Wednesday, September 28, 2022
Homeराजनीतिराजस्थान में कोरोना संक्रमित कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RUHS का दौरा कर उड़ाई प्रोटोकॉल की...

राजस्थान में कोरोना संक्रमित कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RUHS का दौरा कर उड़ाई प्रोटोकॉल की धज्जियाँ: तस्वीरें वायरल

दिलचस्प बात यह है कि स्वास्थ्य मंत्री का यह दौरा 8 माह में पहली बार हुआ है, वो भी तब जब वह खुद अस्पताल में भर्ती हैं। 23 नवंबर को कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री को अस्पताल में भर्ती किया गया था।

राजस्थान में कोरोना महामारी के बीच कॉन्ग्रेसी मंत्री की बड़ी लापरवाही का मामला सामने आया है। चिकित्सा व स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने मंगलवार (नवंबर 25, 2020) को RUHS अस्पताल का दौरा किया जबकि वह खुद कोरोना संक्रमित हैं। कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन करते हुए RUHS में वार्ड का दौरा करने वाले डॉ रघु शर्मा की कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुईं। 

दिलचस्प बात यह है कि स्वास्थ्य मंत्री का यह दौरा 8 माह में पहली बार हुआ है, वो भी तब जब वह खुद अस्पताल में भर्ती हैं। 23 नवंबर के IANS के ट्वीट के अनुसार, कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री को अस्पताल में भर्ती किया गया था।

इसके बाद वह वहाँ पहुँच कर अस्पताल से जुड़ी सेवाओं की मॉनिटरिंग करने लगे। उन्होंने पहले अस्पताल प्रशासन द्वारा कोरोना संक्रमितों को उपलब्ध कराई जाने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी ली और फिर कुछ दिशा-निर्देश भी दिए। 

इसके अतिरिक्त उन्होंने दूसरी और तीसरी मंजिल पर बनाए जा रहे नए 70 आईसीयू बेड का भी अवलोकन किया। वर्तमान में आरयूएचएस अस्पताल में 135 आईसीयू बैड हैं। उन्होंने बताया कि जल्द ही अस्पताल को 70 और नए बेड मिल जाएँगे और आईसीयू बेड्स की संख्या 205 हो जाएगी। उन्होंने बताया कि अस्पताल में वर्तमान में 1200 ऑक्सीजन बेड हैं और कोरोना संक्रमितों को बेहतर चिकित्सा सुविधाएँ उपलब्ध कराई जा रही है। 

जब उनसे दौरे के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “आरयूएचएस में पहले से सब पॉजिटिव हैं और मैं भी पॉजिटिव हूँ, इसलिए प्रश्न उठता है कि मुझसे कोरोना फैलेगा कैसे? मैं डॉक्टरों की सलाह के बाद इंतजामों को देखने गया था।”

डॉ रघु शर्मा का यह बयान आने के बाद सवाल उठाया जा रहा है कि क्या वह मानते हैं कि यदि वह संक्रमित हैं तो अस्पताल के डॉक्टर नर्स आदि सब संक्रमित हैं। लोगों का पूछना है कि थोड़ी सी पब्लिसिटी के लिए उन्होंने कोरोना नियमों की धज्जियाँ क्यों उड़ाई? यदि इससे स्टंटबाजी न कहा जाए तो क्या कहा जाए।

बता दें कि राजस्थान चिकित्सा मंत्री की तस्वीरों को यदि देखें को पता चलेगा कि कोविड वार्ड में जाते हुए न कॉन्ग्रेस नेता के पास पीपीई किट है और न ही डॉक्चरों के पास। सारे लोग सिर्फ कोरोना संक्रमित स्वास्थ्य मंत्री के पीछे घूम रहे हैं।

उनके इस स्टंट को देखने के बाद पूर्व स्वास्थ्य मंत्री राजेंद्र राठौड़ ने उन पर निशाना साधा है और उनके ख़िलाफ़ महामारी एक्ट लगाने की बात कही है। राठौड़ ने कहा कि हेल्थ मिनिस्टर ने पहले चुनावों में कोरोना प्रोटोकॉल को तोड़ा और अब दूसरों की जान को जोखिम में डाल रहे हैं। इनके ख़िलाफ़ महामारी एक्ट में कार्रवाई होनी चाहिए। वहीं खुद प्रोटोकॉल को ताक पर रखने वाले स्वास्थ्य मंत्री ने आमजन से हर कोरोना गाइडलाइड को पालन करने की अपील की है। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग और हाथ धोने के साथ मास्क के उपयोग को आवश्यक बताया है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPA के समय ही IB ने किया था आगाह, फिर भी PFI को बढ़ने दिया गया’: पूर्व मेजर जनरल का बड़ा खुलासा, कहा –...

PFI पर बैन का स्वागत करते हुए मेजर जनरल SP सिन्हा (रिटायर्ड) ने ऑपइंडिया को बताया कि ये संगठन भारतीय सेना के समांतर अपनी फ़ौज खड़ी कर रहा था।

‘सारे मुस्लिम युवकों को जेल में डाल दिया जाएगा, UAPA है काला कानून’: PFI बैन पर भड़के ओवैसी, लालू यादव और कॉन्ग्रेस MP

असदुद्दीन ओवैसी के लिए UAPA 'काला कानून' है। लालू यादव ने RSS को 'PFI सभी बदतर' कह दिया। कॉन्ग्रेसी कोडिकुन्नील सुरेश ने RSS को बैन करने की माँग की।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
224,793FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe