Saturday, July 20, 2024
HomeराजनीतिRLD ने क्यों चुनाव आयोग से कहा, हेमा मालिनी के विज्ञापनों पर रोक लगाई...

RLD ने क्यों चुनाव आयोग से कहा, हेमा मालिनी के विज्ञापनों पर रोक लगाई जाए

उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकटेश्वरलु से संपर्क कर मीडिया ने इस मामले की प्रगति जाननी चाही तो उन्होंने आश्वासन दिया कि मामले का जल्दी-से-जल्दी निपटारा कर दिया जाएगा।

हेमा मालिनी के ब्रांड प्रचार विज्ञापनों के खिलाफ रालोद चुनाव आयोग पहुँच गया है। उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकटेश्वरलु को लिखे पत्र में रालोद प्रवक्ता अनिल दुबे ने यह माँग रखी है।

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के मथुरा लोकसभा क्षेत्र की वर्तमान सांसद और आगामी लोकसभा चुनावों में इसी सीट से प्रत्याशी हेमा मालिनी जानी-मानी अभिनेत्री और नृत्यांगना भी हैं, और इसी नाते केंट नामक आरओ वॉटर प्यूरीफायर बनाने वाली कंपनी ने उन्हें इस उत्पाद के प्रचार के लिए अनुबंधित किया हुआ है।

अपने पत्र में हेमा मालिनी को दिखाने वाले केंट के विज्ञापनों का जिक्र करते हुए अनिल दुबे ने इन्हें चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन बताया है। उन्होंने यह भी माँग की कि या तो इन विज्ञापनों पर रोक लगाई जाए, या इनके प्रसारण का खर्च हेमा मालिनी के चुनावी खर्च में शामिल कर दिया जाए।

उत्तर प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी एल वेंकटेश्वरलु से संपर्क कर मीडिया ने इस मामले की प्रगति जाननी चाही तो उन्होंने आश्वासन दिया कि मामले का जल्दी-से-जल्दी निपटारा कर दिया जाएगा।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

घुमंतू (खानाबदोश) पूजा खेडकर: जिसका बाप IAS, वो गुलगुलिया की तरह जगह-जगह भटक बिताई जिंदगी… इसी आधार पर बन गई MBBS डॉक्टर

पूजा खेडकर ने MBBS में नाम लिखवाने से लेकर IAS की नौकरी पास करने तक में नाम, उम्र, दिव्यांगता, अटेंप्ट और आय प्रमाण पत्र में फर्जीवाड़ा किया।

फैक्ट चेक’ की आड़ लेकर भारत में ‘प्रोपेगेंडा’ फैलाने की तैयारी कर रहा अमेरिका, 1.67 करोड़ रुपए ‘फूँक’ तैयार कर रहा ‘सोशल मीडिया इन्फ्लूएंसर्स’...

अमेरिका कथित 'फैक्ट चेकर्स' की फौज को तैयार करने की योजना को चतुराई से 'डिजिटल लिटरेसी' का नाम दे रहा है, लेकिन इनका काम होगा भारत में अमेरिकी नरेटिव को बढ़ावा देना।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -