Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीतिलाल किला हिंसा में गिरफ्तार 'किसानों' को 2-2 लाख का मुआवजा देगी पंजाब की...

लाल किला हिंसा में गिरफ्तार ‘किसानों’ को 2-2 लाख का मुआवजा देगी पंजाब की चन्नी सरकार, भाजपा ने कहा- कॉन्ग्रेस का ‘हाथ’ उग्रवादियों के साथ

चन्नी की इस घोषणा पर भाजपा किसान मोर्चा ने ट्वीट किया, "राहुल गाँधी और चरणजीत सिंह चन्नी की ओर से उग्रवादियों के लिए खास पेशकश। अगर आप लाल किले पर हमला करते हैं तो कॉन्ग्रेस आपको 2 लाख रुपए देगी।''

पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश की कॉन्ग्रेस सरकार ने किसान आंदोलन पर बड़ा दांव खेला है। पंजाब की चरणजीत सिंह चन्नी सरकार ने दिल्ली हिंसा में गिरफ्तार सभी 83 किसानों को 2-2 लाख रुपए का मुआवजा देने का फैसला किया है। मुख्यमंत्री चन्नी ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है।

चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा, ”काले कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन को मेरी सरकार का पूरा समर्थन है। हमने 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली की वजह से दिल्ली पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए सभी 83 लोगों को दो लाख रुपए का मुआवजा देने का फैसला किया है।” इसके अलावा पंजाब सरकार ने किसान आंदोलन के दौरान मारे गए किसानों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए का मुआवजा और घर के एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने का ऐलान किया है।

इसको लेकर भाजपा किसान मोर्चा ने पंजाब सरकार पर हमला बोला है। मोर्चा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से कहा गया, ”कॉन्ग्रेस का ‘हाथ’ उग्रवादियों के साथ! पंजाब की कॉन्ग्रेस सरकार ने राहुल गाँधी के निर्देश पर लाल किले पर हमला करने वालों को 2 लाख रुपए देने का ऐलान किया।” कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी और चरणजीत सिंह चन्नी को टैग करते हुए ट्वीट में आगे लिखा गया है, “राहुल गाँधी और चरणजीत सिंह चन्नी की ओर से उग्रवादियों के लिए खास पेशकश। अगर आप लाल किले पर हमला करते हैं तो कॉन्ग्रेस आपको 2 लाख रुपए देगी।”

बता दें​ कि किसान संगठनों ने केंद्र के तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की माँग को लेकर 26 जनवरी को लाल किले तक ट्रैक्टर मार्च का किया था। हजारों किसान अपने ट्रैक्टर लेकर लाल किले तक पहुँच गए थे। इस दौरान कुछ उपद्रवियों ने राष्ट्रीय ध्वज का अपमान कर धार्मिक ध्वज फहरा दिया था। इस सिलसिले में दिल्ली पुलिस ने हिंसा करने वाले 12 उपद्रवियों की तस्वीरें जारी की थी। चिन्हित किए गए इन उपद्रवियों को हिंसा के दौरान हाथ में लाठी-डंडे लिए, पत्थरबाजी, तोड़फोड़ और लाल किला समेत कई जगहों पर जमकर उत्पात और पुलिस वालों पर हमला करते हुए देखा गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अमेरिकी राजनीति में नहीं थम रहा नस्लवाद और हिंदू घृणा: विवेक रामास्वामी और तुलसी गबार्ड के बाद अब ऊषा चिलुकुरी बनीं नई शिकार

अमेरिका में भारतीय मूल के हिंदू नेताओं को निशाना बनाया जाना कोई नई बात नहीं है। निक्की हेली, विवेक रामास्वामी, तुलसी गबार्ड जैसे मशहूर लोग हिंदूफोबिया झेल चुके हैं।

आज भी फैसले की प्रतीक्षा में कन्हैयालाल का परिवार, नूपुर शर्मा पर भी खतरा; पर ‘सर तन से जुदा’ की नारेबाजी वाले हो गए...

रिपोर्ट में यह भी कहा गया था कि गौहर चिश्ती 17 जून 2022 को उदयपुर भी गया था। वहाँ उसने 'सर कलम करने' के नारे लगवाए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -