Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिदावा 1 लाख का, आए 5000 भी नहीं: उड़ते तम्बुओं के बीच बोले टिकैत-...

दावा 1 लाख का, आए 5000 भी नहीं: उड़ते तम्बुओं के बीच बोले टिकैत- फिर टूटेंगे दिल्ली के बैरिकेड्स

रैली में भीड़ नहीं जुटने का दोष आयोजकों ने अंधड़ और खराब मौसम पर मढ़ दिया। वक्ताओं ने कहा कि भीड़ न होने से सरकार खुश होगी।

घटते समर्थन के बीच ‘भारतीय किसान यूनियन (BKU)’ के नेता राकेश टिकैत की बयानबाजी तेज हो गई है। उन्होंने धमकी दी है कि किसान फिर से दिल्ली जाएँगे और बैरिकेड तोड़ेंगे। उन्होंने मंगलवार (मार्च 23, 2021) को जयपुर की एक रैली में ये बातें कही। शुक्रवार को किसान संगठनों ने ‘भारत बंद’ का भी आह्वान किया है।

राकेश टिकैत ने दावा किया है कि तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ लड़ रहे किसान संगठन एक हैं और उनमें विभाजन जैसी कोई बात नहीं है। बता दें कि ‘किसान आंदोलन’ में राजनीति और इसके नेताओं की मंशा पर सवाल उठाते हुए कई संगठन इससे अलग हो गए हैं। पश्चिम बंगाल में वामपंथियों ने इससे किनारा कर लिया। राकेश टिकैत ने दावा किया कि केंद्र सरकार ने किसानों को धर्म व जाति के आधार पर विभाजित करने की कोशिश की, लेकिन असफल रही।

उन्होंने किसानों से कहा कि आपलोगों को दिल्ली जाकर फिर से बैरिकेडों को तोड़ना पड़ेगा। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उस बयान पर भी कटाक्ष किया, जिसमें उन्होंने कहा था कि नए कानूनों के तहत अब किसान अपनी फसल कहीं भी बेच सकते हैं। उन्होंने कहा कि किसान राज्यों की विधानसभाओं, सभी DM दफ्तरों और संसद भवन में बेच कर इसे सही साबित करेंगे, क्योंकि संसद से बेहतर भला कौन मंडी हो सकती है।

राजस्थान की राजधानी जयपुर के विद्याधर नगर स्टेडियम में टिकैत ने रैली की। कहने को तो ये ‘महापंचायत’ थी, लेकिन इसमें भीड़ ही नहीं थी। दावा 1 लाख की भीड़ जुटाने का किया गया था, लेकिन मुश्किल से 5000 लोग भी नहीं जुटे। आयोजकों ने अंधड़ और खराब मौसम पर सारा दोष मढ़ दिया और वक्ताओं ने कहा कि भीड़ न होने से सरकार खुश होगी।

रैली में भगदड़ सी स्थिति थी और एक व्यक्ति घायल भी हो गया। तंबू का पाइप एक युवक के सिर पर ही जा गिरा। राकेश टिकैत ने मोदी सरकार को किसान-विरोधी बताते हुए पूँजीपतियों के साथ समझौते करने के आरोप लगाया और कहा कि देश की जनता न जागी तो ये देश बेच कर चले जाएँगे। मंच पर कॉन्ग्रेस और भीम आर्मी के कई नेता जुटे। रैली की तैयारी करीब एक हफ्ते से चल रही थी, लेकिन फिर भी ये फ्लॉप रही।

इससे पहले बेंगलुरु के किसानों को भड़काते हुए टिकैत ने उन्हें दिल्ली की तर्ज पर पूरे शहर को घेरने को कहा था। उन्होंने कहा कि ये लड़ाई लंबी चलेगी और जब तक तीनों ‘काले कानून’ वापस नहीं हो जाते और MSP पर नया कानून नहीं आ जाता, तब तक हर शहर में ऐसे विरोध-प्रदर्शन शुरू करने होंगे। बता दें कि दिल्ली सीमा से अधिकतर किसान लौट चुके हैं और संगठनों के नेता अब भीड़ नहीं जुटा पा रहे हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कारगिल कमेटी’ पर कॉन्ग्रेस की कुण्डली: लोकतंत्र की सुरक्षा के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा राजनीतिक दृष्टिकोण का न हो मोहताज

हमें ध्यान में रखना होगा कि जिस लोकतंत्र पर हम गर्व करते हैं उसकी सुरक्षा तभी तक संभव है जबतक राष्ट्रीय सुरक्षा का विषय किसी राजनीतिक दृष्टिकोण का मोहताज नहीं है।

असम-मिजोरम बॉर्डर पर भड़की हिंसा, असम के 6 पुलिसकर्मियों की मौत: हस्तक्षेप के दोनों राज्‍यों के CM ने गृहमंत्री से लगाई गुहार

असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने ट्वीट कर बताया कि असम-मिज़ोरम सीमा पर तनाव में असम पुलिस के 6 जवानों की जान चली गई है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,362FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe