Saturday, May 25, 2024
Homeराजनीतिराहुल (गाँधी नाम से बनाई दूरी) ने खादी माला पहनने से 2-2 बार किया...

राहुल (गाँधी नाम से बनाई दूरी) ने खादी माला पहनने से 2-2 बार किया इनकार… वो भी गाँधी की धरती पर: वीडियो वायरल और बवाल

राहुल गाँधी की इस बात से गुजरात के कुछ कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता नाराज। कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है कि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व स्थानीय जमीनी कार्यकर्ताओं की अनदेखी करता है और उन्हें खारिज कर दिया जाता है।

कॉन्ग्रेस के युवा लेकिन वरिष्ठ नेता राहुल गाँधी इन दिनों गुजरात दौरे पर हैं। मंगलवार (10 मई 2022) को वह वडोदरा हवाई अड्डे पर पहुँचे। यहाँ पर एक कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता स्वागत के दौरान उन्हें खादी माला (खादी के धागे से बनी एक माला) पहनाने लगा। राहुल गाँधी ने इसे पहनने से इनकार कर दिया। बदले में हाथ मिलाया। कार्यकर्ता ने हाथ मिलाने के बाद फिर से माला पहनाने की कोशिश की, राहुल गाँधी ने फिर इनकार कर दिया।

महात्मा गाँधी की धरती पर उनकी ही सोच वाले खादी माला को पहनने से इनकार के बाद विवाद खड़ा हो गया है। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल है। वीडियो के वायरल होते ही लोगों ने गाँधी परिवार की आलोचना करनी शुरू कर दी।

वीडियो में, यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि जब राहुल गाँधी वडोदरा हवाई अड्डे पर अपनी पार्टी के अधिकारियों से संपर्क करते हैं, तो सदस्यों में से एक आगे बढ़ता है और उन्हें सफेद खादी के धागे से बनी माला की पेशकश करता है। राहुल गाँधी ने माला पहनने से इनकार कर दिया। उन्होंने अपने कार्यकर्ता को इसे पहनाने से रोक दिया और हाथ मिलाकर आगे निकल गए।

खादी की माला, राहुल गाँधी और बवाल

स्थानीय रिपोर्ट्स के मुताबिक, राहुुल गाँधी जब वडोदरा हवाई अड्डे पर उतरे तो उनके स्वागत के लिए वहाँ कॉन्ग्रेस के कई नेता मौजूद थे। जहाँ पार्टी के कुछ सदस्यों ने अपने नेता को फूलों के गुलदस्ते से बधाई दी, वहीं वडोदरा शहर कॉन्ग्रेस कमेटी के अध्यक्ष ऋत्विज जोशी ने उन्हें सफेद खादी के धागे से बनी माला भेंट की। हालाँकि, राहुल गाँधी ने माला पहनने से इनकार कर दिया

राहुल गाँधी के अहंकार ने गुजरात में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं को नाराज कर दिया है। कुछ कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया है कि पार्टी का शीर्ष नेतृत्व स्थानीय जमीनी कार्यकर्ताओं की अनदेखी करता है और उन्हें खारिज कर दिया जाता है। इसके अलावा, कई लोगों ने इसे महात्मा गाँधी के अनादर के रूप में देखा। उनका मानना ​​है कि राहुल गाँधी ने खादी माला को पहनने से इनकार करके महात्मा गाँधी का अपमान किया है, वह भी उनके गृह राज्य में।

बीजेपी के गुजरात प्रदेश के सह-प्रवक्ता और वडोदरा शहर के पूर्व मेयर डॉ भरत डांगर ने गुजराती में ट्वीट किया, जिसका अनुवाद कुछ इस तरह है, “जिस परिवार ने महात्मा गाँधी जी के उपनाम (Surname) को अपनाकर वर्षों तक देश पर शासन किया है, उन्हें पूज्य बापू की खादी के धागा की माला पहनने में समस्या है?? वो भी गुजरात में???”

रुद्राक्ष की माला पहनने से इनकार करने पर राहुल गाँधी की हुई थी खिंचाई

यह पहली बार नहीं है जब राहुल गाँधी ने इस तरह की पेशकश को स्वीकार करने से इनकार कर विवाद को जन्म दिया। राहुल गाँधी ने पहले भी हरिद्वार नगर निगम के पूर्व अध्यक्ष सतपाल ब्रह्मचारी द्वारा दी गई रुद्राक्ष की माला को कथित तौर पर स्वीकार करने से इनकार कर दिया था, जिसकी काफी आलोचना हुई थी।

पिछले साल दिसंबर में वायरल हुई घटना के एक वीडियो में, राहुल गाँधी को सतपाल ब्रह्मचारी को अपना हाथ दिखाते हुए देखा गया था। इसके बाद सतपाल ब्रह्मचारी ने कॉन्ग्रेस नेता को रुद्राक्ष से बनी एक माला भेंट किया था। हालाँकि उन्होंने इसे स्वीकार करने से मना कर दिया। 

बीजेपी उत्तराखंड ने इस वीडियो को सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था। जिसके बाद कई बीजेपी नेताओं ने इसे शेयर किया। वीडियो वायरल होने पर कई लोगों ने उनके हिंदू धर्म पर पाखंड की निंदा और आलोचना की। भाजपा नेता अमित मालवीय ने वीडियो को ट्वीट करते हुए कहा था, “वह वही आदमी है जो चुनाव से ठीक पहले मंदिरों में जाता है, एक जनेऊधारी हिंदू होने का दावा करता है और हिंदू धर्म पर भाषण देता है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

OBC आरक्षण में मुस्लिम घुसपैठ पर कलकत्ता हाई कोर्ट का फैसला देश की आँख खोलने वाला: PM मोदी ने कहा – मेहनती विपक्षी संसद...

पीएम मोदी ने कहा कि मेरे लिए मेरे देश की 140 करोड़ जनता साकार ईश्वर का रूप है। सरकार और राजनीति दलों को जनता प्रति उत्तरदायी होना चाहिए।

SFI के गुंडों के बीच अवैध संबंध, ड्रग्स बिजनेस… जिस महिला प्रिंसिपल ने उठाई आवाज, केरल सरकार ने उनका पैसा-पोस्ट सब छीना, हाई कोर्ट...

कागरगोड कॉलेज की प्रिंसिपल डॉ रेमा एम ने कहा था कि उन्होंने छात्र-छात्राओं को शारीरिक संबंध बनाते देखा है और वो कैंपस में ड्रग्स भी इस्तेमाल करते हैं।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -