Article 370 हटाने का तरीका बेहतरीन रणनीति का नमूना: रजनीकांत

अपने फैंस में 'रजनी अन्ना' के नाम से प्रख्यात रजनीकांत ने कहा कि मोदी सरकार ने जिस तरह से पूरे मसले पर तैयारी की, वह 'मास्टर स्ट्रेटेजी' है। पहले उन्होंने (सरकार ने) धारा 144 लगा दी, ताकि लोगों मुसीबत न खड़ी करें। फिर उन्होंने बिल पहले राज्य सभा में रखा, जहाँ उन्हें बहुमत भी प्राप्त नहीं है।

सुपरस्टार और तमिल राजनीति के नवागंतुक रजनीकांत ने मोदी सरकार की अनुच्छेद 370 जम्मू-कश्मीर से हटाने के लिए अपनाई गई रणनीति की तारीफ़ की है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए इसे ‘मास्टर स्ट्रेटेजी’ करार दिया है।

‘पहले 144 लगाई ताकि हंगामा न हो’

अपने फैंस में ‘रजनी अन्ना’ के नाम से प्रख्यात रजनीकांत ने कहा कि मोदी सरकार ने जिस तरह से पूरे मसले पर तैयारी की, वह ‘मास्टर स्ट्रेटेजी’ है। पहले उन्होंने (सरकार ने) धारा 144 लगा दी, ताकि लोगों मुसीबत न खड़ी करें। फिर उन्होंने बिल पहले राज्य सभा में रखा, जहाँ उन्हें बहुमत भी प्राप्त नहीं है। और वहाँ से पास कराने के बाद उसे लोक सभा में पास कराया गया।

2016 में तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी से पद्म-विभूषण प्राप्त करने वाले रजनीकांत शुरू में (1995 में) कॉन्ग्रेस-समर्थक हुआ करते थे। बाद में जब 1996 में कॉन्ग्रेस ने अन्नाद्रमुक का हाथ थम लिया तो वे द्रमुक समर्थक हो गए। 2017 के अंत में राजनीति में आगमन करने वाले रजनीकांत ने घोषणा कर रखी है कि तमिल नाडु के आगामी 2021 विधानसभा चुनावों में उनकी पार्टी सभी 234 विधानसभा सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारेगी।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

नितिन गडकरी
गडकरी का यह बयान शिवसेना विधायक दल में बगावत की खबरों के बीच आया है। हालॉंकि शिवसेना का कहना है कि एनसीपी और कॉन्ग्रेस के साथ मिलकर सरकार चलाने के लिए उसने कॉमन मिनिमम प्रोग्राम का ड्राफ्ट तैयार कर लिया है।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

113,096फैंसलाइक करें
22,561फॉलोवर्सफॉलो करें
119,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: