहीं उत्तर प्रेदश में ये आँकड़ा 2,769 का है।

आज पाकिस्तान के लिए बैटिंग, कभी क्रिकेट कैंप में मौलवी से नमाज: वसीम जाफर पर ‘हनुमान की जय’ हटाने का भी आरोप

पाकिस्तान के साथ सहानुभूति रखने के कारण नेटिजन्स के निशाने पर आए वसीम जाफर पर मुस्लिम क्रिकेटरों को तरजीह देने के भी आरोप लग चुके हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
123,586FollowersFollow
410,000SubscribersSubscribe