Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीतिटीकाकरण अभियान से PM मोदी के मुरीद हुए शाह फैसल, भारत को बताया- जगत...

टीकाकरण अभियान से PM मोदी के मुरीद हुए शाह फैसल, भारत को बताया- जगत गुरु: लोगों ने पूछा- इसका फ्यूज कंडक्टर किसने निकाला?

मोहम्मद आसिफ खान ने शाह फैसल को 'सावरकर से भी बड़ा चमचा और जूते चाटने वाला' बता दिया। वहीं कुछ अन्य लोगों ने पूछा कि शाह फैसल का फ्यूज कंडक्टर किसने निकाल दिया?

कोरोना की वैक्सीन देने के मामले में भारत विश्व रिकॉर्ड बनाता हुआ दिख रहा है। शनिवार (जनवरी 16, 2021) को शुरू हुए वृहद और व्यापक टीकाकरण अभियान के 6 दिनों में ही टीका लेने वाले स्वास्थ्य कर्मचारियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स की संख्या 10 लाख पार कर गई है। जम्मू-कश्मीर के पूर्व IAS अधिकारी शाह फैसल भी अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुरीद होते दिख रहे हैं और उन्होंने भारत को ‘जगत गुरु’ की संज्ञा दी।

दरअसल, शुक्रवार (जनवरी 22, 2021) को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के कुछ स्वास्थ्य कर्मचारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बातचीत की, जिन्होंने टीकाकरण से जुड़े अपने अनुभव साझा किए। इसी वीडियो पर प्रतिक्रिया देते हुए शाह फैसल ने लिखा कि ये सिर्फ एक टीकाकरण अभियान ही नहीं है, बल्कि उससे कहीं ज्यादा है। लोग उनके इस बदले रवैये से हैरान दिखे।

शाह फैसल ने आगे लिखा, “ये सुशासन, मानव संसाधन का संगठन, राष्ट्र निर्माण और भारत के जगत गुरु के रूप में वैश्विक नेता के रूप में सामने आने- इन सबका गठजोड़ है।” वहीं कुछ मुस्लिमों ने उनके इस बयान पर उन्हें गालियाँ भी दी। मोहम्मद आसिफ खान ने शाह फैसल को ‘सावरकर से भी बड़ा चमचा और जूते चाटने वाला’ बता दिया। वहीं कुछ अन्य लोगों ने पूछा कि शाह फैसल का फ्यूज कंडक्टर किसने निकाल दिया?

वहीं कुछ लोग शेहला रशीद को भी टैग कर के पूछते नज़र आए कि शाह फैसल को क्या हुआ है? कुछ लोगों ने लिखा कि ये तो अंदर से संघी निकला। वहीं जम्मू-कश्मीर के कुछ मुस्लिमों ने उन पर धोखाधड़ी का आरोप मढ़ा। एक यूजर ने पूछा कि क्या उनकी तबीयत ठीक है? इरफ़ान नाम के यूजर ने लिखा कि उनके ट्विटर हैंडल के साथ-साथ दिमाग भी हैक हो चुका है। एक ने पूछा कि क्या उन्होंने ‘नागपुर वाली वैक्सीन’ ले ली है?

शाह फैसल को जून 2020 में 9 महीने की हिरासत के बाद रिहा किया गया था। वो दिल्ली एयरपोर्ट पर तुर्की भागते हुए पकड़े गए थे। वो तुर्की जाकर वहाँ अनुच्छेद-370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के मोदी सरकार के फैसले को अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाना चाहते थे। शाह फैसल ने राजनीतिक पार्टी भी बनाई थी, जिसमें शेहला रशीद सरीखे लोग शामिल हुए थे। हालाँकि, ये राजनीतिक पार्टी चल नहीं सकी और फुस्स हो गई।

भारत में अब तक 13 लाख लोगों को कोरोना के टीके दिए जा चुके हैं। इससे पहले अमेरिका में 10 दिनों में 10 लाख का आँकड़ा पार हुआ था। इस हिसाब से ये दुनिया का सबसे तेज़ कोरोना टीकाकरण अभियान है। यूके में तो एक सप्ताह में मात्र 1.3 लाख को ही वैक्सीन दिए गए थे। पूरी दुनिया में 5.7 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है। इजरायल ने अपने देश में 38% लोगों का टीकाकरण कर दिया है।

अगस्त 2020 में शाह फैसल ने कहा था कि जम्मू कश्मीर की राजनीतिक वास्तविकता अब पूरी तरह बदल गई है और वो राज्य के लोगों को कल्पनायुक्त और अव्यावहारिक सपने नहीं दिखाना चाहते। उन्होंने कहा था कि उनके बारे में एक धारणा बना दी गई है कि वे देशद्रोही हैं। पूर्व IAS अधिकारी ने कहा था कि पिछले कुछ सालों में उनके समस्यात्मक बयानों के कारण उनके देशविरोधी होने की बात कही गई।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

मुस्लिम फल विक्रेताओं एवं काँवड़ियों वाले विवाद में ‘थूक’ व ‘हलाल’ के अलावा एक और पहलू: समझिए सच्चर कमिटी की रिपोर्ट और असंगठित क्षेत्र...

काँवड़ियों के पास ये विकल्प क्यों नहीं होना चाहिए, अगर वो सिर्फ हिन्दू विक्रेताओं से ही सामान खरीदना चाहते हैं तो? मुस्लिम भी तो लेते हैं हलाल?

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -