Sunday, June 26, 2022
Homeसोशल ट्रेंडपल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों...

पल्लवी घोष ने गलती से तो नहीं खोल दी राहुल गाँधी की पोल? लोगों ने कहा- ‘तो इसलिए की थी बंगाल रैली रद्द’

ट्विटर यूजर्स ने तुरंत इस बात को नोटिस किया कि 16 अप्रैल को जब राहुल गाँधी कोविड पॉजिटिव पाए गए थे तो आखिर राहुल ने 18 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में रैली कैंसिल के पीछे कोविड स्थिति का हवाला क्यों दिया?

न्यूज 18 की पत्रकार पल्लवी घोष ने बुधवार (जून 16, 2021) को खुलासा किया कि कॉन्ग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गाँधी को कोविड की दोनों वैक्सीन लग गई हैं जबकि राहुल गाँधी को पहली डोज 16 अप्रैल 2021 को लेनी थी लेकिन कोविड होने के कारण वह उसे नहीं ले पाए थे।

इस ट्वीट में पल्लवी घोष ने सोनिया गाँधी को लेकर जानकारी सूत्रों के हवाले से दी। लेकिन राहुल से जुड़ी जानकारी मिलने पर सोशल मीडिया यूजर्स ने सवालों की झड़ी लगा दी।

ट्विटर यूजर्स ने तुरंत इस बात को नोटिस किया कि 16 अप्रैल को जब राहुल गाँधी कोविड पॉजिटिव पाए गए थे तो आखिर राहुल ने 18 अप्रैल को पश्चिम बंगाल में रैली कैंसिल के पीछे कोविड स्थिति का हवाला क्यों दिया?

दरसअल, पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों के दौरान राज्य में होने वाली चुनावी रैली के मद्देनजर राहुल गाँधी ने 18 अप्रैल को ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था कि वो कोरोना स्थिति के मद्देनजर पश्चिम बंगाल में अपनी सभी रैलियाँ कैंसिल कर रहे हैं।

इसके बाद राहुल ने अपने ट्वीट में खुद को बेहद संवेदनशील और जिम्मेदार राजनेता के तौर पर दर्शाते हुए अन्य नेताओं से ये अपील भी की थी कि वह पब्लिक रैली में इकट्ठा लोगों से उपजे हालातों के बारे में सोचें।

इस ट्वीट के बाद सोशल मीडिया पर राहुल गाँधी को ऐसा दर्शाया गया जैसे इस कोविड हालातों को समझने वाले वही मात्र एक नेता हैं। दो दिन तक यही चला। 20 अप्रैल को कहीं जाकर राहुल गाँधी ने घोषणा की कि वह कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं।

20 अप्रैल के राहुल के ट्वीट में लिखा था, “कोविड के हल्के लक्षण अनुभव करने के बाद, मैं अभी कोविड पॉजिटिव निकला हूँ। जितने भी लोग मेरे संपर्क में आए, सेफ्टी प्रोटोकॉल्स को फॉलो करें और सुरक्षित रहें।”

अब यदि पल्लवी घोष की बात सही है और उनके कहे अनुसार देखा जाए तो मालूम होता है कि राहुल गाँधी पहले ही कोविड पॉजिटिव पाए जा चुके थे और उन्होंने अपनी रैलियाँ भी इसी चक्कर में रद्द की थी न कि कोई जन कल्याण सोचकर।

बता दें कि अभी यह बात क्लियर नहीं है कि राहुल गाँधी ने कोविड वैक्सीन लिया या नहीं। लेकिन घोष के इस ट्वीट के बाद जहाँ यूजर्स उन्हें सोनिया गाँधी को लेकर इतनी महत्तवपूर्ण जानकारी देने के लिए तंज भरे अंदाज में आभार दे रहे हैं। वहीं राहुल गाँधी को लेकर बताया जा रहा है कि कैसे उन्होंने बेवजह वाह-वाही लूट ली।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कब तक रोएगी कॉन्ग्रेस: राजस्थान CM अशोक गहलोत 2020 वाले ‘पायलट दुख’ से परेशान, महाराष्ट्र में शिवसेना के लिए कॉन्ग्रेसी बैटिंग

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि सचिन पायलट 2020 में सरकार गिराने की साजिश में शामिल थे। अपने ही उप-मुख्यमंत्री पर...

‘उसकी गिरफ्तारी से खुशी है क्योंकि उसने तमाम सीमाओं को तोड़ दिया था’ – आरबी श्रीकुमार पर ISRO के पूर्व वैज्ञानिक नम्बी नारायणन

सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के बाद गिरफ्तार किए गए रिटायर्ड IPS आरबी श्रीकुमार की गिरफ्तारी पर इसरो के पूर्व वैज्ञानिक ने संतोष जताया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
199,433FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe