Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीतिकमलनाथ को बसपा विधायक रामबाई का अल्टीमेटम, 20 जनवरी तक का दिया समय

कमलनाथ को बसपा विधायक रामबाई का अल्टीमेटम, 20 जनवरी तक का दिया समय

मध्यप्रदेश के पथरिया की विधायक रामबाई ने कहा- "कॉन्ग्रेस की तरफ से मुझे मंत्री बनाने की वादा किया गया है, मैं 20 जनवरी तक इंतजार करूँगी।"

मध्यप्रदेश में सरकार बनाने के बाद कमलनाथ को पहली बार गठबंधन दल की तरफ से अल्टीमेटम दिया गया है। मध्यप्रदेश में इन दिनों सपा-बसपा की मदद से कॉन्ग्रेस की सरकार चल रही है। ऐसे में बसपा विधायक का अल्टीमेटम कमलनाथ सरकार के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है।

मध्यप्रदेश के पथरिया की विधायक रामबाई ने कहा, “कॉन्ग्रेस की तरफ से मुझे मंत्री बनाने की वादा किया गया है, मैं 20 जनवरी तक इंतज़ार करूँगी।” जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या उनके बयान को सरकार के लिए ख़तरे के संकेत के रूप में देखा जाए? इस सवाल के जवाब में रामबाई ने कहा कि सरकार को पता है कि उनकी सरकार अगले पाँच साल तक ऐसे ही चलेगी।

मध्यप्रदेश के 230 सीटों वाली विधानसभा में कॉन्ग्रेस के 114 सदस्य हैं जबकि भाजपा के 109 सदस्य हैं। सरकार को सपा और बसपा के दो, समाजवादी पार्टी के एक और चार निर्दलीय विधायकों का साथ है।

ऐसे में यदि सपा और बसपा के विधायक सरकार से समर्थन वापस ले लेते हैं, तो कमलनाथ के लिए बहुमत साबित कर पाना मुश्किल हो जाएगा।

विधानसभा स्पीकर के लिए सदन में हो-हल्ला

आज सदन में विधानसभा स्पीकर पद के लिए चुनाव होना है। मध्यप्रदेश में क़ॉन्ग्रेस और भाजपा दोनों ही दलों ने विधानसभा स्पीकर पद के लिए दावेदारी पेश कर दी है। ऐसा करके एक तरह से भाजपा सरकार का फ़्लोर टेस्ट भी कर लेना चाहती है।

यही वजह है कि आज जैसे ही विधानसभा की कार्यवाई शुरू हुई दोनों ही पक्ष और विपक्ष के नेताओं में बहस शुरू हो गई। विधानसभा के अंदर गहमागहमी को देखते हुए सदन को दो बार स्थगित करना पड़ा। स्पीकर पद के लिए भाजपा की तरफ से विजय शाह चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि कॉन्ग्रेस की तरफ से नर्मदा प्रसाद प्रजापति इस पद के लिए चुनाव लड़ रहे है।

भाजपा के लखन सिंह को हराकर रामबाई बनी विधायक

पथरिया विधानसभा से बसपा प्रत्याशी रामबाई गोविंद सिंह ने भाजपा के लखन पटेल को 2205 वोटों से हरा दिया है। रामबाई इससे पहले जिला पंचायत की सदस्य थी। विधायक बनने के बाद उन्हें अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा। जानकारी के लिए आपको बता दें कि जिला पंयाचत अध्यक्ष पद के लिए चुनाव में रामबाई ने भाजपा उम्मीदवार शिवचरण पटेल को समर्थन दिया था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe